Skip to main content

वर्तमान कोरोना व्याधि के संबंध में त्वरित एवं प्रभावी दिनचर्या व चित्कित्सा उपक्रम

 वर्तमान कोरोना व्याधि के संबंध में त्वरित एवं प्रभावी दिनचर्या व चित्कित्सा उपक्रम


  आज की परिस्थिति  को देखते हुए  आयुर्वेद दिनचर्या एवं चिकित्सा का उपयोग अत्यंत प्रभावी दृष्टिगोचर हो रहा है  उदाहरणार्थ केरल केरल राज्य द्वारा किए गए   कार्य एवं उसका परिणाम हमारे समक्ष है आयुर्वेद ग्रंथों एवं सनातन परंपरा में जिस दिनचर्या का वर्णन किया गया है जो  किसी भी प्रकार की संक्रामक व्याधियो से बचाने में अत्यंत प्रभावी है साथ ही अन्यान्य लाभ भी प्राप्त होते हैं।  महामारी के लिए भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय एवं आयुष मंत्रालय के तत्वाधान में कुछ आयुर्वेदिक औषधियों का परीक्षण प्रारंभ हो रहा है लेकिन इसी के साथ हम शीघ्र  लाभ  रोग के  प्रभाव को समाप्त  करने के इसकी आवश्यकता है। प्रमाणिकता के कहा गया है 

इदं  आगम  सिद्ध्त्तवात्  प्रत्यक्ष फल  दर्शनाता।

मंत्रवत् तत  प्रयोकत्वयं  न मीमांशा  कथ्श्चन।।  

अर्थात यह  सब  पहले से ही आप्त पुरूषों के द्वारा  सिद्ध है इसके उपयोग से प्रत्यक्ष  परिणाम  प्राप्त  होता है, अतः  इस  पर  संशय  करने का   कोई  औचित्य नहीं है। 

दिनचर्या को भी इसमें जोड़ कर यदि उपयोग में लाते हैं तो हम दोगुनी क्षमता से इस महामारी पर विजय प्राप्त करेंगे साथ ही हमारे फ्रंटलाइन वर्कर,डॉक्टर  नर्सेज  पैरामेडिकल स्टाफ एवं प्रशासनिक अधिकारी गण को हम संक्रमित होने  से बचा लेंगे।  जिसका परिणाम एक सप्ताह में पूर्णरूपेण सामने होगा ।

हमें  तीन  महत्त्वपूर्ण बिंदुओ  पर  कार्य करने की  आवश्यकता है-

1- चिकित्सा कार्य व प्रशासनिक  व्यवस्था मैं लगे हुए व्यक्तियों को बचाव के लिए ::

 नस्य कर्म  - नासा में  दो दो बूंद  तैल डालना   तैल  अणु तैल,तिल तैल, नारियल तेल ,सरसो  तैल ,बादाम रोगन  तैल हो सकता हैं ।इस  एक प्रक्रिया मात्र से संक्रमण का खतरा  नगण्य  हो जाता है। 

अंजन-  आँखो  में  गाय के घी  को काजल की  तरह लगाना, या  घर  पर  बने  काजल  का  प्रयोग करना।

गंडूष-  मुह में  1चमच कोई  तैल  भर कर 5,7 मिनिट  रखना। 

अभ्यंग - नहाने के  15,20 मिनिट  पहले  पुरे  शरीर  पर  तैल  लगाना।

उक्त  प्रक्रियाओं से  संक्रमण का खतरा  शून्य  हो  जाता है  साथ ही  मानसिक तनाव  कम होता है,  नींद  अच्छी आती है,सेनेटाजर आदि  का दुष्प्रभाव  भी  कम हो जाता है।

एवं  एक अदृश्य  सुरक्षा  कवच तैयार हो जाता है। 

धूपन-गाय का घी, गुग्गुल ,वचा, नीम के  पत्ते, हरीतकी,नागर मोथा  का  धूपन  करें। धूपन से वातावरण  की  शुद्धि  ,सकारात्मक ऊर्जा का संचार, कपड़े आदि  का  विसंक्रमण  होता है। 

साथ  ही कुछ  औषधि  जैसे  सशमनी वटी  2,2 सुबह शाम ,महा सुदर्शन  घन वटी 2,2 सुबह शाम सप्ताह में  तीन दिन  ले। जिससे यदि  व्याधि से संक्रमित भी हो  चुके हैं  तो  भी रोग की अभिव्यक्ति  नही  होगी।साथ ही  दुसरे लोगो में संक्रमण नही  फैला  पाएंगे ।

2-दुसरा बिंदु  संदिग्ध  व्यक्तियों को  दिनचर्या का पालन  तो कराना है साथ  ही जिनमें  रोग के लक्षण नहीं हैं  को  महासुदर्शन  चूर्ण  2,5ग्राम  सामान्य जल से  सुबह शाम  तीन दिन तक  देना है  साथ  ही  गिलोय,वासा (अडूषा ), कालमेघ  या  चिरायता   काढ़ा  या आरोग्यम क्वाथ  का  प्रयोग कर सकते हैं।उक्त  औषधियो के  प्रयोग  से  संक्रमित  असंक्रमित हो   जाएंगे।गिलोय, वासा, चिरयता का काढा  ज्वर, सर्दी, खांसी, श्वास की समस्या  में  अत्यंत  प्रभावी है। बी पी,शुगर, हृदय  लिवर  के रोगियों व गर्भिणी  ,बच्चो के लिए सुरक्षित है, बच्चो को  शहद मिलाकर  देना चाहिए। 

3-तीसरा   बिंदु   संक्रमित  रोगी  जिनमे  रोग के  लक्षण दिखाई दे रहे हैं  को बुखार के  लिये महा सुदर्शन  चूर्ण , गिलोय घन  वटी, संजीवनी वटी   तथा  सर्दी  खासी  के लिए  त्रिकटु  चूर्ण + सितोपलादी  चूर्ण का प्रयोग   साथ ही गिलोय ,वासा,चिरायता  के  काढ़े  का प्रयोग करा सकते हैं।3 दिन  में  रोग के लक्षण  समाप्त हो  जायेगा ,7दिन में  रोगी पूरी तरह से स्वस्थ हो जायेगा।

श्वास की परेशानी होने पर  पीठ पर तैल + सेंधा नमक  मिलाकर  गुनगुना करके  मालिश  व सिकाई  करने से तुरंत आराम मिलता है, इसको  श्वास के  लक्षण वाले  रोगियों में  नियमित कर सकते हैं।


दुसरे संक्रमित क्षेत्रों से आने वाले व्यक्तियों पर बिंदु क्रमांक दूसरा अपनाना चाहिए।

व्यापक स्तर पर यह करने पर हम  रोग पर तो शीघ्र ही  विजय प्राप्त कर लेंगें  साथ ही रोग के उपद्रवों से  भी  बचे   रहेंगे।    

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक