Skip to main content

किनारा की खोज ने दो संस्कृतियों को जोड़ने का महत्वपूर्ण कार्य किया है- प्रो.शेलेन्द्र कुमार शर्मा ; बोली में रचना कर्म भाषा का पहला पड़ाव - डॉ विकास दवे ; मालवी निमाड़ी साहित्य शोध संस्थान का प्रथम लोकार्पण सम्पन्न

मालवी निमाड़ी साहित्य शोध संस्थान का प्रथम लोकार्पण सम्पन्न

किनारा की खोज ने दो संस्कृतियों को जोड़ने का महत्वपूर्ण कार्य किया है- प्रो.शेलेन्द्र शर्मा 

बोली में रचना कर्म भाषा का पहला पड़ाव - डॉ विकास दवे


अनुवाद कार्य महज दो भाषाओं को जोड़ने का काम नहीं है बल्कि इससे चारों और संवेदनाओं के तट बंधों को तोड़ते हुए दो संस्कृतियों और परंपराओं को जोड़ने का कार्य संभव हो पाता है और इसे परिणीत किया है मालवी मना हेमलता शर्मा भोली बेन ने जिन्होंने हरिशंकर परसाई जी के लघु उपन्यास तट की खोज का मालवी रूपांतरण किया है । यह बात मालवी निमाड़ी साहित्य शोध संस्थान के पटल पर 'किनारा की खोज' अपणो मालवो भाग दो पुस्तक के ऑनलाइन लोकार्पण समारोह में कही ।  वे कहते हैं कि मालवी में इसे अनुदित रूप में लाने से कई नए पाठक इसका आस्वाद ले सकेंगे।  यह उपन्यास परसाई जी के मिजाज और तेवर से हटकर है और यह बेहद प्रसन्नता का विषय है हेमलता शर्मा भोली बेन अनेक माध्यमों से मालवी सेवा कर रही है।

      कार्यक्रम का शुभारंभ शोभा रानी तिवारी की सरस्वती वंदना से हुआ ।‌ 

      इस अवसर पर कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे मध्य प्रदेश साहित्य अकादमी के निदेशक डॉक्टर विकास दवे कहते हैं कि बोलियों में रचना कर्म करना वास्तव में बोलियों की बहुत बड़ी सेवा होती है । बोली को भाषा बनने की यात्रा में यह सबसे महत्वपूर्ण कारक होता है । जब भी मालवी को बोली से भाषा बनाने की दिशा में कोई बड़ा अभियान चलेगा तब हेमलता जी के किए हुए कार्यों को बहुत ही सम्मान के साथ रेखांकित किया जाएगा, क्योंकि लगातार मालवी में मूल लेखन के ‌साथ  इन्होंने व्यंग्य सम्राट हरिशंकर परसाई जी के उपन्यास 'तट की खोज' का अपनी मातृ बोली में अनुवाद करके मालवी की सेवा का संकल्प प्रदर्शित किया है । यह उपन्यास मानवीय संवेदनाओं से  लबालब भरा है जिसे मालवी में पढ़ना रोचक होगा। 

       इस अवसर पर विशेष ‌अतिथि की भूमिका अदा कर रही ‌मालवा प्रांत की अध्यक्षा माया मालवेंन्द्र  बदेका ने ‌मीठी मालवी में भोली बेन को आशीर्वाद प्रदान करते‌ हुए पुस्तक के सार को रेखांकित किया।‌ इसी प्रकार संस्थान की अध्यक्ष डा.स्वाति तिवारी ने  अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि जिस प्रकार परसाई जी का उपन्यास तट की खोज कालजयी रहा है उसी प्रकार मालवी निमाड़ी साहित्य शोध संस्थान की सचिव भोली बेन द्वारा किया गया मालवी रूपांतरण किनारा की खोज  भी कालजयी कृति साबित होगी । 

     संपादकीय में भोली बेन ने अपने मन की बात साझा करते हुए लिखा कि मेरा मालवी का समस्त साहित्य मालवी प्रेमियों ‌के लिए निशुल्क रहेगा ।‌ मालवी बोली को भाषा बनाने की दिशा में निरन्तर ‌प्रयासरत हूं। 

      मालव मयूर के नाम से प्रसिद्ध आनंदराव ‌दुबे की सुपुत्री एवं मालवी कवयित्री ने भोली बेन को प्रख्यात मालवी गद्यकार की उपमा प्रदान की तो वहीं विशेष अतिथि के रूप में कवि संजय परसाई 'सरल' ने पुस्तक और भोली बेन की भूरी-भूरी प्रशंसा की । वरिष्ठ साहित्यकार हरमोहन नेमा ने इस कार्य हेतु भोली बेन को साधुवाद ज्ञापित किया।  आभार प्रदर्शन गीतकार अलक्षेन्द्र व्यास ने किया । 

      इस अवसर पर हरिशंकर परसाई जी ‌के भतीजे मुकेश दीवान सहित चेतना भाटी, हरमोहन नेमा, जीडी अग्रवाल, डिस्ट्रिक्ट कमांडेंट महेश हनोतिया, जनसंपर्क अधिकारी प्रलय श्रीवास्तव, मुकेश शर्मा, बालीवुड अभिनेता राघवेंद्र तिवारी, रागिनी शर्मा,  रश्मि चौधरी, अपर्णा तिवारी, सुषमा व्यास , शशि निगम, शशिकला अवस्थी, शरद द्विवेदी, पल्लवी जोशी,अनिल ओझा, सतनामी 'सरल' दादा भीम सिंह पंवार, विक्रम सिंह, कुसुम सोगानी, मंजूला भूतड़ा  आदि साहित्यकार मौजूद  थे।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग