Featured Post

विक्रम विश्वविद्यालय उज्जैन के पुरातत्त्व विभाग द्वारा 2500 वर्ष पुराने शैलचित्रों की नवीन खोज

 विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के पुरातत्त्व विभाग द्वारा 2500 वर्ष पुराने शैलचित्रों की नवीन खोज


उज्जैन  : दिनांक-25 से 27 फरवरी 2021 को विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के प्राचीन भारतीय इतिहास, संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग के प्राध्यापक एवं छात्रों ने श्री अमित श्रीवास्तव स्थानीय निवासी की सूचना पर नरसिंहपुर जिले की करेली तहसील के अन्तर्गत बैनेकी ग्राम के दुर्गम पहाड़ी इलाको में निर्मित शैलाश्रयों की खोज की गई। ये शैलाश्रय नर्मदा नदी की सहायक नदी शक्कर (शंकर नदी) के तट पर निर्मित है। टीम ने यहाँ की दुर्गम पहाड़ी पर 7 चित्रित शैलाश्रयों की नवीन खोज की जो अभी तक प्रकाश में नहीं आ सके थे। इन शैलाश्रयों में प्राचीन मानव का निवास रहा है जिनके प्रमाण के रूप में यहाँ पाषाण उपकरण भी प्राप्त हुए है। शैलाश्रयों के चित्र लगभग 2500 वर्ष प्राचीन ऐतिहासिक काल के हैं। जिनके अध्ययन से तत्कालीन मानव की राजनीतिक, आर्थिक, सामाजिक तथा धार्मिक जानकारी प्राप्त होती है।


शैलाश्रयों के चित्र लाल एवं सफेद रंग में निर्मित है। यहाँ हैमेटाइट पाषाण भी प्राप्त हुए है। जिनसे चित्रों के रंग बनाये जाते थे। इन चित्रों की संक्षिप्त विषय वास्तु इस प्रकार है - 

1. मानव आकृतियों का चित्रण- शैलाश्रयों में चित्रित पुरूष और महिलाओं के विविध शीर्ष भाग दिखाए गए है, साथ ही एकल एवं सामूहिक नृत्य के चित्र भी निर्मित है। अनेक पुरूष तीर कमान, भाले एवं तलवार लिए हुए हैं। कहीं माँ एवं बच्चे का अंकन है। इससे तत्कालीन मानव की राजनीतिक एवं सामाजिक गतिविधियों की जानकारी प्राप्त होती है।

2. युद्ध करते हुए योद्धाओं का चित्रांकन- हाथी एवं अश्वारोही चित्रों में युद्ध करते दृश्य दिखाये गये हैं। जिसमें योद्धा अपने हाथो में तलवार, भाला, तीर-कमान लिए युद्ध करते दिखाये गये हैं। अश्व एवं हाथी परम्परागत प्रकृति से सुसज्जित है। सामूहिक नृत्य करते हुए चित्र भी है। ज्ञात होता है कि यहाँ कबीलों के प्रमुखों का वर्चस्व का प्रभाव है।

3. पशु आकृतियों का चित्रांकन- शैलाश्रयों के चित्रों में विविध प्रकार के पशुओं की आकृतियाँ निर्मित है। जैसे-अश्व, हाथी, बिल्ली. कुत्ते, सिंह, हिरण, बारहसिंगा, बैल पक्षी आदि के चित्र है। इससे मानव की नजदीकियों का पता चलता है। इसमें कुछ पशुओं के पृष्ठ भाग पर चक्र की आकृति निर्मित है। जो यहाँ की निजी विशेषता है। यह निश्चय ही राजकीय प्रभाव प्रतीत होता है।

4. पक्षियों का अंकन-शैलाश्रयों में मोर का चित्रांकन महत्त्वपूर्ण एवं प्रमुख है। अन्य पक्षी भी है, लेकिन चित्र स्पष्ट नहीं है। शैलाश्रय और भी है जिनका अध्ययन अपेक्षित है।

महत्त्वपूर्ण उपलब्धि- विभाग द्वारा इन शैलाश्रयों का नामकरण किया गया है। जो BNK-1, BNK-2, BNK-3, BNK-4, BNK-5, BNK-6, BNK-7 है। इनका शीघ्र ही प्रकाशन इण्डियन आर्कियोलॉजिकल रिव्यू, भारत सरकार, नई दिल्ली में किया जाएगा। यह विश्वविद्यालय के खोज की महत्वपूर्ण उपलब्धि होगी।

इस प्रकार यह सतपुड़ा की पहाड़ी बहुत ही दुर्गम पहाड़ी है। टीम ने लगभग 10 किलोमीटर की पैदल यात्रा कर यह कार्य किया। यहाँ मानव जीवन के आवश्यक पहलू मौजूद है। मानव ने इन शैलाश्रयों में अपना निवास स्थल बनाया और पानी एवं भोजन की व्यवस्था यहाँ प्राप्त थी। यहाँ आज भी जंगली जानवरों का आवास है। पास ही दूरी पर बिनैकी ग्राम के निवासी निवासरत है। जो परम्परागत रूप से कृषि एवं शिकार कर रहे है। अभी पूरी तरह से मुख्य धारा से लोग नहीं जुड़ पाये है। साधन का अभाव है।

डॉ.रामकुमार अहिरवार, विभागाध्यक्ष, प्राचीन भारतीय इतिहास, संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग ने जानकारी देते हुए बताया कि, विक्रम विश्वविद्यालय के माननीय कुलपति प्रो.अखिलेश कुमार पाण्डे एवं कुलसचिव डॉ.यू एन.शुक्ला के निर्देशानुसार यह पुरातात्त्विक शैलचित्रों की खोज की गई। इन शैलाश्रय चित्रों की खोज विभाग के प्राध्यापक डॉ.रितेश लोट एवं डॉ.हेमन्त लोदवाल के नेतृत्व में की गई। छात्रों में श्री शुभम केवलिया और श्री सुधीर कुमार मरकाम की विशेष भूमिका रही हैं।

विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन द्वारा विभाग के इन प्राध्यापक और छात्रों को इस नई खोज के लिए बधाई दी गयी। जिससे इतिहास के तथाकथित अंधयुगीन पृष्ठ उजागर हो सकेंगे।

Comments