Skip to main content

प्राणिकी एवं जैव प्रौद्योगिकी अध्ययनशाला विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन द्वारा मौखिक स्वच्छता पर राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन

उज्जैन: दातो एवं मसूड़ों को स्वच्छ रखने के लिए प्राणिकी एवं जैव प्रौद्योगिकी अध्ययनशाला, विक्रम विद्यालय उज्जैन द्वारा राष्ट्रीय वेबिनार का आयोजन दिनांक 22/06/21 को किया गया जिसमे देश के लगभग 600 से अधिक व्यक्तिओ ने भाग भाग लिया । 

कोविड-19 संकटकालीन समय में मौखिक स्वच्छता को बनाये रखने के उदेशय से प्राणिकी एवं जैव प्रौद्योगिकी अध्ययनशाला, विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन द्वारा राष्ट्रीय वेबिगार का आयोजन दिनांक 22/06/21 को किया गया, जिसमे देश के लगभग 600 से अधिक व्यक्तिओ ने भाग लिया ।  कार्यक्रम के प्रमुख वक्ता डॉ अंकित पांडेय भोपाल, डॉ बिना शिवकुमार चेन्नई एवंम डॉ निशांत श्रीवास्तव जबलपुर से थे। 

कार्यक्रम के अध्यक्षी उतभोधन में विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अखिलेश कुमार पांडेय ने बताया की मुँह व दातो को साफ व सेहतमंद रखकर सम्बंधित रोगो को दूर रखना ओरल हाइजीन कहलाता है। कोविड-19 के समय में यदि मौखिक स्वछता का धयान नहीं रखा गया तो दातो एवं मसूड़ों से सम्बंधित कई बीमारियों एवंम संक्रमण की सम्भावनाये होती है, अतः नियमित रूप से ब्रश करके जीब की सफाई करने और माउथवाश के उपयोग द्वारा ओरल हाइजीन को बनाये रखा जा सकता है। 

कार्यक्रम के मुख्य वक्ता डॉ अंकित पांडेय ने मौखिक स्वछता के महत्त्व को समझते हुए अच्छी एवं ख़राब मौखिक स्वछता पर प्रकाश डाला, और यह भी बताया की किस प्रकार से ख़राब मौखिक स्वछता स्वास्थ को प्रभावित करती है और कई प्रकार की नयी-नयी बिमारिओ की जनक होती है।  उन्होंने कई ऐसे तरीके बताये जिनसे मौखिक स्वछता को बनाये रखा जा सकता है, जिनमे सर्वप्रथम उन्होंने सही तरीके से ब्रश करने की विधि का वर्णन किया एवं उन्होंने अपनी टीम द्वारा किये जा रखे मौखिक स्वछता जागरूपता अभियान का भी विवरण दिया। 

कार्यक्रम की दूसरी प्रमुख वक्ता डॉ बिना शिवकुमार ने मुकरमाइकोसिस के बारे में समझते हुए उसके शरीर में प्रवेश करने से लेकर उसके द्वारा शरीर में पड़ने वाले प्रभावों के बारे में बताया।  उन्होंने मुकरमाइकोसिस से बचने के तरीको और उसे पहचानने के तरीको पर भी प्रकाश डाला और सभी को इस सत्य से भी अवगत कराया की मुकरमाइकोसिस मुँह के द्वारा ही प्रवेश करता है और धीरे-धीरे सम्पूर्ण शरीर में फेल जाता है। 

कार्यक्रम के अन्य प्रमुख वक्ता डॉ निशांत श्रीवास्तव ने ओरल प्रोस्थेसिस में हाइजीन मेंटेनेंस के महत्त्व्को समझाया उन्होंने दातो में उपस्थित कवीटीएस के बीच ब्रश करने के महत्त्व को बताते हुए उसकी जरुरत को समझाया।  उन्होंने इस सत्य पर भी प्रकाश डाला की हमारे देश में दातो की समस्या पर जयादा ध्यान नहीं दिया जाता, जबकि यही लापरवाई कई और बीमारियों को जनम देती है, अत: हमे अपनी मौखिक स्वछता का धयान रखते हुए लगातार डेंटिस्ट के संपर्क में रहना चाहिए और छोटी से छोटी दातो की समस्या पर भी ध्यान देना चाहिए। 

राष्ट्रीय वेबिनार में प्रोफेसर लता भट्टाचार्य विभागाध्यक्ष प्राणिकी एवं जैव प्रौद्योगिकी अध्ययनशाला द्वारा अतिथियों का स्वागत भाषण किया गया, कार्यक्रम का संचालन डॉ शिवि भसीन द्वारा किया गया तथा आभार डॉ गरिमा शर्मा द्वारा दिया गया।  इस अवसर पर डॉ सलिल सिंह, डॉ अरविन्द शुक्ला, डॉ संतोष कुमार ठाकुर, डॉ स्मिता सोलंकी, डॉ उपस्थित रहे तथा उन्होंने कार्यक्रम के सफल आयोजन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। 

Comments

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा सितंबर में आयोजित परीक्षाओं के लिए उत्तर पुस्तिका संग्रहण केंद्रों की सूची जारी

उज्जैन। स्नातक एवं स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष या अंतिम सेमेस्टर की ओपन बुक पद्धति से होने वाली परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं के संग्रहण केंद्रों की सूची विक्रम विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर अपलोड कर दी गई है। संपूर्ण परिक्षेत्र के 7 जिलों में कुल 395 संग्रहण केंद्र बनाए गए हैं। कुलानुशासक, डॉ. शैलेंद्र कुमार शर्मा जी ने जानकारी देते हुए बताया कि, विद्यार्थीगण विश्वविद्यालय की वेबसाइट से संग्रहण केंद्रों की सूची देख सकते हैं। http://vikramuniv.ac.in/examination-notification/ सूची संलग्न दी जा रही है।