Skip to main content

प्राचीन भारतीय इतिहास विभाग में राष्ट्रीय शिक्षा नीति और इतिहास विषय के पाठ्यक्रम पर परिचर्चा ; भूतपूर्व छात्रों को दिया गया पद्मश्री डॉ.विष्णुभरीधर वाकणकर स्मृति सम्मान 2021

प्राचीन भारतीय इतिहास विभाग में राष्ट्रीय शिक्षा नीति और इतिहास विषय के पाठ्यक्रम पर परिचर्चा

भूतपूर्व छात्रों को दिया गया पद्मश्री डॉ.विष्णुभरीधर वाकणकर स्मृति सम्मान 2021

विक्रम विश्वविद्यालय के प्राचीन भारतीय इतिहास, संस्कृति एवं पुरातत्त्व अध्ययनशाला में आज दिनांक- 17.03.2021, प्रातः 11:00 बजे पद्मश्री डॉ.विष्णुश्रधर वाकणकर स्मृति सम्मान 2021 के अन्तर्गत राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 तथा इतिहास विषय के पाठ्यक्रम पर परिचर्चा की गयी। जिसकी उद्घाटन सत्र की अध्यक्षता विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति माननीय डॉ.अखिलेश कुमार पाण्डेय ने की। कुलपति ने अपने उद्बोधन में प्राचीन एवं आधुनिक इतिहास के गौरवमय पृष्ठों को प्रकाश में लाने तथा डॉ.वाकणकर की खोजों और उनकी उपलब्धियों को पाठ्यक्रम में लाने का आग्रह किया। साथ ही नवनियुक्त सहायक प्राध्यापकों फील्ड वर्क करने और अपने महाविद्यालय में शोध केन्द्र खोलने तथा समस्त प्राचार्य को इसमें रूचि लेने का आग्रह किया।

इस अवसर पर विभाग के भूतपूर्व छात्र अतिथि डॉ.नारायण व्यास, भोपाल, डॉ.प्रशान्त पुराणिक, उज्जैन, डॉ.हर्षवर्धन सिंह तोमर, भोपाल डॉ.ललित शर्मा, झालावाड़, डॉरमेश यादव, भोपाल, एवं डॉ. नीरज त्रिपाठी, अजमेर को पद्ठाश्री डॉ.विष्णुश्रीघर वाकणकर स्मृति सम्मान 2021 प्रदान किया गया।

साथ ही इस अवसर पर डॉ.रामकुमार अहिरवार की पुस्तक मालवा की बौद्ध संस्कृति तथा भारतीय साहित्य एवं कला में गौण एवं लोक देवी-देवता, डॉ.रितेश लोट के ग्रंथ मालवा का शैलोत्कीर्ण स्थापत्य एवं मुर्तिशिल्प तथा डॉ.बिन्दु शर्मा के ग्रंथ मालवा क्षेत्र के गौण देवी-देवताओं का प्रतिमा शास्त्रीय अध्ययन एवं डॉ.मुकेश कुमार शाह के ग्रंथ प्राचीन मालवा में विज्ञान एवं तकनीकी ग्रंथ का लोकार्पण हुआ।

इस अवसर पर विक्रम विश्वविद्यालय परिक्षेत्र के 40 महाविद्यालयों के इतिहास के 60 प्राध्यापक, सहायक प्राध्यापक और अतिथि विद्वान सम्मिलित हुए। जिन्होंने इतिहास विषय पर मंथन कर राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के अनुरूप पाद्यक्रम को तैयार करने पर परिचर्चा हुई। जिसे आगामी अध्ययन बोर्ड की बैठक में इसे प्रस्तुत किया जायेगा। स्वागत भाषण डॉ.रामकुमार अहिरवार ने प्रस्तुत किया। कार्यक्रम का संचालन डॉ.विश्वजीत सिंह परमार, डॉ.प्रीति पाण्डे, डॉअंजना सिंह गौर, डॉ.रितेश लोट, डॉ.हेमन्‍त लोदवाल, डॉ.रमण सोलंकी तथा आभार डॉ.धीरेन्द्र सोलंकी ने ज्ञापित किया। इस अवसर पर विशेष रूप से प्रो.एच.पी.सिंह, प्रो. मुसलगांवकर, डॉ.आर.सी.ठाकुर, प्रो.अल्पना दुभाषे, प्रो. ऊषा अग्रवाल, प्रो. रंजना व्यास, डॉ.अंजलि अग्रवाल, डॉ. दीपिका रायकवार तथा अनेक प्राध्यापक एवं शोधार्थी उपस्थित थे।



Comments

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा सितंबर में आयोजित परीक्षाओं के लिए उत्तर पुस्तिका संग्रहण केंद्रों की सूची जारी

उज्जैन। स्नातक एवं स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष या अंतिम सेमेस्टर की ओपन बुक पद्धति से होने वाली परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं के संग्रहण केंद्रों की सूची विक्रम विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर अपलोड कर दी गई है। संपूर्ण परिक्षेत्र के 7 जिलों में कुल 395 संग्रहण केंद्र बनाए गए हैं। कुलानुशासक, डॉ. शैलेंद्र कुमार शर्मा जी ने जानकारी देते हुए बताया कि, विद्यार्थीगण विश्वविद्यालय की वेबसाइट से संग्रहण केंद्रों की सूची देख सकते हैं। http://vikramuniv.ac.in/examination-notification/ सूची संलग्न दी जा रही है।