Skip to main content

हज 2021 के लिए आवेदन प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 10 जनवरी, 2021 तक बढ़ाई गई

 

इम्बार्केशन पॉइंटके अनुसार प्रति हज यात्री अनुमानित खर्च में भी कमी की गई हैः अल्पसंख्यक कार्य मंत्री


दिल्ली : केन्द्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री श्री मुख्तार अब्बास ने कहा कि हज 2021 के लिए आवेदन प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 10 जनवरी, 2021 तक बढ़ा दी गई है। प्रति हज यात्रियों का संभावित खर्च भी

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/Haj1.JPEG

श्री नकवी ने कहा कि 10 दिसम्बर 2020हज 2021 के लिए आवेदन की अंतिम तिथि थी, जिसे बढाकर 10 जनवरी 2021 तक कर दिया गया है। अब तक 40 हजार से ज्याद आवेदन प्राप्त हो चुके हैं। इनमें 500 आवेदन बिना ‘मेहरम’ महिला श्रेणी से मिले हैं।

हज 2020 के लिए 2100 से अधिक महिलाओं ने बिना ‘मेहरम’ (पुरूष रिश्तेदार) के हज पर जाने के लिए आवेदन किया था।ये महिलाएं इस बार हज पर जा सकेंगी। बिना ‘मेहरम’(पुरूष रिश्तेदार) के हज पर जाने वाली महिलाओं द्वारा हज 2020 के लिए किए गए आवेदन हज 2021 के लिए भी मान्य रहेंगे। इसके अतिरिक्त, बिना ‘मेहरम’ हज 2021 यात्रा की इच्छुक महिलाओं से भी नए आवेदन स्वीकार किए जा रहे हैं। बिना ‘मेहरम’ श्रेणी की महिलाओं के लिए लाटरी प्रणाली नहीं होगी। ऐसे लोग ऑनलाइन, ऑलाइन और हज मोबाइल ऐप्प से आवेदन कर रहे हैं।

श्री नकवी ने कहा कि इम्बार्केशन पॉइंट के अनुसार विचार-विमर्श तथा सऊदी अरब से प्राप्त फीडबैक के बाद इम्बार्केशन पॉइन्ट के अनुसार प्रति हज यात्री अनुमानित खर्च भी कम किया गया है।

वर्तमान आंकलन के अनुसार अहमदाबाद और मुम्बई इम्बार्केशन पॉइंट्स से जाने वाले हज यात्रियों को लगभग 3 लाख 30 हजार रूपए; बंगलुरु, लखनऊ, दिल्ली और हैदराबाद एम्बार्केशन पॉइंट्स से जाने वाले हज यात्रियों को लगभग 3 लाख 50 हजार रूपए; कोच्चि एवं श्रीनगर एम्बार्कशन पॉइंट्स से जाने वाले हज यात्रियों को लगभग 3 लाख 60 हजार रूपए; कोलकाता एम्बार्कशन पॉइंट से जाने वाले हज यात्रियों को लगभग 3 लाख 70 हजार रूपए और गुवाहाटी एम्बार्कशन पॉइंट से जाने वाले हज यात्रियों को लगभग 4 लाख रूपए प्रति हज यात्री खर्च होगा।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/Haj3.JPEG

 

श्री नकवी ने कहा कि हज 2021 में महामारी के मद्देनजर राष्ट्रीय- अंतर्राष्ट्रीय प्रोटोकॉल गाइडलाइन्स का मुस्तैदी से पालन किया जायेगा। हज 2021 जून- जुलाई के महीने मे होना है। संपूर्ण हज प्रक्रिया सऊदी अरब की सरकार एवं भारत सरकार द्वारा कोरोना आपदा के मद्देनजर तय पात्रता मानदंड, आयु मानदंड, स्वास्थ्य परिस्थिति एवं अन्य जरुरी दिशानिर्देशों के अनुसार हो रही हैताकिभारत और सऊदी अरब के लोगों का स्वास्थ्य सुनिश्चित किया जा सके।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/Haj2.JPEG

 

श्री नकवी ने कहा कि लोगों की सेहत, सुरक्षा और सऊदी अरब सरकार के दिशानिर्देशों को प्राथमिकता देते हुए और अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय, स्वास्थ्य मंत्रालय, विदेश मंत्रालय, नागरिक उड्डयन मंत्रालय, हज कमेटी, सऊदी अरब में भारतीय दूतावास, जेद्दा में भारतीय कॉन्सुल जनरल आदि द्वारा गहन मंत्रणा के बाद हज 2021 की प्रक्रिया तय की गई है।

श्री नकवी ने कहा कि हज 2021 के लिए प्रबंध विशेष परिस्थितियों के अंतर्गत किए गए हैं। प्रबंधों में विशेष तौर तरीके, नियम तथा विनियम, पात्रता मानक, आयु प्रतिबंध तथा स्वास्थ्य आवश्यकताओं को कोरोना महामारी के कारण सऊदी अरबिया सरकार की स्थिति को देखते हुए शामिल किया गया है। पूरी हज यात्रा प्रक्रिया में महामारी को देखते हुए काफी बदलाव किए गए हैं। इस प्रक्रिया में आवासीय व्यवस्था, श्रद्धालुओं की ठहरने की अवधि, परिवहन व्यवस्था, भारत और सऊदी अरब में स्वास्थ्य और अन्य सुविधाएं शामिल की गई हैं। सऊदी अरब में महामारी की स्थिति के बीच हज 2021 के लिए सभी आवश्यक दिशा निर्देशों का कठोरता से पालन किया जाएगा। कोरोना के प्रभाव के आधार पर आयु मानकों में बदलाव हो सकता है। अभी तक निर्धारित अंतर्राष्ट्रीय हवाई यात्रा प्रोटोकॉल के तहत हज यात्रा पर जाने वाले प्रत्येक व्यक्ति के लिए हज यात्रा से 72 घंटे पहले कोरोना टेस्ट कराना जरूरी होगा। सऊदी अरब की यात्रा से पहले प्रत्येक यात्री को स्वीकृत प्रयोगशाला द्वारा जारी निगेटिव परिणाम का पीसीआर जांच प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा।

श्री नकवी ने कहा कि कोरोना महामारी की स्थिति तथा एयर इंडिया और विभिन्न विदेशी एजेंसियों से प्राप्त फीड बैक के आधार पर इन्बार्केशन पाइंट की संख्या घटाकर दस कर दी गई है। इससे पहले पूरे देश में इन्बार्केशन पाइंट की संख्या 21 थी। हज 2021 के लिए दस इन्बार्केशन पाइंट हैं-

 

अहमदाबाद एम्बार्केशन पॉइंट से गुजरात के सभी हज यात्री; बेंगलुरू से (कर्नाटक के सभी हज यात्री); कोच्चि से (केरल, लक्षद्वीप, पुड्डुचेरी, तमिलनाडु, अंडमान एवं निकोबार); दिल्ली से (दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, चंडीगढ़, उत्तराखंड, राजस्थान एवं उत्तर प्रदेश के पश्चिम क्षेत्र); गुवाहाटी से (असम, मेघालय, मणिपुर, अरूणाचल प्रदेश, सिक्किम, नगालैंड); हैदराबाद से (आंध्र प्रदेश, तेलंगाना); कोलकाता से (पश्चिम बंगाल, ओडिशा, त्रिपुरा, झारखण्ड, बिहार); लखनऊ से (पश्चिम उत्तर प्रदेश को छोड़कर उत्तर प्रदेश के अन्य सभी क्षेत्र); मुम्बई से (महाराष्ट्र, गोवा, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, दमन और दीव, दादर व नगर हवेली) एवं श्रीनगर से (जम्मू-कश्मीर, लेह-लद्दाख-कारगिल) के हज यात्री यात्रा करेंगे।

बैठक में केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी, हज कमेटी ऑफ़ इंडिया के सी.ई.ओ श्री एम. ए. खान एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

चौऋषिया दिवस (नागपंचमी) पर चौऋषिया समाज विशेष, नाग पंचमी और चौऋषिया दिवस की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं

चौऋषिया शब्द की उत्पत्ति और अर्थ: श्रावण मास में आने वा ली नागपंचमी को चौऋषिया दिवस के रूप में पुरे भारतवर्ष में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता हैं। चौऋषिया शब्द की उत्पत्ति संस्कृत शब्द "चतुरशीतिः" से हुई हैं जिसका शाब्दिक अर्थ "चौरासी" होता हैं अर्थात चौऋषिया समाज चौरासी गोत्र से मिलकर बना एक जातीय समूह है। वास्तविकता में चौऋषिया, तम्बोली समाज की एक उपजाति हैं। तम्बोली शब्द की उत्पति संस्कृत शब्द "ताम्बुल" से हुई हैं जिसका अर्थ "पान" होता हैं। चौऋषिया समाज के लोगो द्वारा नागदेव को अपना कुलदेव माना जाता हैं तथा चौऋषिया समाज के लोगो को नागवंशी भी कहा जाता हैं। नागपंचमी के दिन चौऋषिया समाज द्वारा ही नागदेव की पूजा करना प्रारम्भ किया गया था तत्पश्चात सम्पूर्ण भारत में नागपंचमी पर नागदेव की पूजा की जाने लगी। नागदेव द्वारा चूहों से नागबेल (जिस पर पान उगता हैं) कि रक्षा की जाती हैं।चूहे नागबेल को खाकर नष्ट करते हैं। इस नागबेल (पान)से ही समाज के लोगो का रोजगार मिलता हैं।पान का व्यवसाय चौरसिया समाज के लोगो का मुख्य व्यवसाय हैं।इस हेतू समाज के लोगो ने अपन