Skip to main content

मौलिकता और प्रामाणिकता जरूरी है शोध कार्य में – डॉ जैन


उज्जैन : विक्रम विश्वविद्यालय के शलाका दीर्घा सभागार, माधव भवन में कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की अध्यक्षता में दिनांक 4 जनवरी 2021 को अपराह्न 3.00 बजे प्लेगेरिज्म एंड एकेडमिक डिसआनेस्टी : स्ट्रेटजीस एंड अंडरस्टैंडिंग विषय पर विशेष व्याख्यान का आयोजन किया गया। 

अध्यक्षीय उद्बोधन में विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय ने कहा कि शोध प्रबंध लेखन और गुणवत्ता वृद्धि की दृष्टि से विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा निरन्तर प्रयास किए जाएँगे। इस दिशा में व्यापक जागरूकता के लिए विशेष कार्यशालाओं का आयोजन किया जाएगा। वैज्ञानिक क्षेत्रों में शोध उन्नयन और स्तरीयता के लिए भी अलग से कार्यशालाएँ आयोजित की जाएंगी।  

विशेष व्याख्यान सह प्रस्तुतीकरण देते हुए ग्रंथालय एवं सूचना विज्ञान अध्ययनशाला के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ अनिल कुमार जैन ने कहा कि अकादमिक और शैक्षणिक संस्थानों का दायित्य है कि वे शिक्षण और शोध में गुणवत्ता और स्तरीयता के साथ कार्य करें। शोध कार्य में मौलिकता और प्रामाणिकता होनी चाहिए। पूर्व प्रकाशित या अप्रकाशित सामग्री की नकल प्लेगेरिज्म मानी जाती है।  वर्तमान में शोध में नकल गम्भीर समस्या बन गई है। साहित्यिक चोरी पर अंकुश लगाने के लिए अनेक प्रकार के सॉफ्टवेयर प्रचलित हैं।  जब भी हम किसी उद्धरण को अपने शोध में लाते हैं,  तब उसके लिए उद्धरण चिह्न का प्रयोग किया जाना चाहिए। साथ ही उसके स्रोत का उल्लेख होना चाहिए। स्वयं के द्वारा लिखे गए शोध पत्र को बिना पूर्व प्रकाशन की सूचना के पुनः प्रकाशन सेल्फ प्लेगेरिज्म की श्रेणी में आता है। डॉ जैन ने अपने व्याख्यान में प्लेगेरिज्म के विभिन्न पहलुओं, उसकी रोकथाम के उपायों और उरकुंड सॉफ्टवेयर की प्रणाली पर विस्तार से प्रकाश डाला। 

प्रारम्भ में प्रस्तावना आईक्यूएसी के डायरेक्टर प्रो पी के वर्मा ने प्रस्तुत की। 

प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा, कुलानुशासक, विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन ने जानकारी देते हुए बताया कि,  व्याख्यान में पूर्व कुलपति प्रो पी के वर्मा,  पूर्व कुलपति प्रो बालकृष्ण शर्मा, प्रो एच पी सिंह, प्रो लता भट्टाचार्य, कुलानुशासक प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा, डॉ एस के मिश्रा आदि सहित विश्वविद्यालय की विभिन्न अध्ययनशालाओं के विभागाध्यक्षगण, शिक्षकों एवं शोधार्थियों ने सहभागिता की। 

संचालन एवं आभार प्रदर्शन डीएसडब्ल्यू डॉ रामकुमार अहिरवार ने किया। 

Comments

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा सितंबर में आयोजित परीक्षाओं के लिए उत्तर पुस्तिका संग्रहण केंद्रों की सूची जारी

उज्जैन। स्नातक एवं स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष या अंतिम सेमेस्टर की ओपन बुक पद्धति से होने वाली परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं के संग्रहण केंद्रों की सूची विक्रम विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर अपलोड कर दी गई है। संपूर्ण परिक्षेत्र के 7 जिलों में कुल 395 संग्रहण केंद्र बनाए गए हैं। कुलानुशासक, डॉ. शैलेंद्र कुमार शर्मा जी ने जानकारी देते हुए बताया कि, विद्यार्थीगण विश्वविद्यालय की वेबसाइट से संग्रहण केंद्रों की सूची देख सकते हैं। http://vikramuniv.ac.in/examination-notification/ सूची संलग्न दी जा रही है।