Featured Post

दुनिया के प्रमुख लोक नाट्यों के बीच अद्वितीय है मालवा का माच – प्रो शर्मा, सम्पूर्ण लोक नाट्य के रूप में मालवा के माच पर केंद्रित विशेष व्याख्यान हुआ





अभिनव रंगमंडल द्वारा मध्यप्रदेश नाट्य विद्यालय, भोपाल के सहयोग से विस्तार कार्यक्रम के अंतर्गत आयोजित तीस दिवसीय प्रस्तुतिपरक कार्यशाला में रंग समीक्षक और विक्रम विश्वविद्यालय के कुलानुशासक प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा ने सम्पूर्ण लोक नाट्य के रूप में मालवा के माच पर विशिष्ट व्याख्यान दिया। कार्यशाला के समन्वयक अभिनव रंगमंडल के संस्थापक – अध्यक्ष श्री शरद शर्मा ने प्रास्ताविक वक्तव्य दिया। यह कार्यशाला कालिदास संस्कृत अकादमी के अभिरंग नाट्यगृह में आयोजित की जा रही है। 

मध्यप्रदेश के प्रतिनिधि लोकनाट्य माच पर अभिकेंद्रित विशेष व्याख्यान में विचार व्यक्त करते हुए प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा ने कहा कि विश्व रंगमंच को भारतीय लोक नाट्य परम्परा की देन बहुमुखी है। सुदूर अतीत से एशियाई रंगकर्म को हमारी शास्त्रीय और लोक नाट्य परम्पराएँ प्रभावित करती आ रही हैं। दुनिया के प्रमुख लोक नाट्यों के बीच अद्वितीय विधा माच ने विगत लगभग सवा दो सौ वर्षों से रंगमंच के बहुत बड़े दर्शक वर्ग को प्रभावित किया है। लोक संगीत, नृत्य - रूपों, कथा, अभिनय, गीतों के जीवन्त समावेश से यह एक सम्पूर्ण नाट्य का रूप ले लेता है। भरत मुनि का नाट्यशास्त्र विश्व संस्कृति को भारत की अनुपम देन है। माच में सुदूर अतीत से चली आ रही रंगमंच की विशिष्ट प्रवृत्तियों के दर्शन होते हैं। माच के खेलों में जीवन के कई रंगों की अभिव्यक्ति होती है। यह लोक विधा मात्र मनोरंजन का माध्यम नहीं है। व्यापक लोक समुदाय में चिरन्तन सत्य, उच्च आदर्शों और मूल्यों की प्रतिष्ठा के साथ सामाजिक बदलाव में माच ने अविस्मरणीय भूमिका निभाई है। इस विधा के विकास में गुरु गोपाल जी, गुरु बालमुकुंद जी, गुरु राधाकिशन जी, गुरु कालूराम जी, श्री सिद्धेश्वर सेन, श्री ओमप्रकाश शर्मा जैसे कई माचकारों ने योगदान दिया है। 



प्रो शर्मा ने माच के शिल्प और प्रदर्शन शैली पर प्रकाश डालते हुए कहा कि माच खुले मंच की विधा है। अनायास नाटकीयता और लचीलापन माच की शक्ति है। माच का मधुर संगीत इसे प्रभावी आधार देता है। इसके कलाकार मात्र अभिनेता नहीं, वे गायक – नर्तक - अभिनेता होते हैं। सामूहिक रूप से टेक झेलने और बोलों को दुहराने की क्रिया माच की खास पहचान है। माच कोरे यथार्थ के आग्रह को तोड़ता है। माच के रसिया स्वयं भैरव जी हैं। गुरु परम्परा के प्रति निष्ठा इस विधा में निरंतर बनी हुई है। कृषक और श्रमजीवी वर्ग के लोगों ने इस विधा को कला का दर्जा दिलाने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई है।   



प्रारम्भ में प्रास्ताविक वक्तव्य देते हुए संस्था के अध्यक्ष श्री शरद शर्मा ने कहा कि नाट्य संगीत के क्षेत्र में अभिनव रंगमंडल ने विशिष्ट योगदान दिया है। इस कार्यशाला के माध्यम से अभिनय कला के सभी आयामों का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। जिद और जुनून के बिना किसी भी कला में निष्णात होना असम्भव है।


शरद शर्मा, अध्यक्ष, अभिनव रंगमंडल, उज्जैन ने जानकारी देते हुए बताया कि, इस अवसर पर रंगकर्मी वीरेंद्र नथानियल, भूषण जैन, विशाल मेहता आदि सहित रंग प्रशिक्षणार्थी बड़ी संख्या में उपस्थित थे। 

Comments