Skip to main content

7 वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (IDY) ; अब तक के सबसे बड़े डाक टिकट संग्रह में से एक में भारतीय डाक IDY-2021 को चिह्नित करने के लिए 800 स्थानों पर एक विशेष कैंसलेशन टिकट जारी करेगा |

 7 वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (IDY) ;

अब तक के सबसे बड़े डाक टिकट संग्रह में से एक में भारतीय डाक IDY-2021 को चिह्नित करने के लिए 800 स्थानों पर एक विशेष कैंसलेशन टिकट जारी करेगा | 



इंदौर, शुक्रवार, 18 जून, 2021  : यह अनूठी पहल 7वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (IDY) 2021 के स्मरणोत्सव को चिह्नित करेगी। भारतीय डाक इस विशेष कैंसलेशन को पूरे भारत में अपने 810 प्रधान डाकघरों के माध्यम से एक चित्रमय डिजाइन के साथ जारी करेगा। यह इस तरह के अब तक के सबसे बड़े डाक टिकट संग्रह स्मारकों में से एक होने जा रहा है।

21 जून 2021 को बुक किए गए सभी डाक पर इस विशेष कैंसलेशन से विरूपित कि जाएगी | 

 इस तरह विशेष कैंसलेशन निश्चित ही डाक टिकट संग्राहको के लिए मूल्यवान संग्रहण साबित होगा | 

 डाक टिकट संग्रह के जुनून में गिरावट देखी गई है, और इस शौक या कला को पुनर्जीवित करने के लिए, भारतीय डाक डाक टिकट संग्रहकर्ताओं के लिए एक योजना चलाता है। वे डाक टिकट संग्रह ब्यूरो और नामित डाकघरों में काउंटरों पर कलेक्टरों के लिए टिकट प्राप्त करते हैं। कोई भी व्यक्ति देश के किसी भी प्रधान डाकघर में 200 रुपये जमा करके आसानी से डाक टिकट जमा खाता खोल सकता है और टिकट और विशेष कवर जैसी चीजें प्राप्त कर सकता है। इसके अतिरिक्त। स्मारक टिकट केवल डाक टिकट ब्यूरो और काउंटर पर या डाक टिकट जमा खाता योजना के तहत उपलब्ध हैं। इनकी छपाई सीमित मात्रा में होती है।

योग और आईडीवाई वर्षों से डाक टिकट संग्रह के लिए लोकप्रिय विषय रहे हैं। 2015 में, डाक विभाग ने अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर दो डाक टिकटों का एक सेट और एक लघु पत्रक निकाला। 2016 में, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने योग के दूसरे अंतर्राष्ट्रीय दिवस के उपलक्ष्य में सूर्य नमस्कार पर स्मारक डाक टिकट जारी किया।

 2017 में, संयुक्त राष्ट्र डाक प्रशासन (यूएनपीए) ने न्यूयॉर्क में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में 10 योग आसन दिखाते हुए टिकटों का एक सेट जारी किया। 

इंदौर शहर संभाग अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर दिनांक 21/06/2021को वितरण एवम् बुक होने वाली डाक पर विशेष कैंसलेशन केचेट से डाक से विरुप्ति कर योग को आम जीवन में शामिल करने तथा इसके व्यापक प्रचार प्रसार में अपनी अहम् भूमिका निभायेगा | 

आईडीवाई पिछले छह वर्षों में दुनिया भर में विभिन्न (अक्सर रचनात्मक) तरीकों से मनाया गया है। भारत में, अतीत की कई खूबसूरत तस्वीरों में योग दिवस के अनोखे समारोहों को दर्शाया गया है। इसमें भारतीय सेना के जवान शामिल हैं जो हिमालय की बर्फीली पर्वतमाला में योग का अभ्यास करते हैं, नौसेना अधिकारी और कैडेट निष्क्रिय आईएनएस विराट पर योग करते हैं, आईडीवाई संदेश के साथ रेत की मूर्तियों का निर्माण करते हैं। भारतीय नौसेना के अधिकारी भारतीय नौसेना की पनडुब्बी आईएनएस सिंधुरत्न आदि पर योग करते हुए। वर्तमान डाक टिकट संग्रह आईडीवाई के पालन में विविधता को जोड़ता है।

संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) ने ११ दिसंबर २०१४ को अपनाए गए अपने संकल्प में २१ जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (आईडीवाई) के रूप में घोषित किया। २०१५ से, इस दिन को प्रतिभागियों की बढ़ती संख्या में दुनिया भर में मनाया जाता रहा है।

इस वर्ष COVID-19 महामारी की स्थिति को देखते हुए, अधिकांश कार्यक्रम वस्तुतः इस वर्ष के मुख्य विषय "योग के साथ रहें। घर पर रहें" को बढ़ावा देते हुए होंगे। जैसा कि देश सावधानी से लॉकडाउन से बाहर आ रहा है, 800 से अधिक संग्रहणीय (प्रत्येक डाकघर का एक संग्रहणीय होने का कैंसलेशन डिजाइन) के साथ यह विशाल डाक स्मरणोत्सव गतिविधि अपार डाक टिकट के अवसर खोलती है और देश में डाक टिकट गतिविधि को फिर से प्रज्वलित करने की संभावना है।

facebook link : https://www.facebook.com/395226780886414/posts/1341546766254406/

✍️ शुभम राधेश्याम चौऋषिया
🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩
"बेख़बरों की खबर" फेसबुक पेज...👇
"बेख़बरों की खबर" न्यूज़ पोर्टल/वेबसाइट...👇
"बेख़बरों की खबर" ई-मैगजीन पढ़ने के लिए नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करें...👇
🚩🚩🚩🚩आभार, धन्यवाद, सादर प्रणाम ।🚩🚩🚩🚩

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य