Skip to main content

कविता स्वतः स्फुरित होती है, उसे बनाया नहीं जाता - डॉ अंजना संधीर



कविता कोमल कांत पदावली होती है। वह स्वतः स्फुरित होती है ,उसे बनाया नहीं जाता। इस आशय का प्रतिपादन कवयित्री, प्राध्यापक व शिक्षाविद डॉ.अंजना संधीर, अहमदाबाद, गुजरात ने किया। राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना के तत्वाधान में आयोजित राष्ट्रीय बहुभाषी काव्य गोष्ठी में मुख्य अतिथि के रूप में वे अपना उद्बोधन दे रही थी। डॉक्टर संधीर ने आगे कहा कि, कविता भावों से ओतप्रोत हो, तब ही मन की आंतरिक गहराइयों से झरने की तरह फूटती है और सुनने वाला उस में खो जाता है। कविता तलवार का भी काम करती है और मरहम का भी ।आज जिस दौर में हम जी रहे हैं, उसमें कविता, शायरी और साहित्य ही व्यक्ति को मानसिक शांति प्रदान करता है। कविता की यही परिभाषा है कि, वह मन से निकल कर मन तक पहुंचती है। कविता व्यक्ति को जिंदा रहने का हौसला देती है। विशेष अतिथि प्राचार्य ड .शहाबुद्दीन नियाज मोहम्मद शेख ,पुणे, महाराष्ट्र ने कहा कि कविता एक आंतरिक घटना है ।भाव ही कविता आशय है। भाव और कल्पना के संयोग से कवि अपना कार्म निभाता है। कविता सामाजिक चेतना को सीधा संबोधित करती है।कविता का अपना अपरिभाषित विश्व है। कविता एक ऐसी इकाई है, जो पनपती और फैलती है। 

     इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि डॉ अल्पा मेहता, राजकोट, गुजरात; श्रीमती इंद्र वर्षा, पंचकूला, हरियाणा, डॉक्टर अरुणा राजेंद्र शुक्ला नांदेड़, महाराष्ट्र; हरे राम बाजपेयी, इंदौर ने अपने विचार प्रस्तुत किए । काव्य गोष्ठी की अध्यक्षता डॉ. ममता झा, मुंबई ने की।

     इस आभासी बहुभाषी काव्य गोष्ठी में श्रीमती प्रतिभा मगर ,पुणे (मराठी), प्रो.बालासाहेब  तोरस्कर,ठाणे,महाराष्ट्र, डाॅ.शिवा लोहारिया, जयपूर, राजस्थान, (मराठी)श्रीमती पूर्णिमा कौशिक (छत्तीसगढ़ी) सुश्री हेमलता शर्मा इंदौर, ( निमाड़ी )श्रीमती सुनीता मंडल, कोलकाता, (बंगाली ) श्री. लक्ष्मीकांत वैष्णव, चांपा, छत्तीसगढ़ आदि कवियों ने अपनी कविताएं प्रस्तुत की।

    काव्य गोष्ठी का आरंभ श्रीमती पूर्णिमा कौशिक, रायपुर, छत्तीसगढ़ द्वारा प्रस्तुत सरस्वती वंदना से हुआ। स्वागत उद्बोधन डॉ रश्मि चौबे, गाजियाबाद ने दिया ।अतिथि परिचय श्रीमती गरिमा गर्ग ,पंचकूला,हरियाणाने किया ।राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना की मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष, श्रीमती सुवर्णा जाधव, पुणे ने प्रस्तविक  भाषण दिया। आयोजक के रूप में प्राध्यापिका रोहिणी डावरे ने दायित्व संभाला। काव्य गोष्ठी का सुंदर व सफल संचालन तथा नियंत्रण डॉक्टर मुक्ता कान्हा कौशिक,राष्ट्रीय मुख्य प्रवक्ता ने किया। शिक्षक संचेतना के राष्ट्रीय महासचिव डॉक्टर प्रभु चौधरी ने सभी का धन्यवाद ज्ञापन किया।

Comments

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा सितंबर में आयोजित परीक्षाओं के लिए उत्तर पुस्तिका संग्रहण केंद्रों की सूची जारी

उज्जैन। स्नातक एवं स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष या अंतिम सेमेस्टर की ओपन बुक पद्धति से होने वाली परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं के संग्रहण केंद्रों की सूची विक्रम विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर अपलोड कर दी गई है। संपूर्ण परिक्षेत्र के 7 जिलों में कुल 395 संग्रहण केंद्र बनाए गए हैं। कुलानुशासक, डॉ. शैलेंद्र कुमार शर्मा जी ने जानकारी देते हुए बताया कि, विद्यार्थीगण विश्वविद्यालय की वेबसाइट से संग्रहण केंद्रों की सूची देख सकते हैं। http://vikramuniv.ac.in/examination-notification/ सूची संलग्न दी जा रही है।