Skip to main content

प्राणिकी एवंम जैव-प्रैद्योगिकी अध्ययनशाला विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन द्वारा जैव विविधता और कोविड-19 पर पैनल चर्चा का आयोजन किया गया


जैव विविधता दिवस 22 मई 2021 के अवसर पर, प्राणिकी एवंम जैव-प्रैद्योगिकी अध्ययनशाला विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन द्वारा जैव विविधता और Covid-19 पर पैनल चर्चा का आयोजन किया गया। इस आयोजन में देश के भीतर और बाहर के लगभग 100 श्रोताओ ने भाग लिया। कार्यक्रम के मुख्य वक्ता प्रो. रविन्द्र कन्हारे, अध्यक्ष प्रवेश एवं शुल्क नियामक आयोग, भोपाल, प्रो. अरुण कुमार पांडे, कुलपति मानसरोवर ग्लोबल यूनिवर्सिटी, भोपाल, प्रो. प्रदीप श्रीवास्तव सदस्य निजी विश्वविद्यालय, नियामक आयोग भोपाल और प्रो. आर.सी. वर्मा सेवानिवृत प्रोफेसर एवंम हेड बॉटनी अध्ययनशाला विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन थे। 

प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा, कुलानुशासक, विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन ने जानकारी देते हुए बताया कि, कार्यक्रम की अध्यक्षता विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन के कुलपति प्रो.अखिलेश कुमार पाण्डेय ने की जिन्होंने कार्यक्रम की महत्ता समझाई और अतिथियों का परिचय श्रोताओ से कराया। माननीय कुलपति जी ने आगे बताया कि Covid-19  जैसे वायरस पर्यावरण के असंतुलन के कारण उत्पन्न होते हैं।जलवायु परिवर्तन एवंम जैव विविधता कम होने के कारण, सुसुप्त अवस्था में रह रहे सूक्ष्म; जीव आज मानव जाती को चुनौती दे रहे है।  अतः जैव विविधता का संरक्षण भारतीय ज्ञान एवं परम्परा से किया जाना अति आवर्श्यक है।  

मुख्य अतिथि प्रोफेसर आर आर कन्हारे ने कोरोना वायरस की प्रमुख प्रजातियों एवं उनसे होने वाले उत्परिवर्तनों से आने वाली समस्याओ पर भी विस्तार से प्रकाश डाला और युवा विज्ञानिको को इस बारे में विस्तार से अध्ययन और शोध करने का आवाहन भी किया, इसके आलावा उन्होंने सकारात्मक सोच एवंम जीवनशैली में बदलाव की सार्थकता को भी अनिवार्य बताया। एक अन्य प्रमुख प्रवक्ता प्रोफेसर अरुण कुमार पांडेय ने पर्यावरण में होने वाले परिवर्तनों विशेष रूप से जैव विविधता के सम्बन्ध में विस्तार चर्चा की और पोधो में पाए जाने वाले रसायन एवंम उनकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता पर प्रकाश डाला।  अगले प्रमुख वक्ता प्रोफेसर प्रदीप श्रीवास्तव ने कोरोना के ग्लोबल प्रभाव जैसे अर्थ व्यवस्था एवंम जीव जन्तुओ पर कोरोना के प्रभाव पर प्रकाश डाला उन्होंने जल वायु परिवर्तन से होने वाली समस्याओ और लगातार जन्तुओ की प्रजातियों में हो रही कमी पर चिंता व्यक्त की और सुझाव दिया की जैव विविधा संरक्षण पाठ्यक्रम में प्रमुखता से शामिल किया जाना चाहिए। 

कार्यक्रम के अंतिम प्रमुख वक्ता प्रोफेसर आर.सी. वर्मा ने विषाणुओ की पहचान में उपयोगी तकनिको के बारे में विस्तार से बताया और कहा की किसी एक तकनिक पर निर्भरता अच्छी नहीं है, उन्होंने यह भी स्पष्ट किया की सही पहचान नियंत्रण में भी सहायक होती है।  विषाणु अति सूक्ष्म एवंम परिवर्तनशील होते है अतः इनके डिटेक्शन में रैपिड टेस्ट की आवश्यकता होती है।  प्राणिकी एवंम जैव-प्रैद्योगिकी अध्ययनशाला, विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन की प्रोफेसर एवंम हेड प्रोफेसर लता भट्टाचार्य ने जैवप्रौधोगिकी विभाग द्वारा कोरोना पर किये जा रहे जागरूपता कार्यक्रम के बारे में सबको विस्तार से अवगत कराया। कार्यक्रम में प्रो. डी.एम. कुमावत, प्रो. अलका व्यास, डॉ. एस.के. जैन, डॉ सलिल सिंह, डॉ अरविंद शुक्ला, डॉ.जगदीश शर्मा, डॉ संतोष कुमार ठाकुर, डॉ स्मिता सोलंकी, डॉ गरिमा शर्मा और श्री राकेश पंड्या उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन डॉ. शिवी भसीन ने किया और धन्यवाद ज्ञापन डॉ. चित्रलेखा कदेल (सोनी) ने दिया।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग