Featured Post

मध्यप्रदेश सरकार का बजट प्रदेश के विकास के लिए नए आयाम स्थापित करने में मील का पत्थर साबित होगा - जल संसाधन मंत्री श्री सिलावट

 मध्यप्रदेश सरकार का बजट प्रदेश के विकास के लिए नए आयाम स्थापित करने में मील का पत्थर साबित होगा - जल संसाधन मंत्री श्री सिलावट


भोपाल, मंगलवार, 02 मार्च 2021 ।  मध्यप्रदेश के जल संसाधन, मछुआ कल्याण और मत्स्य विकास मंत्री श्री तुलसी राम सिलावट ने मध्यप्रदेश सरकार के वित्त मंत्री श्री जगदीश देवड़ा जी द्वारा विधान सभा में प्रस्तुत किए गए बजट वर्ष 21-22 को बेहतरीन बजट बताते हुए कहा कि, मध्यप्रदेश सरकार का बजट प्रदेश के विकास के लिए नए आयाम स्थापित करने में मील का पत्थर साबित होगा। आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश बनाने के लिए प्रदेश की जनता की उम्मीदों पर खरा उतरेगा । युवाओं को स्वरोजगार के नए अवसर देगा । इस बजट ने कोरोना महामारी के समय प्रदेश की जनता को तरक्की की नई राह दिखाई है । 

मध्यप्रदेश में नयें 9 शासकीय मेडिकल कालेज की घोषणा से बच्चों को स्वास्थ क्षेत्र में नए अवसर मिलेंगे । प्रदेश में 900 से अधिक एमबीबीएस की सीटे भी बढ़ाई गई है, इससे प्रदेश को बड़ी संख्या में डॉक्टर उपलब्ध होंगे। 

किसानों की आय को दुगुना करने के लिए प्रदेश में सिंचाई का क्षेत्र 65 लाख हेक्टेयर करने का लक्ष्य रखा गया है । बजट प्रस्ताव में 1 लाख 27 हजार हेक्टेयर की 164 नवीन सिंचाई परियोजनायें सम्मिलित है । जल संसाधन बजट भी बढ़ाकर 6 हजार 436 करोड़ प्रस्तावित है । 

मछली पालन को बढ़ावा देने के लिए 4 लाख 33 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में मछली पालन किया जा रहा है और मछुआरों की आय को दुगुना करने के लिए योजना लाए जाने की ऐतिहासिक पहल की गई है । किसानों को प्रदेश में 10 हजार रूपये की सम्मान निधि दी जा रही है । शिक्षा के स्तर पर बेहतर करने के लिए 24 हजार से अधिक नए शिक्षको की भर्ती की जाएगी । प्रदेश के स्कूलों के विकास के लिए 15 सौ करोड़ का बजट का प्रावधान किया गया है । सीएम राइजिंग स्कूल के तहत 09 हजार 200 स्कूल खोले जाने से छात्र - छात्राओं को और बेहतर शिक्षा के अवसर मिलेंगे । मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना शुरू होने से बुजुर्ग माता-पिता का आशीर्वाद प्रदेश की जनता और सरकार को मिलेगा । सहकारी बैंकों के माध्यम से फसलों के लिये किसानों को शून्य ब्याज दर पर 1 हजार करोड़ रुपए की राशि के प्रावधान से कृषि क्षेत्र में विकास की नई राह खुलेगी ।   ग्रामीण क्षेत्रों में जल- जीवन मिशन से गांव के घरों में शुद्ध जल उपलब्ध होगा।  4500 मेगावाट के नए सोलर पार्क की स्थापना से मध्यप्रदेश में सौर ऊर्जा के क्षेत्र में ग्रीन और क्लीन ऊर्जा की और बेहतर कदम है। 

प्रदेश में 2 हजार 400 किमी से अधिक नई सड़को को बनाने के प्रावधान से रोजगार, आधारभूत संरचना का निर्माण और  उस क्षेत्र के विकास के नए अवसर उपलब्ध होंगे।

✍ अरुण कुमार राठौर, जनसम्पर्क अधिकारी

Comments