Skip to main content

श्री कृष्णाजीराव पवार शासकीय स्नातकोत्तर अग्रणी महाविद्यालय देवास में स्नातक तृतीय वर्ष (नियमित / स्वाध्यायी / पूर्व / पूरक प्राप्त) एवं स्नातकोत्तर स्तर चतुर्थ सेमेस्टर (नियमित / स्वाध्यायी / पूर्व / एटीकेटी प्राप्त) की (खुली किताब परीक्षा प्रणाली) परीक्षा के संबंध में अग्रणी महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.एस.एल.वरे द्वारा आहूत बैठक में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति डॉ.ए.के.पाण्डेय एवं अतिरिक्त संचालक, उच्च शिक्षा उज्जैन संभाग उज्जैन डॉआर.सी.जाटवा ने भागीदारी की ।

देवास (नि.प्र.) - श्री कृष्णाजीराव पवार शासकीय स्नातकोत्तर अग्रणी महाविद्यालय देवास में स्नातक तृतीय वर्ष (नियमित / स्वाध्यायी / पूर्व / पूरक प्राप्त) एवं स्नातकोत्तर स्तर चतुर्थ सेमेस्टर (नियमित / स्वाध्यायी / पूर्व / एटीकेटी प्राप्त) की (खुली किताब परीक्षा प्रणाली) परीक्षा के संबंध में अग्रणी महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.एस.एल.वरे द्वारा आहूत बैठक में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति डॉ.ए.के.पाण्डेय एवं अतिरिक्त संचालक, उच्च शिक्षा उज्जैन संभाग उज्जैन डॉआर.सी.जाटवा ने भागीदारी की | इस बैठक में देवास जिले के समस्त शासकीय एवं अशासकीय महाविद्यालय के प्राचार्यो एवं परीक्षा प्रभारी उपस्थित थे । महाविद्यालय के संस्कार हॉल में आयोजित बैठक में कुलपति डॉ.पाण्डेय द्वारा विश्वविद्यालयीन परीक्षा के सफल संचालन, उत्तरपुस्तिकाओं का एकत्रीकरण, उनका मूल्यांकन एवं परीक्षा परिणाम को शीघ्र अति शीघ्र तैयार करने के बारे में विस्तृत चर्चा की गई |

देवास महाविद्यालय में कुलपति प्रो पांडेय जी का स्वागत करते हुए प्राचार्य


डॉ.पाण्डेय ने अपने उद्बोधन में प्राध्यापकों में आपसी समानता बनाये रखने पर बल देते हुए कहा कि शोध के बिना शिक्षक जीवन अधूरा है, आप कितने भी वरिष्ठ हो सकते है किन्तु शोध कार्य के बिना शिक्षा के विकास में योगदान असंभव है इसलिये किसी भी महाविद्यालय में शोध-केन्द्र प्रारंभ करने के लिये उनके प्रस्ताव एवं आवेदन सहर्ष आमंत्रित है | साथ ही शोध-केन्द्र प्रारंभ करने में लगने वाला शुल्क भी कम करने के लिये शुल्क समिति द्वारा शुल्क का पुनरीक्षण कार्य प्रगति पर है | महाविद्यालय सीधे तौर पर मुझसे संपर्क कर अपनी समस्याओं का निराकरण प्राप्त कर सकते है । उन्होंने महाविद्यालय के वरिष्ठ प्राध्यापक डॉ.एस.पी.एस.राणा को अंग्रेजी विषय में डी.लिट्‌. उपाधि प्राप्त करने पर बधाई एवं शुभकामनाएं प्रदान की तथा विभिन्‍न स्तरों पर डॉअजय काले द्वारा मास्टर ट्रेनर का कार्य संपन्‍न कराने हेतु भी बधाईयां दीं | इसी अनुक्रम में प्रोःसंजय गाड़गे की पीएच. डी. की मौखिकी शीघ्र करवाने का भी आश्वासन दिया | चलते-चलते विद्यार्थियों ने उनसे मुलाकात कर जो समस्या उनके समक्ष रखी उसका निराकरण भी किया |

डॉ.आर.सी.जाटवा, अतिरिक्त संचालक ने प्राचार्यों को संबोधित करते हुए कहा कि समस्त महाविद्यालय एकता एवं समयबद्धता का परिचय देते हुए परीक्षा के कार्य को प्राथमिकता से लें, साथ ही कोविड-19 के प्रोटोकॉल का भी पूर्णतः पालन करें एवं स्वयं को सुरक्षित रखें । परीक्षा के विभिन्‍न चरणों पर प्रकाश डालते हुए उन्होंने आह्वान किया कि किसी भी विद्यार्थी की उत्तरपुस्तिका प्राप्त न होने पर संबंधित महाविद्यालय विशेष रूचि लेकर विद्यार्थी से संपर्क करे ताकि “खुली किताब पद्धति” से होने वाली इस परीक्षा के मूल्यांकन से वह वंचित न रहे । उन्होंने भी महाविद्यालयों में शोध-केन्द्र प्रारंभ करने हेतु बल दिया | इनके साथ डॉ.के.एम.शर्मा भी बैठक में उपस्थित रहे |

अग्रणी प्राचार्य डॉ.एस.एल.वरे ने शिक्षक की भूमिका एवं शोध पर प्रकाश डालते हुए आप जाल साझा किये और बताया कि उन्होंने 21 पीएच.डी. का सफल निर्देशन किया है तथा वर्तमान में 05 का वे निर्देशन कर रहे हैं । वर्तमान में महाविद्यालय में 03 विषयों में शोध केन्द्र है तथा 02 विषयों में शोध केन्द्र और प्रारंभ किये जायेगें ताकि विद्यार्थियों को बाहर जाकर शोध कार्य हेतु अधिक व्यय न करना पड़े । बैठक के अंत में डॉ.पाण्डेय द्वारा प्राचार्यो की ओर से जिज्ञासाएं आमंत्रित की गई एवं उनका समाधान किया गया |

इस अवसर पर देवास जिले के शासकीय एवं अशासकीय महाविद्यालयों के प्राचार्य यथा डॉ.अजय कुमार चौहान, डॉ.वंदना मिश्रा, डॉ.एन.के. श्रीवास्तव, डॉ.पी.मूंदडा, डॉ.पुष्पलता मिश्रा, डॉ.अर्चना श्रीवास्तव, डॉ.अभय जैन, प्रो. बी.एस.पटेल, प्रो.बृजेश प्रसाद, प्रोः.संजय खेड़े आदि उपस्थित थे | साथ ही श्री किशोर चौधरी, श्री जितेन्द्र राजपूत एवं जितेन्द्र यादव ने बैठक के आयोजन में अमूल्य सहयोग दिया । बैठक के अंत में डॉ.पाण्डेय एवं डॉ. जाटवा ने डॉ.एस.पी.एस.राणा द्वारा रचित कविता संकलन “मंथन” का विमोचन किया एवं अग्रणी महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.एस.एल.वरे द्वारा अतिथिद्दय को स्मृति चिन्ह भेंट किये गये ।


बैठक का संचालन एवं आभार डॉ.एस.पी.एस.राणा ने किया ।

Comments

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा सितंबर में आयोजित परीक्षाओं के लिए उत्तर पुस्तिका संग्रहण केंद्रों की सूची जारी

उज्जैन। स्नातक एवं स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष या अंतिम सेमेस्टर की ओपन बुक पद्धति से होने वाली परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं के संग्रहण केंद्रों की सूची विक्रम विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर अपलोड कर दी गई है। संपूर्ण परिक्षेत्र के 7 जिलों में कुल 395 संग्रहण केंद्र बनाए गए हैं। कुलानुशासक, डॉ. शैलेंद्र कुमार शर्मा जी ने जानकारी देते हुए बताया कि, विद्यार्थीगण विश्वविद्यालय की वेबसाइट से संग्रहण केंद्रों की सूची देख सकते हैं। http://vikramuniv.ac.in/examination-notification/ सूची संलग्न दी जा रही है।