Skip to main content

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने 20 लाख किसानों के खातों में ट्रान्सफर किये 400 करोड़ रूपये

 मुख्यमंत्री श्री चौहान ने 20 लाख किसानों के खातों में ट्रान्सफर किये 400 करोड़ रूपये

दमोह के खनिज संसाधनों का दोहन कर स्थापित करेंगे उद्योग - मुख्यमंत्री श्री चौहान
मेडिकल कॉलेज सहित 482 करोड़ से अधिक के विकास कार्यों का किया भूमिपूजन व लोकार्पण

बुन्देलखण्ड की धरती तक पहुँचेगा केन-बेतवा का पानी
 

भोपाल : शनिवार, फरवरी 27, 2021

        मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के 20 लाख किसानों को मुख्यमंत्री किसान कल्याण योजना के तहत 400 करोड़ रुपये की राशि सिंगल क्लिक के माध्यम से उनके खातों में ट्रान्सफर की। दमोह जिला मुख्यालय पर आयोजित राज्यस्तरीय कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि हम मध्यप्रदेश को आत्मनिर्भर बनायेंगे। विकास में मध्यप्रदेश को पीछे नहीं रहने देंगे। हमारी सरकार किसानों, गरीबों, माताओं और बहनों के लिये काम करने वाली सरकार है। कोरोना काल से अब तक विभिन्न योजनाओं के तहत हमने करोड़ों रुपये की राशि किसानों के खातों में भेजी है। आने वाले 15 दिनों में हम पिछले साल खराब हुई फसलों की राहत राशि के तौर पर 1500 करोड़ रुपये की राहत भी प्रभावित किसानों के खातों में ट्रान्सफर करेंगे।

           मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा प्रदेश के किसानों की उन्नति एवं समृद्धि के लिये कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में भी प्रदेश के किसानों से गेहूँ, चने का दाना-दाना खरीदा है। इस साल भी खरीदेंगे। दमोह जिले में जिन किसानों का पंजीयन अब तक नहीं हो पाया है, उनके लिये पंजीयन की अवधि बढ़ाई जाएगी। कार्यक्रम में केन्द्रीय संस्कृति एवं पर्यटन राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री प्रहलाद पटेल,  खजुराहो सांसद श्री वी.डी. शर्मा, मध्यप्रदेश वेयरहाउसिंग एवं लॉजिस्टिक्स कॉरपोरेशन अध्यक्ष श्री राहुल सिंह और पूर्व मंत्री श्री जयंत मलैया ने भी संबोधित किया।

किसानों से किया संवाद

        मुख्यमंत्री किसान-कल्याण योजना के तहत आयोजित राज्यस्तरीय कार्यक्रम में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने सतना, देवास, शिवपुरी, शाजापुर और सिवनी जिले के किसानों के साथ संवाद भी किया। उन्होंने इस दौरान किसानों से योजना का फीडबैक लिया। साथ ही उनकी समस्यायें भी सुनी और उनके निराकरण के लिये संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिए।

दमोह को दी 482 करोड़ से अधिक के विकास कार्यों की सौगा

      मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने दमोह जिले को करोड़ों रुपये के विकास कार्यों की सौगात दी। उन्होंने राज्य स्तरीय कार्यक्रम में 482 करोड़ रूपये से अधिक लागत के कार्यों का भूमिपूजन और लोकार्पण किया। इसमें महत्वूपर्ण रुप से 325 करोड़ रूपये की लागत से बनने वाले मेडिकल कॉलेज का भूमिपूजन शामिल है।

दमोह के खनिज संसाधनों का दोहन कर स्थापित करेंगे उद्योग

      मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि दमोह का सर्वांगीण विकास होगा। दमोह जिले में उपलब्ध खनिज साधनों का दोहन का हम लघु, मध्यम और बड़े उद्योग भी स्थापित करेंगे, जिससे स्थानीय युवाओं को अधिक से अधिक रोजगार मिल सके। उन्होंने दमोह जिले में सिंचाई के लिये किये जा रहे कार्यों की भी जानकारी दी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दमोह शहर के लिये चल रही पेयजल योजना के कार्य को तेजी से पूरा कराने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि दमोह के सर्वांगीण विकास के लिये सभी महत्वपूर्ण विकास कार्य कराये जायेंगे।

बुन्देलखण्ड की धरती तक पहुँचेगा केन-बेतवा का पानी

       मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि लंबे समय से चल रहे केन-बेतवा का विवाद निपट चुका है। हम शीघ्र ही प्रधानमंत्री से मिलकर इस विषय पर चर्चा करेंगे और शीघ्र ही इन नदियों के पानी को बुन्देलखण्ड की धरती तक पहुँचायेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दमोह के 446 गाँवों में जल जीवन मिशन के तहत हर घर में नल के माध्यम से जल पहुँचाने की घोषणा की।

गरीबों के राशन को खुर्दबुर्द करने वालों को भेजें जेल

      मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिले के प्रत्येक पात्र हितग्राही को पात्रता पर्ची जारी करें। कोई भी गरीब इससे न छूटे। यह कलेक्टर की जिम्मेदारी है। जिन पात्र हितग्राहियों की पात्रता पर्ची बने, उन्हें राशन मिले, यह भी सुनिश्चित करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीबों के राशन को खुर्दबुर्द करने वालों के विरुद्ध कड़ी कानूनी कार्यवाही की जाये। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों को हथकड़ी लगवायें और जेल भिजवायें। गड़बड़ी करने वाले किसी भी व्यक्ति को छोड़ा न जाए।

महिलाओं को करेंगे आर्थिक रुप से सशक्त

     मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि महिला सशक्तिकरण की दिशा में सशक्त कदम उठाये जा रहे है। हर माह अलग-अलग स्व-सहायता समूहों के खाते में 150 करोड़ रुपये की राशि भेजी जा रही है। अब हमारी समूह की महिलायें गणवेश भी बनायेंगी। बहनों की आमदनी बढ़ाना हमारा उद्देश्य है। अधिकारी यह भी सुनिश्चित करें कि गणवेश निर्माण कार्य में समूह की बहनें ही काम करें, कोई ठेकेदार न घुसे।

एफआईआर काफी नहीं, संपत्ति कुर्क कर प्रभावितों को दिलायें राशि

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रलोभन देकर अवैध रुप से धन एकत्र करने वाली चिटफंड कंपनियों के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही की जाए। उन्होंने कहा कि हमने अब तक ऐसी कई कंपनियों की संपत्ति जप्त कर नीलाम की हैं और करोड़ों रुपये का भुगतान प्रभावित लोगों को कराया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि आप चिन्ता न करें, ऐसी धोखाधड़ी करने वालों को हम छोड़ेंगे नहीं। मध्यप्रदेश की धरती पर किसी माफिया को नहीं छोड़ा जायेगा, यह मेरा संकल्प है। दमोह में भी ऐसी चिटफंड कम्पनियों के खिलाफ कार्यवाही करने के निर्देश कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक को दिये गये। 

गरीबों की ताकत है संबल

        मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश के खजाने पर पहला हक हमारे गरीब भाईयों और बहनों का है। हमने संबल योजना फिर से प्रारंभ की है। यह गरीबों की ताकत और उनका संबल है, जिसके तहत विभिन्न योजनाओं का लाभ पात्र लोगों को मिलेगा।

प्रत्येक पात्र का बनें आयुष्मान कार्ड

           मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मंच से जिला कलेक्टर से आयुष्मान भारत योजना के बनने वाले कार्डों की जानकारी ली। उन्होने कहा कि प्रत्येक पात्र गरीबों का आयुष्मान कार्ड बनवाना सुनिश्चित करें। कोई भी पात्र गरीब इससे वंचित नहीं होना चाहिये। हमने अब तक 2 करोड़ आयुष्मान कार्ड बनवाये हैं। इस कार्ड के माध्यम से चिन्हित निजी चिकित्सालयों में भी 5 लाख रुपये तक का उपचार हमारे पात्र भाईयों और बहनों को मिल सकेगा।

नहीं चलेगी माफियागिरी

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि प्रदेश में सभी तरह के माफियाओं के खिलाफ कार्यवाही करने का अभियान चल रहा है। किसी की माफियागिरी नहीं चलेगी। जो साफ काम नहीं करेगा, उस पर कार्यवाही होगी। मुख्यमंत्री ने माफियाओं के विरूद्ध होने वाली कार्यवाही सतत् रुप से जारी रखने के निर्देश अधिकारियों को दिये।

हितग्राहियों को बांटे हितलाभ

      मुख्यमंत्री श्री चौहान ने विभिन्न योजनाओं के तहत हितग्राहियों को हितलाभ का वितरण किया। लोक निर्माण मंत्री श्री गोपाल भार्गव, नगरीय प्रशासन मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह, नागरिक आपूर्ति निगम के अध्यक्ष श्री प्रद्युम्न सिंह, विधायक सर्वश्री श्री पी.एल. तन्तुवाय, धमेन्द्र सिंह लोधी, श्रीमती रामबाई सिंह परिहार, जिला पंचायत अध्यक्ष श्री शिवचरण पटेल, पूर्व मंत्री डॉ.रामकृष्ण कुसमरिया पूर्व सांसद चन्द्रभान सिंह सहित जन-प्रतिनिधि उपस्थित थे।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

चौऋषिया दिवस (नागपंचमी) पर चौऋषिया समाज विशेष, नाग पंचमी और चौऋषिया दिवस की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं

चौऋषिया शब्द की उत्पत्ति और अर्थ: श्रावण मास में आने वा ली नागपंचमी को चौऋषिया दिवस के रूप में पुरे भारतवर्ष में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता हैं। चौऋषिया शब्द की उत्पत्ति संस्कृत शब्द "चतुरशीतिः" से हुई हैं जिसका शाब्दिक अर्थ "चौरासी" होता हैं अर्थात चौऋषिया समाज चौरासी गोत्र से मिलकर बना एक जातीय समूह है। वास्तविकता में चौऋषिया, तम्बोली समाज की एक उपजाति हैं। तम्बोली शब्द की उत्पति संस्कृत शब्द "ताम्बुल" से हुई हैं जिसका अर्थ "पान" होता हैं। चौऋषिया समाज के लोगो द्वारा नागदेव को अपना कुलदेव माना जाता हैं तथा चौऋषिया समाज के लोगो को नागवंशी भी कहा जाता हैं। नागपंचमी के दिन चौऋषिया समाज द्वारा ही नागदेव की पूजा करना प्रारम्भ किया गया था तत्पश्चात सम्पूर्ण भारत में नागपंचमी पर नागदेव की पूजा की जाने लगी। नागदेव द्वारा चूहों से नागबेल (जिस पर पान उगता हैं) कि रक्षा की जाती हैं।चूहे नागबेल को खाकर नष्ट करते हैं। इस नागबेल (पान)से ही समाज के लोगो का रोजगार मिलता हैं।पान का व्यवसाय चौरसिया समाज के लोगो का मुख्य व्यवसाय हैं।इस हेतू समाज के लोगो ने अपन