Skip to main content

संस्कृत भाषा संस्कृति, संस्कार और मानव मूल्यों की जननी हैं ; महर्षि पाणिनी संस्कृत एवं वैदिक विवि का द्वितीय दीक्षान्त समारोह सम्पन्न

  • संस्कृत भाषा संस्कृति, संस्कार और मानव मूल्यों की जननी हैं
  • संस्कृत के अध्ययन से असीमित रोजगार की संभावनाएं प्रबल - राज्यपाल श्रीमती पटेल
  • उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव के मुख्य आतिथ्य में महर्षि पाणिनी संस्कृत एवं वैदिक विवि का द्वितीय दीक्षान्त समारोह सम्पन्न
  • महर्षि पाणिनी संस्कृत एवं वैदिक विश्वविद्यालय के विकास में हरसंभव सहयोग प्रदान करेंगे - विधायक पारस जैन

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=3594620153988489&id=100003216196317





उज्जैन, गुरुवार, 31 दिसम्बर, 2020 । राज्यपाल एवं विश्वविद्यालय के कुलाधिपति श्रीमती आनन्दीबेन पटेल  आज गुरूवार 31 दिसम्बर 2020 को महर्षि पाणिनी संस्कृत एवं वैदिक विश्वविद्यालय के द्वितीय दीक्षान्त समारोह में वीसी के माध्यम से शामिल हुई। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि, संस्कृत भाषा संस्कृति, संस्कार और मानव मूल्यों की जननी हैं बताते हुए उन्होंने कहा कि, संस्कृत अध्ययन से असीमित रोजगार की संभावनाएं बनती हैं। व्यक्ति को अपनी राह खुद तय करने का सामर्थ्य संस्कृत भाषा प्रदान करती है। दीक्षान्त उपदेश प्रदान करते हुए श्रीमती पटेल ने महर्षि पाणिनी संस्कृत एवं वैदिक विश्वविद्यालय परिवार को बधाई दी एवं प्रसन्नता और संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि, विश्वविद्यालय निरन्तर लक्ष्य की ओर बढ़े। संस्कृत विद्या के प्रचार-प्रसार एवं शोध में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन करता रहे।

राज्यपाल एवं कुलाधिपति श्रीमती आनन्दीबेन पटेल ने वीसी के माध्यम से दीक्षान्त समारोह को सम्बोधित करते हुए विद्यार्थियों को सदा सच बोलने, आदर्श आचरण करने तथा निरन्तर स्वाध्याय करते रहने की प्रेरणा दी। उन्होंने विद्यार्थियों को अपनी मां, पिता को, अपने आचार्य को तथा दरवाजे में आये अतिथि को देवता मानकर उनका सम्मान करने की प्रेरणा दी। उन्होंने कहा कि, अपने श्रेष्ठ आचरण से समाज का मार्गदर्शन संस्कृत के विद्यार्थी करें। राज्यपाल ने सभी के सुखद एवं मंगलमय भविष्य की शुभकामनाएं दी और समस्त उपाधि प्राप्त छात्रों को बधाई दी।

द्वितीय दीक्षान्त समारोह के मुख्य अतिथि उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव ने उपाधिकर्ता छात्र-छात्राओं को बधाई दी। उन्होंने विश्वविद्यालय के विकास हेतु शासन स्तर से सहयोग करने का आश्वासन दिया। डॉ.यादव ने कहा कि, श्री महाकालेश्वर वैदिक शोध संस्थान उज्जैन को विश्वविद्यालय में जोड़ने की बात भी कही, जिससे वहां के संसाधनों का शोधकार्य तथा उच्च शिक्षा में उपयोग हो सकेगा। उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.यादव ने संस्कृत ग्रंथों के अनुवाद करने की आवश्यकता पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि इस विश्वविद्यालय को संस्कृत के व्यापक प्रचार-प्रसार की कार्य योजना बनाकर कार्य किया जाना चाहिये। विश्वविद्यालय को जो भी सहयोग की अपेक्षा होगी, शासन पूर्ण करेगा। मंत्री डॉ.यादव ने ज्योतिष की पुस्तकों का विमोचन करते हुए कहा कि, उज्जैन ज्योतिष कालगणना की भूमि है, अत: विश्वविद्यालय द्वारा किया गया ज्योतिष के ग्रंथों का प्रकाशन प्रशंसनीय है।

उज्जैन-आलोट संसदीय क्षेत्र के सांसद श्री अनिल फिरोजिया ने इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में उज्जैन को संस्कृत के प्रकाण्ड पंडितों की साधना भूमि के रूप में रेखांकित करते हुए महाकवि कालिदास, महर्षि सान्दीपनि, वराहमिहिर आदि के योगदान पर विचार व्यक्त किये। उन्होंने विश्वविद्यालय को इस दिशा में उल्लेखनीय कार्य करने पर बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएं प्रेषित की। साथ ही संस्कृत ग्रंथों के प्रकाशन पर प्रसन्नता व्यक्त की। पूर्व मंत्री, मध्यप्रदेश शासन, उज्जैन-उत्तर-मध्यप्रदेश के लोकप्रिय विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने इस अवसर पर द्वितीय दीक्षान्त समारोह के सफल आयोजन पर बधाई दी। विश्वविद्यालय के स्थापना पर किये गये स्वयं के योगदान की चर्चा करते हुए इसके विकास में हरसंभव सहयोग प्रदान करने का आश्वासन दिया। विधायक श्री जैन ने विश्वविद्यालय के द्वारा किये जा रहे विविध अकादमिक आयोजनों पर प्रसन्नता व्यक्त की। समारोह में सारस्वत अतिथि श्री सोमनाथ, प्रो.गोपबंधु मिश्र ने राज्यपाल के द्वारा गुजरात राज्य में संस्कृत शिक्षा के व्यापक प्रचार-प्रसार में किये गये योगदान की चर्चा करते हुए संस्कृत शिक्षा श्रेष्ठ नागरिक निर्माण आत्मनिर्भरता तथा स्वरोजगार के लिये अत्यन्त उपयोगी है। उन्होंने सभी उपाधि प्राप्तकर्ता छात्र-छात्राओं को शुभकामनाएं दी।

कार्यक्रम के प्रारम्भ में राज्यपाल एवं कुलाधिपति श्रीमती आनन्दीबेन पटेल ने वीसी के माध्यम से द्वितीय दीक्षान्त समारोह की अनुमति से समारोह का शुभारम्भ दीपदीपन के साथ सम्पन्न हुआ। विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ.पंकज लक्ष्मण जानी ने उपस्थित अतिथियों का स्वागत किया। तत्पश्चात डॉ.जानी ने समारोह का प्रास्ताविक भाषण प्रस्तुत करते हुए विश्वविद्यालय के द्वारा किये जा रहे विभिन्न अकादमिक कार्यों एवं उपलब्धियों पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम के अन्त में आभार प्रदर्शन विश्वविद्यालय के उप कुलपति प्रो.मनमोहन उपाध्याय ने किया। कार्यक्रम में अतिथियों के द्वारा छात्रों को उपाधि प्रदान की। उपाधि वितरण विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ.एल एस सोलंकी द्वारा करवाया गया। कार्यक्रम का संचालन विश्वविद्यालय के विभागाध्यक्ष डॉ.तुलसीदास परोहा द्वारा किया गया। समारोह के पूर्व दीक्षान्त शोभायात्रा पंचवटी परिसर से प्रारम्भ होकर कार्यक्रम स्थल तक आयोजित की गई। इस शोभायात्रा में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव, सांसद श्री अनिल फिरोजिया, विधायक श्री पारस चन्द्र जैन, विश्वविद्यालय के कुलपति, उप कुलपति, कुलसचिव तथा कार्य परिषद के सदस्य आदि शामिल हुए।


✍ शुभम राधेश्याम चौऋषिया

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक