Skip to main content

औषधीय पौधे अधिक से अधिक लगाएं ताकि सब स्वस्थ रहे : विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ; धन्वन्तरि महाविद्यालय परिसर में वृहद्‌ पौधारोपण कार्यक्रम सम्पन्न

औषधीय पौधे अधिक से अधिक लगाएं ताकि सब स्वस्थ रहे : विधायक श्री पारस चन्द्र जैन

धन्वन्तरि महाविद्यालय परिसर में वृहद्‌ पौधारोपण कार्यक्रम सम्पन्न

 

उज्जैन। शासकीय धन्वन्तरि आयुर्वेद महाविद्यालय, उज्जैन के मंगलनाथ मार्ग स्थित महाविद्यालय परिसर के वनोषधि उद्यान में दिनांक 27.06.2021 को वृहद्‌ पौधारोपण कार्यकम आयोजित किया गया जिसमें नगर के प्रतिष्ठित बंसल परिवार की ओर से 1000 पौधे वृक्षारोषण हेतु दान स्वरूप दिए गए।

प्रधानाचार्य डॉ. जे.पी. चौरसिया ने जानकारी देते हुए बताया कि महाविद्यालय में माननीय सोनू गेहलोत जी, पूर्व निगम सभापति, नगर पालिक निगम, उज्जैन के विशेष सहयोग एवं श्री राजेन्द्र बंसल, श्री प्रतीक बंसल एवं समस्त बंसल परिवार, दानीगेट, उज्जैन  की ओर से अपने पूर्वजों की स्मृति में 1000 औषधीय पौधे दान स्वरूप दिए गए, इनमें मुख्य रूप से अर्जुन, अमलतास, नीम, पाकड़, सहजन, मौलश्री, भद्राक्ष, कतिरा, महुआ आदि औषधीय उपयोग के पौधों का रोपण किया गया । 



इस कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में श्री पारस चन्द्र जी जैन, विधायक उज्जैन उत्तर, श्री विभाष उपाध्याय, उपाध्यक्ष - मध्यप्रदेश जन अभियान परिषद, श्री सोनू गेहलोत, अध्यक्ष नगर पालिका निगम, उज्जैन , श्री ओम जैन , अध्यक्ष फार्मेसी काउंसिल, झोन क्र.1 की अध्यक्ष सुश्री विनिता शर्मा एवं बंसल परिवार से कई सदस्यों के साथ-साथ महाविद्यालय के अधिकारी-कर्मचारी तथा छात्र-छात्राओं ने पौधरोपण किया। 

अपने उद्बोधन में माननीय पारस जैन ने वृक्षारोपण कार्यकम की सराहना करते हुए कहा कि महाविद्यालय परिवार इन पौधों की सुरक्षा करें तथा पर्यावरण को बनाए रखने में अपनी भूमिका का लिन करें। श्री विभाष उपाध्याय ने वृक्षारोपण कर कार्यकम के सफल आयोजन की प्रशंसा की, इसी क्रम में श्री सोनू गेहलोत ने बंसल परिवार की भूरि-भूरि प्रशंसा करते हुए कहा कि अपने पूर्वजों की स्मृति को चिरस्थायी बनाने के लिए एक हजार पौधे दान स्वरूप प्रदान किए, ऐसे ही अन्य लोगों को प्रेरित होकर पौधारोपण में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेना चाहिए ताकि शहर का पर्यावरण प्रदूषणमुक्त हो सके। इस अवसर पर श्री ओम जैन ने भी वृक्षारोपण किया तथा कार्यकम की प्रशंसा की । इस अवसर पर संस्था के भूतपूर्व प्रधानाचार्य डॉ. श्यामलाल शर्मा एवं डॉ. डी.के. खरे विशेष रूप से उपस्थित रहे। 

डॉ. जे.पी. चौरसिया ने एक अन्य जानकारी में बताया कि माननीय आयुष मंत्री महोदय एवं श्रीमान प्रमुख सचिव सह आयुक्त महोदय संचालनालय आयुष म.प्र. भोपाल द्वारा विभागीय समीक्षा बैठक के दौरान दिए गए निर्देश के परिपालन में वनौषधि उद्यान विकसित किया जाए जिसके तहत द्रव्यगुण विभाग द्वारा विशाल वृक्षारोपण कार्यकम में एम.डी. अध्येता, हाउस फिजिशियन, इंटर्न, छात्र-छात्राएं एवं अधिकारी / कर्मचारियों ने भी उत्साह के साथ वृक्षारोपण किया।

कार्यकम के आयोजन की तैयारी द्रव्यगुण विभाग के डॉ. सुनीता डी. राम, डॉ. शिरोमणि मिश्रा, डॉ. रवीन्द्र शर्मा, डॉ. रीता मालवीय, डॉ. शिव कुमार मिश्रा द्वारा की गई तथा राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के डॉ. जितेन्द्र जैन ने आयोजन में सहयोग प्रदान किया। कार्यकम का आभार डॉ. वेदप्रकाश व्यास ने किया। इस अवसर पर डॉ. ओ.पी. व्यास, डॉ. सिद्धेश्वर सतुआ, डॉ. नृपेन्द्र मिश्र, डॉ. अजय कीर्ति जैन, डॉ. नरेश जैन, डॉ. योगेश वाणे, डॉ. दिवाकर पटेल, डॉ. मुकेश गुप्ता, डॉ. वंदना सराफ, डॉ. जोगेन्दर कौर छाबड़ा, डॉ. रामतीर्थ शर्मा, डॉ. गीता जाटव, डॉ. प्रकाश जोशी, डॉ. राजेश उईके, डॉ. सुनीता मंडलोई, डॉ. मनोज बघेल, डॉ. निधि दुबे, डॉ. दीपक नायक, डॉ. हेमंत मालवीय, डॉ. सुनील पाटीदार, डॉ. सतराम कुमावत, डॉ. अनिल पाण्डे, डॉ, राजेश जोशी आदि तथा चिकित्सालय एवं महाविद्यालय के कर्मचारी गण उपस्थित थे।


Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक