Skip to main content

प्राचीन भारतीय इतिहास विभाग में राष्ट्रीय शिक्षा नीति और इतिहास विषय के पाठ्यक्रम पर परिचर्चा ; भूतपूर्व छात्रों को दिया गया पद्मश्री डॉ.विष्णुभरीधर वाकणकर स्मृति सम्मान 2021

प्राचीन भारतीय इतिहास विभाग में राष्ट्रीय शिक्षा नीति और इतिहास विषय के पाठ्यक्रम पर परिचर्चा

भूतपूर्व छात्रों को दिया गया पद्मश्री डॉ.विष्णुभरीधर वाकणकर स्मृति सम्मान 2021

विक्रम विश्वविद्यालय के प्राचीन भारतीय इतिहास, संस्कृति एवं पुरातत्त्व अध्ययनशाला में आज दिनांक- 17.03.2021, प्रातः 11:00 बजे पद्मश्री डॉ.विष्णुश्रधर वाकणकर स्मृति सम्मान 2021 के अन्तर्गत राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 तथा इतिहास विषय के पाठ्यक्रम पर परिचर्चा की गयी। जिसकी उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति माननीय डॉ.अखिलेश कुमार पाण्डेय ने की। कुलपति ने अपने उद्बोधन में प्राचीन एवं आधुनिक इतिहास के गौरवमय पृष्ठों को प्रकाश में लाने तथा डॉ.वाकणकर की खोजों और उनकी उपलब्धियों को पाठ्यक्रम में लाने का आग्रह किया। साथ ही नवनियुक्त सहायक प्राध्यापकों फील्ड वर्क करने और अपने महाविद्यालय में शोध केन्द्र खोलने तथा समस्त प्राचार्य को इसमें रूचि लेने का आग्रह किया।

इस अवसर पर विभाग के भूतपूर्व छात्र अतिथि डॉ.नारायण व्यास, भोपाल, डॉ.प्रशान्त पुराणिक, उज्जैन, डॉ.हर्षवर्धन सिंह तोमर, भोपाल डॉ.ललित शर्मा, झालावाड़, डॉरमेश यादव, भोपाल, एवं डॉ. नीरज त्रिपाठी, अजमेर को पद्ठाश्री डॉ.विष्णुश्रीघर वाकणकर स्मृति सम्मान 2021 प्रदान किया गया।

साथ ही इस अवसर पर डॉ.रामकुमार अहिरवार की पुस्तक मालवा की बौद्ध संस्कृति तथा भारतीय साहित्य एवं कला में गौण एवं लोक देवी-देवता, डॉ.रितेश लोट के ग्रंथ मालवा का शैलोत्कीर्ण स्थापत्य एवं मुर्तिशिल्प तथा डॉ.बिन्दु शर्मा के ग्रंथ मालवा क्षेत्र के गौण देवी-देवताओं का प्रतिमा शास्त्रीय अध्ययन एवं डॉ.मुकेश कुमार शाह के ग्रंथ प्राचीन मालवा में विज्ञान एवं तकनीकी ग्रंथ का लोकार्पण हुआ।

इस अवसर पर विक्रम विश्वविद्यालय परिक्षेत्र के 40 महाविद्यालयों के इतिहास के 60 प्राध्यापक, सहायक प्राध्यापक और अतिथि विद्वान सम्मिलित हुए। जिन्होंने इतिहास विषय पर मंथन कर राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के अनुरूप पाद्यक्रम को तैयार करने पर परिचर्चा हुई। जिसे आगामी अध्ययन बोर्ड की बैठक में इसे प्रस्तुत किया जायेगा। स्वागत भाषण डॉ.रामकुमार अहिरवार ने प्रस्तुत किया। कार्यक्रम का संचालन डॉ.विश्वजीत सिंह परमार, डॉ.प्रीति पाण्डे, डॉअंजना सिंह गौर, डॉ.रितेश लोट, डॉ.हेमन्‍त लोदवाल, डॉ.रमण सोलंकी तथा आभार डॉ.धीरेन्द्र सोलंकी ने ज्ञापित किया। इस अवसर पर विशेष रूप से प्रो.एच.पी.सिंह, प्रो. मुसलगांवकर, डॉ.आर.सी.ठाकुर, प्रो.अल्पना दुभाषे, प्रो. ऊषा अग्रवाल, प्रो. रंजना व्यास, डॉ.अंजलि अग्रवाल, डॉ. दीपिका रायकवार तथा अनेक प्राध्यापक एवं शोधार्थी उपस्थित थे।



Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक