Skip to main content

कोरोना से बचना हो तो वृक्षारोपण करो, पर्यावरण बचाओ-श्रीमती सुवर्णा जाधव

राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना द्वारा वृक्षारोपण से पर्यावरण की सुरक्षा एवं कोरोना का बचाव के सन्दर्भ में काव्य संगोष्ठी का आयोजन हुआ। आभासी संगोष्ठी की मुख्य अतिथि राष्ट्रीय मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष श्रीमती सुवर्णा जाधव ने कहा कि कोरोना के काल में ऑक्सीजन की अधिक आवश्यकता रही यदि हम ऑक्सीजन निर्माता वृक्ष लगायेंगे तो पर्यावरण शुद्ध भी रहेगा। संगोष्ठी की मुख्य वक्ता डॉ. ममता झा ने अपने उद्बोधन में कहा कि भाषा की श्रेष्ठतम परिणति काव्य है। इसलिए कविता को मानवता की मातृभाषा कहा गया है। काव्य रचना करते समय नये वस्तु-रूप और काव्योपयोग  के प्रति गहरी जागरूकता और सजगता की आवश्यकता होती है। जीवन-यथार्थ, सवेंदनात्मक उद्देश्यों और रचनाशीलता पर ध्यान देना चाहिए। हर एक की कलम अलग है, हर एक का मुहावरा अलग है, हर एक की मानसिकता और मनःस्थिति अलग है, हर एक शब्द और भाषा उसी पर निर्भर करता है, इसलिए अभिव्यक्ति अलग, अतः पहचान भी अलग। नई कविता, छायावाद, छायावदोत्तर कविता के इतिहास में प्रगतिवाद, प्रयोगवाद जैसे अभिधान स्वीकृत हो चुके हैं । 

वैयक्तिक और सामाजिक जीवन-संदर्भों में मोहभंग के कारण नयी कविता में छायावद कल्पनाशीलता के विपरीत जीवन-स्तिथियों के यथार्थ-चित्र का आग्रह अधिक है। समकालीन मनुष्य में आज के जर्जर जीवन और टूटते जीवन मूल्यों के प्रति को अटूट आस्था है उसके साथ ही वे फिर एक बार जिंदगी का गीत गाना चाहते हैं। व्यंग्य एवं विडंबनाओं के साथ सीधी सरल उक्तियों का सहारा लेकर ये जिस यथार्थ की अभिव्यक्ति के लिए प्रयत्नशील है उसका विश्वसनीय प्रमाण इनकी कविताएं हैं। कविता लिखते समय हमें यह ध्यान रखना चाहिए कि वे तात्कालिक, समसामयिक विषयों को लेकर देशहित, राष्ट्र के उत्थान, पर्यावरण की सुरक्षा के प्रति जागरूकता, उसके समाधान, सामाजिक उन्नति के प्रति सकारात्मक ज्ञान इत्यादि पर केंद्रित होनी चाहिए। नए प्रकार के उपक्रम को आयाम देने का कार्य हमारी कविताओं के माध्यम से होना चाहिए क्योंकि कविताओं में ही मनुष्य को जोश से भर देने का भी गुण तथा शांत करने का भी गुण हैं। विशिष्ट अतिथि डॉ. प्रियंका सोनी ने भी कविता प्रस्तुत की। 






समारोह की अध्यक्षता करते हुए शिक्षक संचेतना के महासचिव डॉ. प्रभु चौधरी ने कहा कि एक पेड़ सौ पुत्रो के समान है। प्रजनन रोके वृक्ष उगाये, शिक्षा एवं सहकार बढ़ाये। कुदरत बहुत कारसाज है। अपनी चमत्कारिक ताकतों से वह इन्सानी सभ्यता को पुष्पित-पल्लवित करती चली आ रही है। कोविड-19 महामारी के इस दौर में जब लोगों को अपनी इम्युनिटी बढ़ाने की विवशता आई और ऑक्सीजन संकट ने सांसो पर पहरा बैठा दिया तो उन्हें उन पौधों की याद आई जो हमारी ये जरूरतें बिना कुछ लिए निस्वार्थ भाव से पूरी करते चले आ रहे है। अब बारी हमारी है। उस कर्ज को उतारने की। मानसून देश के अधिकांश हिस्सों की जमीन को नम करते हुए तेजी से आगे बढ़ रहा है। यही सही समय है पौधारोपण का।

संगोष्ठी के शुभारम्भ में सरस्वती वंदना डॉ. संगीता पाल, स्वागत भाषण-गीत डॉ. रेणू सिरोया एवं प्रस्तावना उपमहासचिव गरिमा गर्ग ने प्रस्तुत की। संगोष्ठी में कविता पाठ विशिष्ट अतिथि श्री राकेश छोकर, डॉ. चेतना उपाध्याय, मनीषसिंह, सुनीता चौहान, सविता इंगले, भुवनेश्वरी जायसवाल, डॉ. नेहा दास, सुनीता गर्ग, डॉ. मुक्ता कौशिक, लता जोशी, गरिमा गर्ग, डॉ. सुनीता पाल, डॉ. रेणू सिरोया, डॉ. शिवा लोहारिया आदि ने किया। समारोह का संचालन श्रीमती पूर्णिमा कौशिक एवं आभार भुवनेश्वरी जायसवाल ने माना।

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य