Skip to main content

आर्थिक और राजनीतिक क्षेत्रों में स्त्रियों की भूमिका मजबूत हो – प्रो शर्मा ; दुरूह क्षेत्रों में अपार क्षमता दिखा रही हैं महिलाएं – प्रो पांडेय ; मातृशक्ति संचेतना महोत्सव में हुआ मातृशक्ति सम्मान समारोह और महिला सशक्तीकरण पर केंद्रित राष्ट्रीय संगोष्ठी

आर्थिक और राजनीतिक क्षेत्रों में स्त्रियों की भूमिका मजबूत हो  – प्रो शर्मा

दुरूह क्षेत्रों में अपार क्षमता दिखा रही हैं महिलाएं – प्रो पांडेय

मातृशक्ति संचेतना महोत्सव में हुआ मातृशक्ति सम्मान समारोह और महिला सशक्तीकरण पर केंद्रित राष्ट्रीय संगोष्ठी 



देश की प्रतिष्ठित संस्था राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना, उज्जैन द्वारा शिवाज् योग नेचुरोपैथी संस्थान, जयपुर के सहयोग से वर्धमान भवन, जयपुर में आयोजित दो दिवसीय मातृशक्ति संचेतना महोत्सव में  मातृशक्ति सम्मान समारोह एवं महिला सशक्तीकरण : नए परिप्रेक्ष्य में पर केंद्रित राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन हुआ, जिसमें देश के दस से अधिक राज्यों के प्रतिभागियों ने भाग लिया। आयोजन के मुख्य अतिथि राजस्थान विश्वविद्यालय, जयपुर के डीन प्रो नन्दकिशोर पांडेय थे। मुख्य वक्ता विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलानुशासक प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा थे। अध्यक्षता श्री मोहनलाल वर्मा, उदयपुर ने की। विशिष्ट अतिथि पूर्व विधायक डॉ अर्चना शर्मा, डॉ जयश्री शर्मा, डॉ रंजीता सिंह, देहरादून, डॉ रत्ना शर्मा, जयपुर, डॉ सुनीता मंडल, कोलकाता, डॉ ममता झा, मुंबई, श्री अनिल लड्ढा, जयपुर, श्री पी सी गांधी, डॉ प्रभु चौधरी, उज्जैन एवं डॉ शिवा लोहारिया, जयपुर थीं। संगोष्ठी सत्र में महिला सशक्तीकरण के विभिन्न पहलुओं पर विद्वानों ने विचार प्रस्तुत किए। 

महोत्सव के प्रमुख अतिथि प्रो नन्दकिशोर पांडेय ने कहा कि हाल के दो दशकों में समाज के सभी क्षेत्रों में महिलाओं की भागीदारी के अवसर बढ़े हैं। महिलाओं ने उन कार्यों में अपनी अपार दक्षता दिखाई है, जिन्हें पहले दुरूह माना जाता था। राष्ट्रीय आंदोलन के दौर में स्वतंत्रता प्राप्ति के साथ स्त्री शिक्षा और सशक्तीकरण की ओर विशेष ध्यान दिया गया था।

मुख्य वक्ता लेखक एवं आलोचक प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा ने कहा कि नए दौर में महिलाएं सदियों से जारी परम्परागत जड़ता से मुक्ति की संभावनाओं को तलाश कर रही हैं। नारी सशक्तीकरण के लिए आवश्यक है कि स्त्री से जुड़े सामाजिक दृष्टिकोण में बदलाव हो। आर्थिक गतिविधियों और राजनीतिक क्षेत्र में स्त्रियों की भूमिका बढ़े, यह जरूरी है। महिला स्वास्थ्य के लिए विशेष प्रयासों की दरकार है। 

अध्यक्षीय भाषण में श्री मोहनलाल वर्मा, उदयपुर ने नारी सशक्तीकरण के लिए सभी स्तरों पर जारी प्रयासों  की चर्चा की। 

संगोष्ठी की प्रस्तावना प्रस्तुत करते हुए संस्था के महासचिव डॉ प्रभु चौधरी ने कहा कि नारी शक्ति के सम्मान और उनकी व्यापक हिस्सेदारी से भारत का भविष्य और बेहतर होगा। आयोजन के विशिष्ट अतिथियों ने भी विचार व्यक्त किए।

समारोह में समाज, साहित्य एवं संस्कृति के क्षेत्र में विशिष्ट योगदान के लिए पचास  से अधिक महिलाओं को मातृशक्ति सम्मान से अलंकृत किया गया, इनमें राजमाता जीजाबाई, पन्ना धाय, अहिल्याबाई होलकर, सावित्री बाई फुले एवं सुभद्राकुमारी चौहान पर नामित सात विशिष्ट सम्मान शामिल थे। सम्मानित स्त्रीरत्नों में  डॉ मुक्ता कौशिक, रायपुर, डॉ रेखा भालेराव, उज्जैन, डॉ चेतना उपाध्याय, अजमेर, डॉ रंजीता सिंह, देहरादून, डॉ शिवा लोहारिया, जयपुर, डॉ अर्चना शर्मा, जयपुर, सुश्री रेणु शब्दमुखर, जयपुर, डॉ सुनीता चौहान, मुंबई, हेमलता शर्मा, इंदौर (मालवा रत्न), डॉ दीपिका सुतोदिया, असम (श्रेष्ठ कवयित्री), श्रीमती पूर्वांशी जैन, जयपुर, श्रीमती खुशबू शर्मा, जयपुर, श्रीमती कृष्णा भोजावत, इंदौर, श्रीमती अपर्णा जोशी, इंदौर, डॉ गरिमा गर्ग, पंचकूला, नेहा नाहटा, दिल्ली, डॉ  निरुपमा चतुर्वेदी, जयपुर, पायल परदेशी, महू, श्रीमती अपर्णा तिवारी, इंदौर, डॉ ममता झा, मुंबई, श्रीमती तारावती सोनी, जयपुर, डॉ मनीषा सिंह, मुंबई, डॉ आर्यावर्ती सरोजा, लखनऊ, सुश्री प्रगति बैरागी, उज्जैन, मंजूबाला श्रीवास्तव, जोबट, डॉक्टर रोहिणी डाबरे, अकोले, श्रीमती पूर्णिमा कौशिक, रायपुर, श्रीमती आस्था जैन, जयपुर, श्रीमती जिज्ञासा गोस्वामी, अलीगढ़, श्रीमती नेहा नाहटा, दिल्ली, श्रीमती संतरा बलाई, टोंक, श्रीमती श्रीमती जयश्री शर्मा, इंदौर, डॉ दीपा अग्रवाल, अजमेर, डॉ रत्ना शर्मा, श्रीमती पूनम शर्मा, श्रीमती रेनु शर्मा, श्रीमती विजयलक्ष्मी जोगी, जयपुर, श्रीमती सुनीता धनगर, डॉ अंजू सक्सेना, श्रीमती हिमाद्रि समर्थ, जयपुर, श्रीमती सयाली निवृत्ति भटकूले, पुणे आदि शामिल थीं। आयोजन में देश के विभिन्न भागों के संस्कृतिकर्मी, साहित्यकारों, शिक्षाविद एवं गणमान्यजन ने भाग लिया। 

कार्यक्रम में राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना द्वारा प्रकाशित परिचय पुस्तिका संपर्क का विमोचन अतिथियों द्वारा किया गया।


स्वागत भाषण डॉ शिवा लोहारिया, जयपुर ने दिया। अतिथियों का स्वागत डॉ प्रभु चौधरी, डॉ शिवा लोहारिया, श्री  अविनाश शर्मा, जयपुर आदि ने किया। कार्यक्रम के शुभारंभ में सरस्वती वंदना नेहा नाहटा, नई दिल्ली ने की। पायल परदेशी, महू ने कविता पाठ किया। स्वागत गीत कवि श्री सुंदर लाल जोशी सूरज नागदा ने प्रस्तुत किया। संस्था परिचय श्रीमती गरिमा गर्ग, पंचकूला ने दिया। आयोजन में सुश्री मनस्वी भोजावत एवं सुश्री मोक्षा लोहाड़िया ने नृत्य की प्रस्तुति की।

सत्रों का संचालन संस्था के राष्ट्रीय महासचिव डॉ प्रभु चौधरी एवं राजस्थान प्रदेश महासचिव रेणु शब्दमुखर, जयपुर ने किया। आभार प्रदर्शन शिवाज् योग नेचुरोपैथी संस्थान की अध्यक्ष डॉ शिवा लोहारिया एवं सुश्री प्रगति बैरागी ने किया।


Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक