Skip to main content

भारतीय जनमानस गंगा का रूप देखता है नदियों और जल स्रोतों में – प्रो. शर्मा ; भारतीय साहित्य और संस्कृति में नदियों की महिमा और संरक्षण के उपाय पर अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी में हुआ मंथन

भारतीय जनमानस गंगा का रूप देखता है नदियों और जल स्रोतों में – प्रो. शर्मा 

भारतीय साहित्य और संस्कृति में नदियों की महिमा और संरक्षण के उपाय पर अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी में हुआ मंथन  


देश की प्रतिष्ठित संस्था राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना द्वारा अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी भारतीय साहित्य और संस्कृति में नदियों की महिमा और संरक्षण के उपाय पर केंद्रित थी। संगोष्ठी के मुख्य अतिथि विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कला संकायाध्यक्ष प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा थे। आयोजन के विशिष्ट अतिथि हिंदी परिवार के अध्यक्ष वरिष्ठ साहित्यकार श्री हरेराम वाजपेयी, इंदौर, प्रो विमल चन्द्र जैन, इंदौर, प्रवासी साहित्यकार श्री सुरेश चंद्र शुक्ल शरद आलोक, ओस्लो, नॉर्वे, श्रीमती सुवर्णा जाधव, मुंबई, डॉ गरिमा गर्ग, पंचकूला एवं महासचिव डॉक्टर प्रभु चौधरी थे। अध्यक्षता प्राचार्य डॉ शहाबुद्दीन नियाज मोहम्मद शेख, पुणे ने की। संगोष्ठी का सूत्र संयोजन श्रीमती लता जोशी, मुंबई ने किया। 

मुख्य अतिथि विक्रम विश्वविद्यालय के हिंदी विभागाध्यक्ष प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा ने कहा कि नदी जल संरक्षण का प्रथम उदाहरण गंगा नदी के अवतरण प्रसंग में शिव जी द्वारा अपनी जटा में गंगा को धारण करने के रूप में मिलता है। अनादि काल से भारतीय संस्कृति के विकास में गंगा की भूमिका रही है। भारतीय संस्कृति और जनमानस सभी नदियों और जल स्रोतों में गंगा का रूप देखता है। जितना भी निर्मल जल है, वह पवित्र करने वाला है और वह सब गंगा के समान है। नदियों को सदानीरा तभी रखा जा सकता है, जब हम उनका मूल परिवेश लौटाएंगे। नदियों के तट को वनों से आच्छादित किया जाए। पारिस्थितिक तंत्र को लौटाने से ही नदियों का समुचित संरक्षण और संवर्धन हो सकता है। नई बस्तियों की बसाहट नदी तट से दूर की जानी चाहिए। नदियों के गहरीकरण और चौड़ीकरण के साथ तटों की मिट्टी के कटाव को रोकने की मुहिम चलानी होगी। नदियों में अलग अलग रोगों को नष्ट करने की क्षमता है, जिनके लिए व्यापक चेतना जाग्रत करने की जरूरत है।

विशिष्ट अतिथि साहित्यकार श्री हरेराम वाजपेयी, इंदौर ने कहा कि नदी घाटी सभ्यता से मनुष्य का गहरा नाता है। नदियां हमारी संस्कृति और आस्था की प्रतीक हैं। रामचरितमानस में श्रीराम द्वारा गंगा में स्नान का वर्णन किया गया है। सीता को गंगा मैया आशीष देती हैं। नदियों के जल को प्रदूषित कर हम बहुत बड़ा अपराध कर रहे हैं। नदियों को पुनर्जीवन देने के लिए व्यापक प्रयास जरूरी हैं।

अध्यक्षता करते हुए प्राचार्य डॉ शहाबुद्दीन नियाज मोहम्मद शेख, पुणे ने कहा कि नदियों को मनुष्यों के द्वारा दूषित किया जा रहा है। गंगा एवं अन्य नदियों की पवित्रता को सुरक्षित रखना हम सबकी जिम्मेदारी है। गायत्री को वेदों की जननी माना गया है। उनकी आराधना से सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं।

प्रवासी साहित्यकार सुरेशचंद्र शुक्ल शरद आलोक, ओस्लो, नॉर्वे ने कहा कि हम नदियों को माता मानने के बावजूद उन्हें प्रदूषित करते हैं। इसके लिए लोगों की मानसिकता में बदलाव आवश्यक है। नार्वे में दो बड़ी नदियाँ हैं, जिन्हें स्वच्छता का प्रतीक माना जाता है। भारत में नदियों को बचाना है तो बोतल बंद पानी की बिक्री बंद करना होगा, जिससे लोग जल के शुद्धीकरण की महिमा जान सकेंगे।

प्रो विमल चंद्र जैन, इंदौर ने कहा कि गंगा, यमुना जैसी नदियों के दर्शन मात्र से हमें स्वर्गीय आनंद प्राप्त होता है। साहित्य में गंगा का व्यापक वर्णन किया गया है। नर्मदा, शिप्रा जैसी महान नदियों के साथ हमारा सम्मान का भाव जुड़ा हुआ है।

श्रीमती सुवर्णा जाधव, मुंबई ने कहा कि नदियां हजारों लोगों के जीवन में भूख और प्यास मिटाने का कार्य करती हैं। भारत को नदियों की देन अनुपम है। इस देश की प्राचीन संस्कृतियाँ नदी तट पर विकसित हुई हैं। कारखानों और आवासीय इलाकों का प्रदूषित जल नदियों में जाने से रोकना होगा।

डॉ प्रभु चौधरी ने कहा कि गंगाजल सभी को पावन करने वाला है। उसकी महिमा अपार है। लोक संस्कृति में गंगा उद्यापन की परंपरा रही है। गंगा शुद्धीकरण के लिए व्यापक प्रयास किए जा रहे हैं। दशकों पहले श्रीराम शर्मा आचार्य ने गायत्री परिवार और शांतिकुंज की स्थापना की थी, जिसका व्यापक प्रभाव हुआ। मेरे पिताश्री माधवलाल  चौधरी अनुशासित और समय पालन में कटिबद्ध थे।

डॉक्टर गरिमा गर्ग, पंचकूला, हरियाणा ने कहा कि नीर, नदी और नारी तीनों को समाज के लिए पोषक माना गया है। नदी के समीप बड़ी तादाद में वृक्षारोपण किया जाना चाहिए, जिससे मिट्टी का कटाव नहीं होगा। कार्यक्रम में डॉ बालासाहेब तोरस्कर, मुंबई ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

सरस्वती वंदना कवि श्री राम शर्मा परिंदा, मनावर ने की। स्वागत भाषण डॉ मुक्ता कान्हा कौशिक, रायपुर ने प्रस्तुत किया। आयोजन की प्रस्तावना डॉ रश्मि चौबे, गाजियाबाद ने प्रस्तुत की।

आयोजन में डॉ देवनारायण गुर्जर, जयपुर, डॉ उर्वशी उपाध्याय, प्रयागराज, रिया तिवारी, डॉ सुनीता चौहान मुंबई, डॉ विमल चंद्र जैन, इंदौर, पूर्णिमा कौशिक, रायपुर, बजरंग गर्ग, बालासाहेब तोरस्कर, मुंबई, डॉ ममता झा, मुंबई, शीतल वाही, श्री राम शर्मा परिंदा, मनावर, डॉ शैल चंद्रा, धमतरी, भुवनेश्वरी जायसवाल, भिलाई आदि सहित अनेक साहित्यकार, शिक्षाविद, संस्कृतिकर्मी एवं गणमान्यजन उपस्थित थे।

संगोष्ठी का संचालन श्रीमती लता जोशी मुंबई ने किया। आभार प्रदर्शन डॉ प्रभु चौधरी, उज्जैन ने किया।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक