Featured Post

प्रदेश में लागू होगा सड़कों का "असैट मैनेजमेंट सिस्टम", खराब होने से पहले ही करवाएं सड़कों की मरम्मत ; मुख्यमंत्री श्री चौहान ने लोक निर्माण विभाग की बैठक ली

 प्रदेश में लागू होगा सड़कों का "असैट मैनेजमेंट सिस्टम"

खराब होने से पहले ही करवाएं सड़कों की मरम्मतप्रदेश की सभी सड़कें उत्तम गुणवत्ता की होनी चाहिएमुख्यमंत्री श्री चौहान ने लोक निर्माण विभाग की बैठक ली 


भोपाल : मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में सड़कों के अच्छे संधारण के लिए 'असैट मैनेजमेंट सिस्टम' लागू किया जाएगा। इसके अंतर्गत प्रदेश की सड़कों की स्थिति की जी.आर. टैगिंग के माध्यम से ऑनलाइन मॉनीटरिंग हो सकेगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रदेश की सड़कों की सतत मॉनीटरिंग की जाए तथा खराब होने से पहले ही सड़कों की मरम्मत हो जाए। प्रदेश की सभी सड़कें उच्च गुणवत्ता की होनी चाहिएं।प्रदेश की 45,717 कि.मी. सड़कों का संधारण लोक निर्माण विभाग द्वारा तथा 18801 कि.मी. सड़कों का संधारण एम.पी.आर.डी.सी. द्वारा किया जाता है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान शुक्रवार, दिसम्बर 4, 2020 को मंत्रालय में लोक निर्माण विभाग के कार्यों की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में लोक निर्माण मंत्री श्री गोपाल भार्गव, राज्य मंत्री लोक निर्माण विभाग श्री सुरेश धाकड़, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, प्रमुख सचिव श्री मनोज गोविल, प्रमुख सचिव श्री नीरज मंडलोई आदि उपस्थित थे।

नर्मदा एक्सप्रेस-वे प्रदेश की समृद्धि का रास्ता खोले

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि प्रदेश में बनने वाले नर्मदा एक्सप्रेस-वे तथा उसके दोनों ओर इस प्रकार का विकास किया जाए कि यह प्रदेश की समृद्धि का रास्ता खोले। सड़क के दोनों ओर इंडस्ट्रियल क्लस्टर, आधुनिक कृषि, उद्यानिकी क्षेत्र विकसित किए जाएं तथा अन्य विकास की गतिविधियां हों। अमरकंटक से अलीराजपुर तक बनने वाले 948 कि.मी. के नर्मदा एक्सप्रेस-वे का अलाइनमेंट निर्धारण पूर्ण हो गया है तथा प्री-फिजिबिलिटी रिपोर्ट के लिए कार्यादेश जारी कर दिए गए हैं।

अटल प्रोग्रेस-वे के लिए निविदा जारी

अटल प्रोग्रेस-वे के निर्माण के लिए एन.एच.ए.आई. द्वारा डीपीआर के लिए निविदा जारी कर दी गई है। उद्योग विभाग द्वारा औद्योगिक विकास/निवेश के लिए एजेन्सी का चयन कर लिया गया है। अटल प्रोग्रेस-वे के निर्माण के अंतर्गत श्योपुर, मुरैना एवं भिण्ड जिलों के 149 गांव तथा 3063 हैक्टेयर (अनुमानित) भूमि आएगी।

25 मार्गों पर उपयोगकर्ता शुल्क

प्रदेश के 25 मार्गों पर टोल लगाने की कार्रवाई की जा रही है, जिससे विभाग को 210 करोड़ रूपए की वार्षिक आय होगी। प्रदेश के 200 मार्गों का आधुनिक पद्धति से यातायात सर्वेक्षण किया जा रहा है, जिससे उन्हें उच्च गुणवत्तायुक्त बनाया जा सके। प्रदेश के सभी टोल प्लाजा को स्वचालित (फास्ट टैग) किया जाएगा।

नियमित रूप से हो शासकीय भवनों की मरम्मत

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने निर्देश दिए कि शासकीय भवनों की निरंतर मरम्मत एवं संधारण होना चाहिए। प्रत्येक 02 वर्ष में पुताई की जाए। आवासीय भवनों का भी नियमित रूप से संधारण हो।

95 आर.ओ.बी. बनवाए जाएंगे

प्रदेश के अधिक यातायात वाले मार्गों पर कुल 95 रेलवे ओवरब्रिज स्वीकृत किए जाएंगे। इनके निर्माण में केन्द्र सरकार द्वारा 50 प्रतिशत राशि दी जाएगी।

यूजर फ्री टोल बनाने को प्राथमिकता

प्रदेश में बी.ओ.टी. मॉडल के स्थान पर यूजर फ्री टोल निर्माण को प्राथमिकता दी जाएगी।


Comments