Skip to main content

भारतवर्ष को राजनीतिक और सांस्कृतिक दृष्टि से एक सूत्र में बांधा सम्राट विक्रमादित्य ने ; विक्रम विश्वविद्यालय में हुआ सम्राट विक्रमादित्य : पुरातत्त्व, इतिहास और साहित्य के संदर्भ में पर राष्ट्रीय परिसंवाद

 भारतवर्ष को राजनीतिक और सांस्कृतिक दृष्टि से एक सूत्र में बांधा सम्राट विक्रमादित्य ने 

विक्रम विश्वविद्यालय में हुआ सम्राट विक्रमादित्य : पुरातत्त्व, इतिहास और साहित्य के संदर्भ में पर राष्ट्रीय परिसंवाद


विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन की हिंदी अध्ययनशाला एवं गांधी अध्ययन केंद्र द्वारा सम्राट विक्रमादित्य : पुरातत्त्व, इतिहास और साहित्य के संदर्भ में पर केंद्रित राष्ट्रीय परिसंवाद का आयोजन हुआ। आयोजन के प्रमुख अतिथि वरिष्ठ विद्वान एवं सम्राट विक्रमादित्य शोध पीठ, उज्जैन के पूर्व निदेशक डॉ भगवतीलाल राजपुरोहित थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलानुशासक एवं हिंदी विभागाध्यक्ष प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा ने की। परिसंवाद में प्रो प्रेमलता चुटैल, प्रो गीता नायक एवं डॉ जगदीश चंद्र शर्मा ने विचार व्यक्त किए।

प्रमुख वक्ता डॉ भगवतीलाल राजपुरोहित ने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि सम्राट विक्रमादित्य ने अपने विद्याप्रेम, शौर्य और पराक्रम के माध्यम से अविस्मरणीय योगदान दिया। उन्होंने अपने व्यापक प्रयासों से संपूर्ण भारतवर्ष को राजनीतिक और सांस्कृतिक दृष्टि से एक सूत्र में बांध दिया था। कलियुग में भी कृतयुग या सतयुग लाने का महान कार्य उन्होंने किया। वे विद्वानों और साहित्यकारों के आश्रयदाता थे। विक्रमादित्य से जुड़े अनेक पुरातात्विक और ऐतिहासिक साक्ष्य उपलब्ध हैं। उन्होंने 57 ईसा पूर्व में विक्रम या कृत संवत का प्रवर्तन किया था। इसका उल्लेख अंवलेश्वर से प्राप्त शिलालेख पर मिलता है। विभिन्न स्थानों से प्राप्त मुद्राओं, सीलों, प्रतिमाओं और शिलालेखों पर विक्रमादित्य संबंधी महत्त्वपूर्ण संदर्भ मिलते हैं। विक्रमादित्य पर केंद्रित अनेक रचनाएं संस्कृत, हिंदी, मराठी, गुजराती सहित अधिकांश भारतीय भाषाओं में रची गईं। विक्रमादित्य के युग के कवि और कलाकार माधवानल की चर्चा मिलती है। उन पर केंद्रित लगभग एक दर्जन काव्य और नाटक उपलब्ध हैं। रीतिकालीन कवि आलम ने अकबर को विक्रमादित्य के सदृश वर्णित किया है।

परिसंवाद की अध्यक्षता करते हुए लेखक एवं आलोचक प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा ने कहा कि विक्रमादित्य की कीर्ति देश की सीमाओं से परे अरब से लेकर दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों तक फैली हुई है। मंगोली भाषा में उपलब्ध पुरातन ग्रन्थ आरजी बुरजि में विक्रमादित्य की महिमा का सार्थक अंकन हुआ है। मंगोलिया से यह ग्रंथ अनूदित होकर रूस और जर्मनी भी पहुँचा। कथासरित्सागर, बेताल पच्चीसी, सिंहासन बत्तीसी सहित अनेक साहित्यिक कृतियों, पुराण और लोकाख्यानों में विक्रमादित्य के अनुपम व्यक्तित्व और कार्यों का वर्णन हुआ है। वे शैवोपासक और दिग्विजयी शासक थे। उन्होंने कई मत – पंथों और वैज्ञानिकों एवं कवियों को आश्रय दिया। आदि विक्रमादित्य से संबंधित पर्याप्त पुरातात्विक, ऐतिहासिक, साहित्यिक और लोक सांस्कृतिक साक्ष्य उपलब्ध हैं। 

कार्यक्रम में पुरातत्त्व, इतिहास और साहित्य के क्षेत्र में अविस्मरणीय योगदान के लिए विद्वान डॉ भगवतीलाल राजपुरोहित का सारस्वत सम्मान प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा, प्रो गीता नायक एवं डॉ जगदीश चंद्र शर्मा द्वारा अंग वस्त्र एवं श्रीफल अर्पित कर किया गया।

परिसंवाद में डॉ रचना जैन, संदीप पांडेय, लखनऊ, सुमेधा दुबे, झालावाड़, सपना अरोरा, रिंकी मुवानिया, रतलाम, बीरेंद्र यादव आदि अनेक प्रतिभागी,  शोधार्थी एवं विद्यार्थी उपस्थित थे।

संचालन डॉ जगदीश चंद्र शर्मा ने किया। आभार प्रदर्शन श्रीमती हीना तिवारी ने किया।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग