Skip to main content

उपराष्‍ट्रपति ने पूर्व प्रधानमंत्री श्री पी. वी. नरसिम्‍हा राव को श्रद्धांजलि अर्पित की

 

उपराष्‍ट्रपति ने पूर्व प्रधानमंत्री श्री पी. वी. नरसिम्‍हा राव को श्रद्धांजलि अर्पित की

पूर्व प्रधानमंत्री के निर्भीक आर्थिक सुधारों ने देश के विकास में तेजी लाने में सहायता की

श्री राव ने कई चुनौतियों के बीच देश का नेतृत्‍व किया

उपराष्‍ट्रपति ने श्री नरसिम्‍हा राव पर तेलुगू में एक पुस्‍तक का विमोचन किया



उपराष्‍ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने आज पूर्व प्रधानमंत्री श्री पी. वी. नरसिम्‍हा राव को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की और कहा कि उनके द्वारा आरंभ किए गए निर्भीक आर्थिक सुधारों ने देश के विकास में तेजी लाने में सहायता की।  

हैदराबाद में वरिष्‍ठ पत्रकार ए. कृष्‍णा राव द्वारा लिखी गई विप्‍लव तपस्‍वी पीवी नामक एक तेलुगू पुस्‍तक का विमोचन करते हुए उपराष्‍ट्रपति ने कहा कि जब श्री नरसिम्‍हा राव ने प्रधानमंत्री का कार्यभार ग्रहण कियाउस वक्‍त देश गंभीर आर्थिक संकट और राजनीतिक अनिश्चितता का सामना कर रहा था।   

उन्‍होंने कहा कि बहरहाल, श्री राव ने कई राजनीतिक विद्वानों की अपेक्षाओं से बढ़कर कार्य किया और अपने कार्यकाल के दौरान कई चुनौतियों के बीच देश का प्रभावी रूप से नेतृत्‍व किया।

श्री नायडू ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री एक चतुर प्रशासक थे। हालांकि, उनके द्वारा कार्यान्वित कई नीतियों से सहमत नहीं भी हुआ जा सकता है, उनके द्वारा की गई कुछ बड़ी पहलें देश के व्‍यापक हित में थीं। उन्‍होंने विश्‍व व्‍यापार संगठन में भारत के प्रवेश को सुगम बनाया।

उपराष्‍ट्रपति ने कहा कि श्री नरसिम्‍हा राव ने कई कार्य किए जिनमें लाइसेंस राज का खत्‍मा, बैंकिंग सुधार, बिजली निजीकरण, दूरसंचार आधुनिकीकरण शामिल हैं और निर्यातों के बढ़ावा देने तथा विदेशी निवेश को आकर्षित करने के लिए कदम उठाए। उन्‍होंने कृषि क्षेत्र में सुधार आरंभ किया तथा खाद्यान्‍नों के परिवहन पर प्रतिबंधों को हटाया। 

श्री नायडू ने स्‍मरण किया कि पूर्व प्रधानमंत्री ने 73वें और 74वें संवैधानिक संशोधनों के जरिए स्‍थानीय निकायों को भी सशक्‍त बनाया। पूर्व प्रधानमंत्री को एक बहुपक्षीय व्‍यक्तित्‍व बताते हुए उन्‍होंने कहा कि श्री राव एक महान् विद्वान, साहित्‍य सेवी और बहुभाषी व्‍यक्ति थे। उन्‍होंने कहा कि हालांकि उन्‍हें उचित सम्‍मान नहीं प्राप्‍त हुआ।

श्री नरसिम्‍हा राव पर पुस्‍तक लिखने पर श्री कृष्‍णा राव की सराहना करते हुए उन्‍होंने युवाओं से ऐसी पुस्‍तकों को पढ़ने की अपील की। उन्‍होंने कहा कि महान पुरुषों एवं महिलाओं के बारे में पुस्‍तकों तथा स्मारक व्याख्यानों का उद्देश्‍य दूसरों को प्रेरित करना होता है। 

इस अवसर पर राज्‍य सभा सांसद के. केशव राव, श्री कृष्‍णा राव तथा श्री राघवेन्द्र राव भी उपस्थित थे।

Comments

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा सितंबर में आयोजित परीक्षाओं के लिए उत्तर पुस्तिका संग्रहण केंद्रों की सूची जारी

उज्जैन। स्नातक एवं स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष या अंतिम सेमेस्टर की ओपन बुक पद्धति से होने वाली परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं के संग्रहण केंद्रों की सूची विक्रम विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर अपलोड कर दी गई है। संपूर्ण परिक्षेत्र के 7 जिलों में कुल 395 संग्रहण केंद्र बनाए गए हैं। कुलानुशासक, डॉ. शैलेंद्र कुमार शर्मा जी ने जानकारी देते हुए बताया कि, विद्यार्थीगण विश्वविद्यालय की वेबसाइट से संग्रहण केंद्रों की सूची देख सकते हैं। http://vikramuniv.ac.in/examination-notification/ सूची संलग्न दी जा रही है।