Skip to main content

7 वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (IDY) ; अब तक के सबसे बड़े डाक टिकट संग्रह में से एक में भारतीय डाक IDY-2021 को चिह्नित करने के लिए 800 स्थानों पर एक विशेष कैंसलेशन टिकट जारी करेगा |

 7 वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (IDY) ;

अब तक के सबसे बड़े डाक टिकट संग्रह में से एक में भारतीय डाक IDY-2021 को चिह्नित करने के लिए 800 स्थानों पर एक विशेष कैंसलेशन टिकट जारी करेगा | 



इंदौर, शुक्रवार, 18 जून, 2021  : यह अनूठी पहल 7वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (IDY) 2021 के स्मरणोत्सव को चिह्नित करेगी। भारतीय डाक इस विशेष कैंसलेशन को पूरे भारत में अपने 810 प्रधान डाकघरों के माध्यम से एक चित्रमय डिजाइन के साथ जारी करेगा। यह इस तरह के अब तक के सबसे बड़े डाक टिकट संग्रह स्मारकों में से एक होने जा रहा है।

21 जून 2021 को बुक किए गए सभी डाक पर इस विशेष कैंसलेशन से विरूपित कि जाएगी | 

 इस तरह विशेष कैंसलेशन निश्चित ही डाक टिकट संग्राहको के लिए मूल्यवान संग्रहण साबित होगा | 

 डाक टिकट संग्रह के जुनून में गिरावट देखी गई है, और इस शौक या कला को पुनर्जीवित करने के लिए, भारतीय डाक डाक टिकट संग्रहकर्ताओं के लिए एक योजना चलाता है। वे डाक टिकट संग्रह ब्यूरो और नामित डाकघरों में काउंटरों पर कलेक्टरों के लिए टिकट प्राप्त करते हैं। कोई भी व्यक्ति देश के किसी भी प्रधान डाकघर में 200 रुपये जमा करके आसानी से डाक टिकट जमा खाता खोल सकता है और टिकट और विशेष कवर जैसी चीजें प्राप्त कर सकता है। इसके अतिरिक्त। स्मारक टिकट केवल डाक टिकट ब्यूरो और काउंटर पर या डाक टिकट जमा खाता योजना के तहत उपलब्ध हैं। इनकी छपाई सीमित मात्रा में होती है।

योग और आईडीवाई वर्षों से डाक टिकट संग्रह के लिए लोकप्रिय विषय रहे हैं। 2015 में, डाक विभाग ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर दो डाक टिकटों का एक सेट और एक लघु पत्रक निकाला। 2016 में, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने योग के दूसरे अंतर्राष्ट्रीय दिवस के उपलक्ष्य में सूर्य नमस्कार पर स्मारक डाक टिकट जारी किया।

 2017 में, संयुक्त राष्ट्र डाक प्रशासन (यूएनपीए) ने न्यूयॉर्क में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में 10 योग आसन दिखाते हुए टिकटों का एक सेट जारी किया। 

इंदौर शहर संभाग अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर दिनांक 21/06/2021को वितरण एवम् बुक होने वाली डाक पर विशेष कैंसलेशन केचेट से डाक से विरुप्ति कर योग को आम जीवन में शामिल करने तथा इसके व्यापक प्रचार प्रसार में अपनी अहम् भूमिका निभायेगा | 

आईडीवाई पिछले छह वर्षों में दुनिया भर में विभिन्न (अक्सर रचनात्मक) तरीकों से मनाया गया है। भारत में, अतीत की कई खूबसूरत तस्वीरों में योग दिवस के अनोखे समारोहों को दर्शाया गया है। इसमें भारतीय सेना के जवान शामिल हैं जो हिमालय की बर्फीली पर्वतमाला में योग का अभ्यास करते हैं, नौसेना अधिकारी और कैडेट निष्क्रिय आईएनएस विराट पर योग करते हैं, आईडीवाई संदेश के साथ रेत की मूर्तियों का निर्माण करते हैं। भारतीय नौसेना के अधिकारी भारतीय नौसेना की पनडुब्बी आईएनएस सिंधुरत्न आदि पर योग करते हुए। वर्तमान डाक टिकट संग्रह आईडीवाई के पालन में विविधता को जोड़ता है।

संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) ने ११ दिसंबर २०१४ को अपनाए गए अपने संकल्प में २१ जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (आईडीवाई) के रूप में घोषित किया। २०१५ से, इस दिन को प्रतिभागियों की बढ़ती संख्या में दुनिया भर में मनाया जाता रहा है।

इस वर्ष COVID-19 महामारी की स्थिति को देखते हुए, अधिकांश कार्यक्रम वस्तुतः इस वर्ष के मुख्य विषय "योग के साथ रहें। घर पर रहें" को बढ़ावा देते हुए होंगे। जैसा कि देश सावधानी से लॉकडाउन से बाहर आ रहा है, 800 से अधिक संग्रहणीय (प्रत्येक डाकघर का एक संग्रहणीय होने का कैंसलेशन डिजाइन) के साथ यह विशाल डाक स्मरणोत्सव गतिविधि अपार डाक टिकट के अवसर खोलती है और देश में डाक टिकट गतिविधि को फिर से प्रज्वलित करने की संभावना है।

facebook link : https://www.facebook.com/395226780886414/posts/1341546766254406/

✍️ शुभम राधेश्याम चौऋषिया
🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩
"बेख़बरों की खबर" फेसबुक पेज...👇
"बेख़बरों की खबर" न्यूज़ पोर्टल/वेबसाइट...👇
"बेख़बरों की खबर" ई-मैगजीन पढ़ने के लिए नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करें...👇
🚩🚩🚩🚩आभार, धन्यवाद, सादर प्रणाम ।🚩🚩🚩🚩

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक