Skip to main content

सामाजिक रूढ़ियों और जड़ताओं से मुक्त हो रही हैं हिंदी सिनेमा की नायिकाएँ - प्रो शर्मा ; अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी में हुआ हिंदी सिनेमा और स्त्री विमर्श पर मंथन

सामाजिक रूढ़ियों और जड़ताओं से मुक्त हो रही हैं हिंदी सिनेमा की नायिकाएँ - प्रो शर्मा

अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी में हुआ हिंदी सिनेमा और स्त्री विमर्श पर मंथन 


हिंदी सिनेमा और स्त्री विमर्श पर केंद्रित अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी का आयोजन मंगलवार को क्रैडेंट टीवी  एवं राजकीय स्नातकोत्तर महिला महाविद्यालय चौंमू, जयपुर के संयुक्त तत्त्वावधान में  किया गया। संगोष्ठी के विशेषज्ञ वक्ता विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलानुशासक एवं हिंदी विभागाध्यक्ष प्रोफेसर शैलेंद्र कुमार शर्मा थे। आयोजन में मास्को, रूस से डॉ इंद्रजीत सिंह, गांधीनगर, गुजरात से प्रोफेसर संजीव दुबे एवं जयपुर से प्रोफेसर संजीव भानावत ने विषय के विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डाला।

संगोष्ठी में व्याख्यान देते हुए  विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन के  कला संकायाध्यक्ष प्रोफेसर शैलेंद्र कुमार शर्मा ने कहा  कि हिंदी फिल्में नारी सशक्तीकरण की अभिव्यक्ति का महत्वपूर्ण माध्यम सिद्ध हो रही हैं।  फिल्मों में नायिका की विशिष्ट भूमिका यह तय करती है कि सिनेमा हमेशा महिलाओं का हितैषी रहा है। नवजागरण कालीन मूल्यों को शुरुआती दौर के सिनेकारों ने बड़ी शिद्दत से उभारा। मदर इंडिया, सुजाता, बंदिनी जैसी फिल्मों ने नारी की समर्थ भूमिका को रेखांकित किया। नारीवाद और  उदारीकरण के माहौल में हिंदी सिनेमा की नायिकाएँ सामाजिक रूढ़ियों और जड़ताओं से मुक्त होती दिखाई दे रही हैं। पिंक, क्वीन, नो वन किल्ड जेसिका, मैरीकाम, इंग्लिश विंग्लिश, गुलाब गैंग, फैशन जैसी फिल्मों के जरिए नए दौर का सिनेमा नारी अस्मिता से जुड़े मुद्दों को लेकर महत्त्वपूर्ण कार्य कर रहा है। फिल्मकारों ने नारी संवेदनाओं को गहराई से समझा है और समाज के सामने प्रस्तुत किया है। सामाजिक सरोकारों के साथ हिन्दी सिनेमा के रिश्ते निरन्तर प्रश्नांकित होते रहे हैं, लेकिन अनेक पुरुष सिनेकारों के साथ स्त्री निर्देशिकाओं ने इस स्थिति को बदला है। 

राजस्थान विश्वविद्यालय, जयपुर के जनसंचार विभाग के पूर्व अध्यक्ष एवं जाने-माने मीडिया विशेषज्ञ प्रोफ़ेसर संजीव भाणावत ने रंगमंच और थिएटर के शुरुआती दौर का जिक्र करते हुए  स्त्री विमर्श की शुरुआत फिल्मों में कहीं बेहतर ढंग से मानते हैं। उनका कहना था कि फिल्में नई संभावनाओं को जन्म देती हैं, नए विचारों को जन्म देती हैं। स्त्री संघर्ष, आकांक्षा, अस्तित्वबोध फिल्मों में बखूबी देखा जा सकता है।

केंद्रीय विश्वविद्यालय, गांधीनगर, गुजरात से उपस्थित प्रोफेसर संजीव दुबे ने चर्चा की शुरुआत हिंदी की पहली सवाक फ़िल्म आलमआरा से करते हुए कहा कि एक दौर में कई फिल्मों के शीर्षक स्त्री के नाम पर होते थे। हंटरवाली से शुरू हुआ यह विमर्श क्वीन, पिंक,  थप्पड़ तक आता है। उनका कहना था कि  फिल्मों का यह वातावरण न केवल स्त्री चरित्र को उठाता है अपितु नारी स्वतंत्रता व सशक्तीकरण की भूमिका भी तय करता है।


मास्को, रूस  से जुड़े जाने-माने फिल्म एवं गीत विश्लेषक डॉ इंद्रजीत सिंह ने विशेष रुप से गाइड और रजनीगंधा फिल्म की स्त्री विषयक बातों को उठाया। उन्होंने राज कपूर की फिल्मों और गीतों  के परिवेश पर दृष्टि डालते हुए रूस और भारतीय फिल्मों के अंतः सम्बन्धों को स्पष्ट किया। 


प्रारम्भ में प्राचार्य डॉ कविता गौतम ने सभी वक्ताओं का आभार व्यक्त करते हुए स्वागत किया। इस ऑनलाइन आयोजन में देश दुनिया के सैकड़ों दर्शक जुड़े। 

कार्यक्रम की संयोजिका डॉ प्रणु शुक्ला ने संगोष्ठी का संचालन किया। कॉलेज के वरिष्ठ प्रोफेसर डॉ राजेंद्र कुमार ने सभी के प्रति आभार व्यक्त किया।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य