Featured Post

सात दिवसीय विशिष्ट कायाकल्प शिविर प्रारंभ ; वर्तमान परिप्रेक्ष्य में प्राकृतिक तरीकों से उपचार कारगर: श्री सुंदर पूरी जी महाराज

सात दिवसीय विशिष्ट कायाकल्प शिविर प्रारंभ

वर्तमान परिप्रेक्ष्य में प्राकृतिक तरीकों से उपचार कारगर: श्री सुंदर पूरी जी महाराज
उज्जैन। श्रीगुरु योग आश्रम के तत्वावधान में स्थानीय दत्त अखाड़ा  पर आयोजित सात दिवसीय विशिष्ट कायाकल्प शिविर का शुभारंभ दत्त अखाड़ा के गादीपति श्री पीर सुंदर पूरी  जी महाराज के मुख्य आतिथ्य एवं नाड़ी रोग एवं कायाकल्प विशेषज्ञ योग गुरु श्री प्रमोदानंद वेदांती, हरिद्वार के विशिष्ट आतिथ्य में किया गया। इस अवसर पर  बड़ी संख्या में प्रतिभागियों ने  हिस्सा लेकर शिविर का लाभ प्राप्त किया। शिविर में सभी प्रतिभागियों को शरीर के संपूर्ण शुद्धीकरण हेतु नि:शुल्क कायाकल्प काढ़ा वितरित किया गया। कार्यक्रम में प्रशिक्षणार्थियो को संबोधित करते हुए श्री सुंदर पुरी जी महाराज ने कहा कि वर्तमान परिप्रेक्ष्य में विभिन्न व्याधियों का प्राकृतिक तरीकों से उपचार ही कारगर है। हम लंबे समय तक स्वस्थ जीवन जीना चाहते हैं तो हमें प्राकृतिक एवं आयुर्वेदिक पद्धतियों का सहयोग लेते हुए नियमित दिनचर्या में योग एवं शारिरिक व्यायाम को स्थान देना अत्यंत आवश्यक है।

चित्र में - श्री सुंदर पुरी जी महाराज ,श्री प्रमोदानंद जी वेदांती एवं योगाचार्य श्रीमती भूमिका दुबे दीप प्रज्वलित कर शिविर का उद्घाटन करते हुए।


प्रारम्भ में शिविर संयोजक योगाचार्य श्रीमती भूमिका दुबे ने स्वागत भाषण तथा शिविर की जानकारी से  प्रशिक्षणार्थियों को अवगत कराया। अतिथियों का स्वागत डॉ आशीष मेहता, समीक्षा व्यास,परिचय रघुवंशी, परिणीता शर्मा,रघुवीर सिंह ने किया। इस अवसर पर विभिन्न चेनलों पर आयोजित रियलिटी शो में धूम मचाने वाले रबर बॉय शुभम शर्मा एवं कैशवी पुरोहित ने योग की रोमांचक प्रस्तुत देकर दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया। कार्यक्रम का संचालन श्रीमती समीक्षा व्यास ने किया तथा आभार डॉ आशीष मेहता ने व्यक्त किया।

शिविर में नाड़ी परीक्षण, नाड़ी शोधन, बॉडी अलाइनमेंट, योग निद्रा, सात चक्र पर ध्यान, पंचकर्म, षट्कर्म तथा योगाभ्यास के माध्यम से विभिन्न असाध्य रोगों का परीक्षण एवं निदान किया जा रहा है। 1से 7 मार्च तक आयोजित  7 दिवसीय शिविर में प्रतिदिन प्रातः 6:00 बजे से दोपहर 11:00 बजे एवं सायं 4:00 से 7:00 तक प्रशिक्षणार्थियों को प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। शिविर के दौरान योग प्राकृतिक चिकित्सा एवं आयुर्वेद पर नियमित रूप से विशिष्ट व्याख्यान आयोजित किए जाएंगे।

Comments