Skip to main content

कोरोना से बचना हो तो वृक्षारोपण करो, पर्यावरण बचाओ-श्रीमती सुवर्णा जाधव

राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना द्वारा वृक्षारोपण से पर्यावरण की सुरक्षा एवं कोरोना का बचाव के सन्दर्भ में काव्य संगोष्ठी का आयोजन हुआ। आभासी संगोष्ठी की मुख्य अतिथि राष्ट्रीय मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष श्रीमती सुवर्णा जाधव ने कहा कि कोरोना के काल में ऑक्सीजन की अधिक आवश्यकता रही यदि हम ऑक्सीजन निर्माता वृक्ष लगायेंगे तो पर्यावरण शुद्ध भी रहेगा। संगोष्ठी की मुख्य वक्ता डॉ. ममता झा ने अपने उद्बोधन में कहा कि भाषा की श्रेष्ठतम परिणति काव्य है। इसलिए कविता को मानवता की मातृभाषा कहा गया है। काव्य रचना करते समय नये वस्तु-रूप और काव्योपयोग  के प्रति गहरी जागरूकता और सजगता की आवश्यकता होती है। जीवन-यथार्थ, सवेंदनात्मक उद्देश्यों और रचनाशीलता पर ध्यान देना चाहिए। हर एक की कलम अलग है, हर एक का मुहावरा अलग है, हर एक की मानसिकता और मनःस्थिति अलग है, हर एक शब्द और भाषा उसी पर निर्भर करता है, इसलिए अभिव्यक्ति अलग, अतः पहचान भी अलग। नई कविता, छायावाद, छायावदोत्तर कविता के इतिहास में प्रगतिवाद, प्रयोगवाद जैसे अभिधान स्वीकृत हो चुके हैं । 

वैयक्तिक और सामाजिक जीवन-संदर्भों में मोहभंग के कारण नयी कविता में छायावद कल्पनाशीलता के विपरीत जीवन-स्तिथियों के यथार्थ-चित्र का आग्रह अधिक है। समकालीन मनुष्य में आज के जर्जर जीवन और टूटते जीवन मूल्यों के प्रति को अटूट आस्था है उसके साथ ही वे फिर एक बार जिंदगी का गीत गाना चाहते हैं। व्यंग्य एवं विडंबनाओं के साथ सीधी सरल उक्तियों का सहारा लेकर ये जिस यथार्थ की अभिव्यक्ति के लिए प्रयत्नशील है उसका विश्वसनीय प्रमाण इनकी कविताएं हैं। कविता लिखते समय हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि वे तात्कालिक, समसामयिक विषयों को लेकर देशहित, राष्ट्र के उत्थान, पर्यावरण की सुरक्षा के प्रति जागरूकता, उसके समाधान, सामाजिक उन्नति के प्रति सकारात्मक ज्ञान इत्यादि पर केंद्रित होनी चाहिए। नए प्रकार के उपक्रम को आयाम देने का कार्य हमारी कविताओं के माध्यम से होना चाहिए क्योंकि कविताओं में ही मनुष्य को जोश से भर देने का भी गुण तथा शांत करने का भी गुण हैं। विशिष्ट अतिथि डॉ. प्रियंका सोनी ने भी कविता प्रस्तुत की। 






समारोह की अध्यक्षता करते हुए शिक्षक संचेतना के महासचिव डॉ. प्रभु चौधरी ने कहा कि एक पेड़ सौ पुत्रो के समान है। प्रजनन रोके वृक्ष उगाये, शिक्षा एवं सहकार बढ़ाये। कुदरत बहुत कारसाज है। अपनी चमत्कारिक ताकतों से वह इन्सानी सभ्यता को पुष्पित-पल्लवित करती चली आ रही है। कोविड-19 महामारी के इस दौर में जब लोगों को अपनी इम्युनिटी बढ़ाने की विवशता आई और ऑक्सीजन संकट ने सांसो पर पहरा बैठा दिया तो उन्हें उन पौधों की याद आई जो हमारी ये जरूरतें बिना कुछ लिए निस्वार्थ भाव से पूरी करते चले आ रहे है। अब बारी हमारी है। उस कर्ज को उतारने की। मानसून देश के अधिकांश हिस्सों की जमीन को नम करते हुए तेजी से आगे बढ़ रहा है। यही सही समय है पौधारोपण का।

संगोष्ठी के शुभारम्भ में सरस्वती वंदना डॉ. संगीता पाल, स्वागत भाषण-गीत डॉ. रेणू सिरोया एवं प्रस्तावना उपमहासचिव गरिमा गर्ग ने प्रस्तुत की। संगोष्ठी में कविता पाठ विशिष्ट अतिथि श्री राकेश छोकर, डॉ. चेतना उपाध्याय, मनीषसिंह, सुनीता चौहान, सविता इंगले, भुवनेश्वरी जायसवाल, डॉ. नेहा दास, सुनीता गर्ग, डॉ. मुक्ता कौशिक, लता जोशी, गरिमा गर्ग, डॉ. सुनीता पाल, डॉ. रेणू सिरोया, डॉ. शिवा लोहारिया आदि ने किया। समारोह का संचालन श्रीमती पूर्णिमा कौशिक एवं आभार भुवनेश्वरी जायसवाल ने माना।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद