Skip to main content

पिछले छह साल में छह गुना से ज्यादा हुआ कृषि एवं किसान कल्याण विभाग का बजट : हरदीप एस पुरी

 

बीते साल की तुलना में पंजाब में एमएसपी पर धान की खरीद 25 प्रतिशत ज्यादा हुई

पीएम किसान योजना के माध्यम से अभी तक किसानों के खातों में 1,10,000 करोड़ रुपये से ज्यादा की धनराशि सीधे हस्तांतरित की गई




केन्द्रीय मंत्री श्री हरदीप पुरी ने कहा कि कृषि और किसान कल्याण विभाग का बजट पिछले छह साल के दौरान छह गुना से ज्यादा हो गया है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने स्वामीनाथन समिति की सिफारिशों को लागू करते हुए उत्पादन लागत की तुलना में एमएसपी 1.5 गुना तक बढ़ा दिया है। उन्होंने कहा कि 2009-14 की तुलना में 2014-19 में एमएसपी पर खरीद पर खर्च होने वाली धनराशि 85 प्रतिशत तक बढ़ गई है। 2013-14 की तुलना में 2020-21 में सभी प्रमुख फसलों के लिए एमएसपी में 40-70 प्रतिशत तक बढ़ोतरी की गई है। उन्होंने कहा कि बीते साल की तुलना में इस साल पंजाब में एमएसपी पर 25 प्रतिशत ज्यादा धान की खरीद हुई है और इस साल के खरीद लक्ष्य की तुलना में यह 20 प्रतिशत ज्यादा रही है। उन्होंने बताया कि पीएम किसान योजना के माध्यम से किसानों के खातों में प्रत्यक्ष रूप से 1,10,000 करोड़ रुपये की धनराशि हस्तांतरित की जा चुकी है और अभी तक महज 17,450 करोड़ रुपये के प्रीमियम पर किसानों को 87,000 करोड़ रुपये के फसल बीमा का भुगतान किया जा चुका है।

केन्द्रीय मंत्री ने बताया कि 1950 में भारत के कृषि क्षेत्र का देश के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में लगभग 52 प्रतिशत का योगदान था, जबकि देश की लगभग 70 प्रतिशत आबादी को इसमें रोजगार हासिल था। उन्होंने कहा कि 2019 तक क्षेत्र में लगभग 42 प्रतिशत जनसंख्या को रोजगार हासिल था, लेकिन जीडीपी में इसका योगदान सिर्फ 16 प्रतिशत था। वहीं सालाना आधार पर इसकी वृद्धि दर महज 2 प्रतिशत बनी हुई है।

राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक के 2018 के एक अध्ययन का उल्लेख करते हुए श्री पुरी ने कहा कि कुल किसान परिवारों में से 52.5 प्रतिशत पर औसतन 1,470 डॉलर (लगभग 1.08 लाख रुपये) का कर्ज था। उन्होंने कहा कि हमारे कृषि उत्पादन का 30 प्रतिशत उपयुक्त शीतगृह अवसंरचना के अभाव के कारण नष्ट हो जाता है। उन्होंने कहा कि इसके चलते आपूर्ति श्रृंखला कमजोर बनी हुई है और परिणामस्वरूप उपभोक्ताओं के पास उत्पादों के ज्यादा विकल्प नहीं होते हैं, बर्बादी ज्यादा होती है और कीमतों में खासा उतार-चढ़ाव देखने को मिलता है। उन्होंने कहा कि भारतीय किसान जलवायु परिवर्तन, बाजारों, बिचौलियों और आवश्यक बुनियादी ढांचे का अभाव जैसे कारकों पर भी खासे निर्भर हैं।

श्री पुरी ने कहा कि अग्रणी कृषि अर्थशास्त्रियों ने भी इन सुधारों की सिफारिश की थी, जिनसे हमारे किसानों को अपनी फसल खुले बाजार में बेचने की अनुमति मिली है। उन्होंने कहा कि कुछ भारतीय राज्यों ने भी इन सुधारों को वर्षों पहले ही अपना लिया था और और लागू कर दिया था। बिहार इसका एक उदाहरण है, जहां सिर्फ 2 प्रतिशत के राष्ट्रीय औसत की तुलना में कृषि की वृद्धि दर 6 प्रतिशत बनी हुई है।

श्री पुरी ने जोर देकर कहा कि सरकार ने बार-बार किसानों से बातचीत करने और उनकी चिंताओं को दूर करने में सहायता देने का अनुरोध किया है। उन्होंने कहा कि राज्यों को मंडियों पर कर लगाने की अनुमति दी जाएगी। वहीं सरकार ने समयबद्ध विवाद समाधान तंत्र बना दिया है और सरकार विवादों से जुड़े मामलों को दीवानी अदालतों में ले जाने की अनुमति देने पर भी सहमत हो गई है।

Comments

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा सितंबर में आयोजित परीक्षाओं के लिए उत्तर पुस्तिका संग्रहण केंद्रों की सूची जारी

उज्जैन। स्नातक एवं स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष या अंतिम सेमेस्टर की ओपन बुक पद्धति से होने वाली परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं के संग्रहण केंद्रों की सूची विक्रम विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर अपलोड कर दी गई है। संपूर्ण परिक्षेत्र के 7 जिलों में कुल 395 संग्रहण केंद्र बनाए गए हैं। कुलानुशासक, डॉ. शैलेंद्र कुमार शर्मा जी ने जानकारी देते हुए बताया कि, विद्यार्थीगण विश्वविद्यालय की वेबसाइट से संग्रहण केंद्रों की सूची देख सकते हैं। http://vikramuniv.ac.in/examination-notification/ सूची संलग्न दी जा रही है।