Skip to main content

■ युवाओं की रचनात्मक ऊर्जा का उपयोग राष्ट्र के निर्माण में होना वर्तमान समय की आवश्यकता - डॉ. मोहन यादव, उच्च शिक्षा मंत्री, मध्यप्रदेश शासन ■ नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति से युवाओं को लाभ मिलेगा - पारस चन्द्र जैन, विधायक, पूर्व मंत्री, मध्यप्रदेश शासन ■ विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के उन्नयन में सबकी सहभागिता मिल रही है - कुलपति प्रो.अखिलेश कुमार पाण्डेय ◆ विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन में नवनिर्मित भवन का लोकार्पण कार्यक्रम सम्पन्न ◆ उच्च शिक्षा मंत्री ने विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन परिसर में नवीन भवन निर्माण के लिये 10 करोड़ रुपये देने की घोषणा की

■ युवाओं की रचनात्मक ऊर्जा का उपयोग राष्ट्र के निर्माण में होना वर्तमान समय की आवश्यकता - डॉ. मोहन यादव, उच्च शिक्षा मंत्री, मध्यप्रदेश शासन

■ नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति से युवाओं को लाभ मिलेगा - पारस चन्द्र जैन, विधायक, पूर्व मंत्री, मध्यप्रदेश शासन 

■ विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के उन्नयन में सबकी सहभागिता मिल रही है - कुलपति प्रो.अखिलेश कुमार पाण्डेय

◆ विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन में नवनिर्मित भवन का लोकार्पण कार्यक्रम सम्पन्न

◆ उच्च शिक्षा मंत्री ने विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन परिसर में नवीन भवन निर्माण के लिये 10 करोड़ रुपये देने की घोषणा की




उज्जैन 15 जुलाई। मध्यप्रदेश सरकार के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति के बारे में अपने विचार प्रकट करते हुए कहा कि युवाओं की रचनात्मक ऊर्जा का उपयोग राष्ट्र के निर्माण में होना वर्तमान समय की आवश्यकता है। विद्या किसी राष्ट्र की संस्कृति का संरक्षण, संवर्धन ही नहीं करती, अपितु एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में संस्कारों का हस्तांतरण भी करती है। शिक्षा ग्रहण कर मनुष्य जीवनपर्यन्त समाज को आगे बढ़ाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान देता है।


उक्त विचार उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव ने विक्रम विश्वविद्यालय के नवनिर्मित भवन के लोकार्पण कार्यक्रम के साथ हुई परिचर्चा के अवसर पर व्यक्त किये। विश्वविद्यालय के नवनिर्मित  भवन की लागत पांच करोड़ रुपये है। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.यादव ने कहा कि हमारे राष्ट्र निर्माताओं ने ऐतिहासिक नगरी उज्जयिनी (वर्तमान नाम - उज्जैन) में शिक्षा व अनुसंधान के रूप में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन की परिकल्पना एक महान विद्यापीठ के रूप में की थी। उन्होंने विक्रम विश्वविद्यालय के द्वारा सफलता एवं उपलब्धियों के नये-नये आयाम हासिल करने पर विश्वविद्यालय परिवार को शुभकामनाएं भी दी। राष्ट्रीय शिक्षा नीति पर अपने विचार व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि 21वी सदी की प्रथम शिक्षा नीति राष्ट्रीय शिक्षा नीति है। इसका लक्ष्य हमारे देश के विकास के लिये अनिवार्य आवश्यकताओं को पूरा करना है। शिक्षा नीति में भारत की महान प्राचीन परम्परा तथा उसके सांस्कृतिक मूल्यों को आधार बनाया गया है। मध्यप्रदेश राज्य सरकार के उच्च शिक्षा विभाग राष्ट्रीय शिक्षा नीति के क्रियान्वयन में अपनी भूमिका पूरी निष्ठा के साथ निभा रहा है और विक्रम विश्वविद्यालय नई शिक्षा नीति के परिपालन में अग्रणी सहभागिता कर रहा है।


उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.यादव ने इस अवसर पर विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन परिसर में विभिन्न विषयों के शिक्षण के लिये एक और नवीन भवन निर्माण के लिये 10 करोड़ रुपये देने की घोषणा की। उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा कि विक्रम विश्वविद्यालय में विभिन्न प्रकार के नवीन पाठ्यक्रम प्रारम्भ किये जायेंगे। इन पाठ्यक्रमों से जहां हम आत्मनिर्भर भारत की ओर कदम बढ़ाने के लिये तत्पर होंगे, वहीं इनसे कौशल संवर्धन की दिशा में महत्वपूर्ण संभावनाएं साकार होंगी। रोजगारोन्मुखी पाठ्यक्रम वर्तमान दौर की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि उज्जैन औद्योगिक नगरी के रूप में विकसित हो रहा है और इसका लाभ उठाकर विक्रम विश्वविद्यालय कई नवीन पाठ्यक्रम प्रारम्‍भ करने जा रहा है। नवीन पाठ्यक्रम विद्यार्थियों की प्रतिभा और कौशल के संवर्धन के साथ रोजगार प्राप्त करने में सहायक सिद्ध होंगे। अतिथियों ने विश्वविद्यालय के प्रवेश पोस्टर का लोकार्पण भी किया।



नवनिर्मित भवन के लोकार्पण कार्यक्रम के अवसर पर मध्यप्रदेश सरकार के पूर्व मंत्री एवं वर्तमान विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने भी अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेश के साथ-साथ उज्जैन में आये-दिन विकास से क्षेत्रवासियों को लाभ मिल रहा है। उन्होंने कहा कि, नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति से युवाओं को लाभ मिलेगा। कोरोना महामारी से बचना आवश्यक है। प्रत्येक व्यक्ति सावधानी बरते और सरकार की गाईड लाइन का अनिवार्य रूप से पालन करे। 

विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो.अखिलेश कुमार पाण्डेय ने भी अपने विचार व्यक्त कर कहा कि, विक्रम विश्वविद्यालय के उन्नयन में सबकी सहभागिता मिल रही है। विश्वविद्यालय में इन्क्यूबेशन सेन्टर की स्थापना 2021 अप्रैल माह से की जा चुकी है। स्टार्टअप को प्रारम्भ करने के लिये प्रयास भी प्रारम्भ हो चुके हैं। राष्ट्रीय शिक्षा नीति लागू होने से छात्रों को लाभ मिलने के साथ-साथ रोजगार के अवसर भी मिलेंगे। प्राचीन नगरी उज्जयिनी में गुरूकुल की परम्परा थी। भारत सरकार ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति लागू कर शिक्षा व्यवस्था में परिवर्तन किया है, वह प्रशंसनीय है। शिक्षा के साथ विश्वविद्यालय में रोजगारोन्मुखी कोर्स चालू किये हैं, इससे छात्रों को लाभ मिलेगा। कुलपति ने कहा कि विक्रम विश्वविद्यालय में विभिन्न प्रकार के पाठ्यक्रम एवं केन्द्र खोले जाना प्रस्तावित है। प्रारम्भ में विक्रम विश्वविद्यालय के कुल सचिव डॉ.प्रशांत पौराणिक ने स्वागत भाषण दिया। अतिथियों ने कार्यक्रम के पूर्व पांच करोड़ रुपये की लागत से बने नवनिर्मित भवन का विधिवत लोकार्पण कर भवन का अवलोकन किया। अतिथियों ने नवीन भवन की प्रशंसा की।


लोकार्पण के बाद कार्यक्रम में अतिथियों का स्वागत विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.पाण्डेय, कुल सचिव डॉ.पौराणिक, उच्च शिक्षा विभाग के अतिरिक्त संचालक श्री आरसी जाटवा, विभिन्न संकायों के विभागाध्यक्षों, प्रोफेसरों एवं विद्यार्थियों की ओर से शुभम चौऋषिया ने किया। कार्यक्रम के प्रारम्भ में अतिथियों ने माँ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर विक्रम विश्वविद्यालय की कार्य परिषद के सदस्य श्री राजेश कुशवाह, सुश्री ममता बैंडवाल, भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी श्री राधेश्याम चौऋषिया आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन विक्रम विश्वविद्यालय के कुलानुशासक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा ने किया और अन्त में आभार श्री सत्येंद्र किशोर मिश्रा ने प्रकट किया।




Comments

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा सितंबर में आयोजित परीक्षाओं के लिए उत्तर पुस्तिका संग्रहण केंद्रों की सूची जारी

उज्जैन। स्नातक एवं स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष या अंतिम सेमेस्टर की ओपन बुक पद्धति से होने वाली परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं के संग्रहण केंद्रों की सूची विक्रम विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर अपलोड कर दी गई है। संपूर्ण परिक्षेत्र के 7 जिलों में कुल 395 संग्रहण केंद्र बनाए गए हैं। कुलानुशासक, डॉ. शैलेंद्र कुमार शर्मा जी ने जानकारी देते हुए बताया कि, विद्यार्थीगण विश्वविद्यालय की वेबसाइट से संग्रहण केंद्रों की सूची देख सकते हैं। http://vikramuniv.ac.in/examination-notification/ सूची संलग्न दी जा रही है।