Skip to main content

शिक्षक शिक्षा को आनन्दमयी बनाना जरूरी है – प्रो रमा मिश्रा

शिक्षक शिक्षा को आनन्दमयी बनाना जरूरी है – प्रो रमा मिश्रा 


राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के परिप्रेक्ष्य में शिक्षक - शिक्षा की चुनौतियाँ एवं समाधान पर केंद्रित संगोष्ठी  सम्पन्न

विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन और विद्या भारती उच्च शिक्षा संस्थान के संयुक्त तत्त्वावधान में एक दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन विक्रम विश्वविद्यालय के मुख्य प्रशासनिक भवन परिसर स्थित शलाका दीर्घा सभागार में 29 जनवरी 2021 को किया गया। यह संगोष्ठी राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के परिप्रेक्ष्य में शिक्षक - शिक्षा की चुनौतियाँ एवं समाधान पर केंद्रित थी। संगोष्ठी में देश के विभिन्न भागों के विद्वान और शिक्षाविदों ने भाग लिया। संगोष्ठी का उद्घाटन 29 जनवरी को प्रातःकाल 10 : 30 बजे विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो. अखिलेश कुमार पाण्डेय की अध्यक्षता में सम्पन्न हुआ। बीज वक्तव्य विद्या भारती, अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान, नई दिल्ली की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ रमा मिश्रा ने दिया। विशिष्ट अतिथि महर्षि सांदीपनि राष्ट्रीय वेदविद्या प्रतिष्ठान, शिक्षा मंत्रालय, उज्जैन के सचिव प्रो विरुपाक्ष वि. जड्डीपाल, विद्या भारती उच्च शिक्षा संस्थान के प्रदेश संयोजक एवं आरजीपीवी, भोपाल के जनसम्पर्क अधिकारी डॉ शशिरंजन अकेला थे। 

बीज वक्तव्य देते हुए डॉ रमा मिश्रा ने कहा कि भारत विश्व गुरु के रूप में रहा है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 भारतीयता केंद्रित है। नई शिक्षा नीति में समावेशी शिक्षा पर बल दिया गया है। उज्जयिनी में चौंसठ विद्याओं का ज्ञान श्रीकृष्ण ने अल्प अवधि में प्राप्त कर लिया था। राष्ट्रीय शिक्षा नीति को क्रियान्वित करने के लिए हमें सजग होना होगा। नई नीति के क्रियान्वयन के लिए उच्च शिक्षण संस्थानों का पुनर्गठन किया जाएगा। शिक्षक शिक्षा को आनन्दमयी बनाना जरूरी है। हमें कंटेंट और शिक्षण अधिगम कौशल के विकास के लिए व्यापक प्रयत्न करने होंगे। 

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. अखिलेश कुमार पाण्डेय ने कहा कि प्राचीन समय से उज्जयिनी शिक्षा का महत्त्वपूर्ण केंद्र रहा है। प्रत्येक व्यक्ति के लिए अपने इतिहास को जानना आवश्यक है। हमें परंपरागत ज्ञान के साथ जुड़ने की जरूरत है। शिक्षक की भूमिका कभी समाप्त नहीं होगी। नए दौर में शिक्षक की भूमिका बदल रही है। ज्ञान के सृजन और सम्प्रेषण में शिक्षक के साथ विद्यार्थियों की हिस्सेदारी बढ़ गई है। उपलब्ध संसाधनों के साथ शैक्षिक संस्थानों को शिक्षा नीति के क्रियान्वयन में सक्रिय होना होगा। 


संगोष्ठी के विशिष्ट अतिथि डॉ विरुपाक्ष जड्डीपाल ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 का मूल आधार भारतीय ज्ञान प्रणाली है। भारतीय परम्परा में ज्ञान की बिक्री को अनुचित माना गया है। प्राचीन काल के उत्कृष्ट विश्वविद्यालय का उल्लेख वाणभट्ट ने किया है। उज्जयिनी में स्थित प्राचीन विश्वविद्यालय में सभी को शिक्षा के समान अवसर उपलब्ध थे। अभिनवगुप्त ने मधुमक्खी जिस तरह विविध प्रकार के पुष्पों से मकरंद एकत्र कर शहद निर्मित करती है, उसी प्रकार शिक्षार्थियों को अलग अलग स्रोतों से ज्ञानार्जन करना चाहिए। 

संगोष्ठी का समापन संध्या 5: 00 बजे हुआ। समापन समारोह के मुख्य वक्ता विश्वविद्यालय के कुलानुशासक प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा थे। विशिष्ट अतिथि डीएसडब्ल्यू डॉ रामकुमार अहिरवार थे। अध्यक्षता विद्याभारती उच्च शिक्षा संस्थान के प्रदेश संयोजक एवं आरजीपीवी, भोपाल के जनसम्पर्क अधिकारी डॉ शशिरंजन अकेला थे।

समापन सत्र के मुख्य वक्ता प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा ने कहा कि शिक्षा एक अविराम प्रक्रिया है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति में बहुविषयक और समावेशी शिक्षा को बल दिया गया है।  नए दौर में विद्यार्थियों को सिखाना ही नहीं है, वरन सीखना कैसे है, यह भी सिखाना होगा। सामान्य लोक दृष्टि से ऊपर उठाकर समदृष्टि उत्पन्न करना शिक्षा का दायित्व है। 

अध्यक्षीय उद्बोधन में डॉ शशिरंजन अकेला ने कहा कि शिक्षा की आत्मा को समझना जरूरी है। भारतीय परंपरा में शिक्षा समाज का विषय रही है। अनौपचारिक शिक्षा के धरातल को भारत में सदियों से महत्त्वपूर्ण माना गया है। हमें यूरोसेंट्रिक शिक्षा से मुक्त होना होगा।

विशिष्ट अतिथि डॉ रामकुमार अहिरवार ने कहा कि शिक्षा प्राचीन काल से जीवन मूल्यों के साथ जुड़ी रही है। जीवन के विभिन्न पक्षों पर गम्भीर चिंतन भारत में संभव हुआ। 

अतिथि स्वागत संगोष्ठी की समन्वयक श्रीमती डॉ. स्मिता भवालकर, प्राचार्य, सरस्वती शिक्षा महाविद्यालय, उज्जैन, डॉ.  प्रशान्त पुराणिक, समन्वयक, रासयो, विक्रम वि.वि., डॉ. आर. के. अहिरवार, संकायाध्यक्ष विद्यार्थी कल्याण, विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन, डॉ राजेश तिवारी आदि ने किया।

अतिथि परिचय प्राचार्य डॉ गोविंद गंधे ने दिया।

प्रास्ताविक वक्तव्य समन्वयक डॉ स्मिता भवालकर ने दिया। उन्होंने कहा कि शिक्षक शिक्षा एक संवेदनशील मुद्दा है। इस दिशा में गंभीर विमर्श आवश्यक है। परिणामोन्मुखी शिक्षा के लिए इस प्रकार के सेमिनार उपादेय सिद्ध होंगे। 

उद्घाटन सत्र के पश्चात तीन तकनीकी सत्र संपन्न हुए। प्रथम सत्र शिक्षण - अधिगम कौशल पर केंद्रित था। द्वितीय सत्र  समृद्ध विषय सामग्री : अन्वेषक दृष्टिकोण पर केंद्रित था। तृतीय सत्र दोपहर पद्धतियाँ एवं तकनीक (प्राचीन एवं अर्वाचीन) पर केंद्रित था। विभिन्न सत्रों में डॉ गोविंद गंधे  सत्येंद्र किशोर मिश्र, डॉ अरुण प्रकाश पांडेय, डॉ सुरेखा जैन, डॉ टॉम जॉर्ज, डॉ पल्लवी आढ़व, डॉ नेत्रा रावण कर आदि ने विचार व्यक्त किए।  


कार्यक्रम का शुभारंभ कुलगान एवं सरस्वती वंदना से हुआ। इस महत्वपूर्ण संगोष्ठी में शिक्षकों एवं गणमान्य जनों ने सहभागिता की ।

संचालन डॉ निवेदिता वर्मा ने किया। आभार प्रदर्शन समन्वयक डॉ प्रशांत पुराणिक ने किया। समापन सत्र का संचालन डॉ पवित्रा शाह ने और आभार प्रदर्शन प्राचार्य डॉ स्मिता भवालकर ने किया। तकनीकी सत्र का संचालन डॉ राकेश साकोरीकर एवं ऋषिराज तोमर ने किया। 

Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह