Skip to main content

नेताजी सुभाषचन्द्र बोस की 125वीं जंयति पर निनाद नृत्य अकादमी द्वारा आयोजित शौर्यगाथा नाट्य का आयोजन सम्पन्न हुआ

उज्जैन : अवन्तिका की धरा पर कला साहित्य नाट्य आदि अनेक विधाओं के विद्धान राजा भोज को भी अचेतन से बाहर लाने हेतू एक नाटक का मंचन किया गया था जिसे देखने के पश्चात ही राजा भोज को अपने सामर्थ व शक्ति का आभास हुआ था । यहां की जन चेतना में कला बसती है। ये उदगार प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डाॅ. मोहन यादव ने निनाद नृत्य अकादमी  द्वारा नेताजी सुभाषचन्द्र बोस की 125 वीं जंयति पर आयोजित नाट्य शौर्यगाथा की प्रस्तूति के पूर्व मुख्य अतिथि के रूप में व्‍यक्‍त किए।

कार्यक्रम की अध्यक्षता डाॅ. विकास दवे अध्यक्ष म.प्र. हिन्दी साहित्य अकादमी ने की आपने कहा कि, शिप्रा के जल वे अवन्तिका की माटी में ना जाने कौन से ऐसे तत्व है कि प्राचीन काल से ही यहा साहित्य संस्कृति काल कण-कण व क्षण-क्षण में व्याप्त है। राष्ट्र चेतना हेतू ऐसे आयोजनों की आवश्यकता आज देशभर में है।

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि श्री पाद जोशी प्रदेश प्रमुख संस्कार भारती ने इस अवसर पर कहा कि, दुर्भाग्य है कि आजादी के बाद हमें गलत इतिहास बताया और पढ़ाया गया है आज गुगल पर भी अधूरा इतिहास उपलब्ध है। हमारे वीर जवानों और देशभक्त नागरिको ने हर संकट के समय अपने प्राणों को उत्सर्ग करने में कभी पीठ नहीं दिखाई है।  

कार्यक्रम का  शुंभारंभ अतिथियों द्धारा दीप प्रज्जवलन कर किया गया। अतिथियों का स्वागत निनाद नृत्य अकादमी की और से पलक पटवर्धन राजेश सिंह कुशवाह, विजेन्द्र वर्मा, समीर पटवर्धन, विशाल कलंम्बकर आदि ने किया।

नाट्य शौर्य गाथा में तात्या टोपे, ठीपू सूल्तान,  रानी लक्ष्मीबाई से प्रांरभ होकर 1947 तक के स्वतंत्रता संग्राम को जींवत किया गया । साथ ही 1965 व 1967 के युद्धों के बाद कारगिल युद्ध, उटी व पुलवामा हमला, सर्जिकल स्ट्राइक तक की वीरता त्याग व समपर्ण की कहानी देखकर दर्शक रोमाचिंत हो गए।

नाटक का अंतिम भाग करोना काल में भारतीय सेना, पुलिस, चिकित्सक, स्वास्थय वर्कर व समाज सेवियों द्वारा किए गए कार्यो को मंचन के माध्यम से प्रस्तूत किया ।  यह सम्पूर्ण गाथा थी  शौर्यगाथा जिसे 6 से 15 वर्ष के 87 बाल कलाकारों ने स्‍थानीय कालिदास अकादमी संकूल में जींवत किया । इन नन्हें-नन्हें कलाकारों की सुंदर व अद्धभूत प्रस्तूतीकरण को देख कर दर्शकगण अपनी अश्रुधारा को ना रोक सके। 

कार्यक्रम का संचालन कवि दिनेश दिग्गज ने किया, आभार राजेश सिंह कुशवाह ने व्यक्त किया। नाट्य का निर्देशन विशाल कलंबकर ने किया।


नाटक शौर्य गाथा प्रस्तुति के पूर्व नगर की पांच हस्तियों को कोरोना योद्धा सम्मान से सम्मानित किया गया । 

1. डॉ मोहन यादव, मंत्री, उच्च शिक्षा विभाग, मध्यप्रदेश शासन

2.स्व. श्री यशवंत पाल (मरणोपरांत), निरीक्षक मध्य प्रदेश पुलिस 

3.डॉ सतविंदर कौर सलूजा 

4.डॉ एचपी सोनानिया, नोडल अधिकारी कोविड-19, उज्जैन 

5.डॉ रविंद्र सोलंकी, अध्यक्ष, सेवा भारती उज्जैन

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद