Skip to main content

नगरीय निकायों के आम चुनाव के संचालन एवं क्रियान्वयन के लिये उज्जैन कलेक्टर द्वारा नोडल एवं सहायक नोडल अधिकारी नियुक्त

नगरीय निकायों के आम चुनाव के संचालन एवं क्रियान्वयन के लिये उज्जैन कलेक्टर द्वारा नोडल एवं सहायक नोडल अधिकारी नियुक्त



उज्जैन 07 नवम्बर। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री आशीष सिंह ने राज्य निर्वाचन आयोग के निर्देश अनुसार आगामी नगरीय निकायों के आम चुनाव के सुचारू संचालन एवं सुदृढ़ क्रियान्वयन के लिये नोडल अधिकारी एवं सहायक नोडल अधिकारी नियुक्त किये हैं। नियुक्त किये गये समस्त नोडल अधिकारी सौंपे गये कार्यों को समय-सीमा में आयोग के द्वारा निर्देशों एवं अनुदेशों के अध्याधीन रहते हुए पूर्ण करना सुनिश्चित करेंगे। साप्ताहिक प्रतिवेदन स्थानीय निर्वाचन के जिला निर्वाचन अधिकारी को प्रस्तुत करेंगे। नोडल अधिकारी तथा सहायक नोडल अधिकारी आवश्यकता अनुसार कार्य सम्पादन के लिये अपने स्तर से दल गठन कर कर्मचारियों को नियुक्ति आदेश जिला निर्वाचन अधिकारी के माध्यम से जारी करायेंगे।


कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री आशीष सिंह ने इस सम्बन्ध में आदेश जारी कर दिये हैं। आदेश के तहत निर्वाचक नामावली के कार्य के लिये डिप्टी कलेक्टर सुश्री गरिमा रावत को नोडल अधिकारी नियुक्त किया है। इनके सहयोग के लिये सहायक नोडल अधिकारी अधीक्षक भू-अभिलेख सुश्री प्रीति चौहान को बनाया गया है। ईवीएम एवं डीएमएम प्रबंधन के नोडल अधिकारी संयुक्त कलेक्टर श्री वीएस दांगी एवं सहायक नोडल अधिकारी श्री वीवीएस चौधरी, कार्मिक प्रबंधन के लिये नोडल अधिकारी अपर कलेक्टर श्री अवि प्रसाद एवं सहायक नोडल अधिकारी श्री धर्मेन्द्र यादव व सुश्री रमा नाहटे, प्रशिक्षण के नोडल अधिकारी सीईओ जिला पंचायत श्री अंकित अस्थाना एवं सहायक नोडल अधिकारी एसडीएम श्री संजीव साहू, डॉ.संदीप नाडकर्णी, डॉ.विजय सुखवानी, श्री अनिल जैन, श्री आरके तिवारी, कानून व्यवस्था के नोडल अधिकारी एडीएम श्री नरेन्द्र सूर्यवंशी एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक एवं सहायक नोडल अधिकारी जिले के समस्त एसडीएम, सामग्री प्रबंधन के लिये नोडल अधिकारी डिप्टी कलेक्टर श्री आरएम त्रिपाठी, डिप्टी कलेक्टर सुश्री कल्याणी पाण्डेय एवं सहायक नोडल अधिकारी नायब तहसीलदार श्री योगेश मेश्राम, श्री नवीन छलोत्रे को नियुक्त किया गया है।


इसी प्रकार रूटचार्ट कार्य के लिये नोडल अधिकारी एसडीएम श्री संजीव साहू एवं सहायक नोडल अधिकारी सुश्री अभिलाषा चौरसिया, श्री मनोज राजवानी, श्री डोंगरसिंह परिहार, परिवहन प्रबंधन कार्य के लिये एडीएम श्री नरेन्द्र सूर्यवंशी को नोडल अधिकारी एवं सहायक नोडल अधिकारी आरटीओ श्री संतोष मालवीय, खाद्य नियंत्रक श्री मोहनलाल मारू, रक्षित निरीक्षक एवं समस्त खण्ड स्तरीय खाद्य निरीक्षक को बनाया गया है। आदर्श आचरण संहिता के क्रियान्वयन के लिये नोडल अधिकारी आयुक्त नगर पालिक निगम श्री क्षितिज सिंघल एवं सहायक नोडल अधिकारी समस्त एसडीएम, नगर निगम उपायुक्त श्री संजेश गुप्ता तथा समस्त नगरीय निकायों के मुख्य नगर पालिका अधिकारी को बनाया गया है। मतपत्रों के प्रबंधन कार्य के नोडल अधिकारी जिला कोषालय अधिकारी श्री दीपक कुमार चौरसिया, तहसीलदार श्री सुनील पाटिल एवं सहायक नोडल अधिकारी समस्त एसडीएम, समस्त सहायक रिटर्निंग आफिसर, श्री दिलीप सोनी को बनाया गया है। मीडिया मैनेजमेंट कार्य के लिये नोडल अधिकारी अपर कलेक्टर श्री जितेन्द्रसिंह चौहान, संयुक्त संचालक जनसम्पर्क सुश्री रश्मि देशमुख एवं सहायक नोडल अधिकारी श्री एचएस शर्मा जनसम्पर्क को बनाया गया है। मतगणना प्रबंधन कार्य के नोडल अधिकारी अपर कलेक्टर श्री जितेन्द्रसिंह चौहान एवं सहायक नोडल अधिकारी श्री एएस रघुवंशी, श्री दीपक कुमार चौरसिया, समस्त उप कोषालय अधिकारी, नगर निगम उपायुक्त श्री मनोज कुमार पाठक को बनाया गया है।


इसी तरह कम्युनिकेशन प्लान प्रबंधन कार्य के लिये नोडल अधिकारी जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री गौतम अधिकारी एवं सहायक नोडल अधिकारी श्री अभय तोमर एवं श्री गिरीश तिवारी को बनाया है। आईटी प्रबंधन कार्य के नोडल अधिकारी एसडीएम श्री जगदीश मेहरा एवं इनके सहायक नोडल अधिकारी श्री धर्मेन्द्र यादव व श्रीमती बिंदु डोडिया को बनाया है। सामग्री प्रदाय एवं वापसी प्रबंधन कार्य के लिये नोडल अधिकारी डिप्टी कलेक्टर सुश्री कल्याणी पाण्डेय, तहसीलदार श्री श्रीकान्त शर्मा एवं सहायक नोडल अधिकारी उपायुक्त श्री सुनील शाह एवं समस्त नगरीय निकायों के मुख्य नगर पालिका अधिकारी व श्री आरके तिवारी को बनाया गया है। वित्तीय प्रबंधन कार्य के नोडल अधिकारी टीओ श्री दीपक कुमार चौरसिया, जिला खनिज अधिकारी सुश्री रश्मि पाण्डेय एवं सहायक नोडल अधिकारी समस्त एसडीएम, समस्त मुख्य नगर पालिका अधिकारी, श्री शेरसिंह पहाड़िया, श्री अजय चौधरी को बनाया गया है। शिकायतों की मॉनीटरिंग कार्य के नोडल अधिकारी जिला पंचायत सीईओ श्री अंकित अस्थाना एवं सहायक नोडल अधिकारी श्री सीएल केवड़ा व सुश्री रश्मि पाण्डेय को बनाया गया है। मतदाता जागरूकता कार्य के लिये नोडल अधिकारी आयुक्त नगर पालिक निगम श्री क्षितिज सिंघल एवं सहायक नोडल अधिकारी जनसम्पर्क संयुक्त संचालक सुश्री रश्मि देशमुख, श्री रामबाबू शर्मा, श्री साबिर अहमद सिद्धिकी को बनाया गया है। सांख्यिकी आंकड़ों के प्रबंधन कार्य के लिये नोडल अधिकारी श्री एससी गुप्ता, श्री धर्मेन्द्र यादव एवं सहायक नोडल अधिकारी श्री तरूण कोचर, श्री देवाशीष श्रीवास्तव को बनाया गया है। मतदान केन्द्रों एवं मतगणना स्थल पर व्यवस्थाओं के लिये नोडल अधिकारी आयुक्त नगर पालिक निगम श्री क्षितिज सिंघल एवं सहायक नोडल अधिकारी श्री एएस रघुवंशी, श्री सुनील शाह, ऑब्जर्वर की व्यवस्था के नोडल अधिकारी सहायक आयुक्त आबकारी श्री डीएस सिसौदिया एवं सहायक नोडल अधिकारी श्री एमएल मारू, श्री संजेश गुप्ता, वीडियोग्राफी एवं सीसीटीवी की व्यवस्था के लिये नोडल अधिकारी श्री एसके रेवाल एवं सहायक नोडल अधिकारी समस्त सहायक रिटर्निंग आफिसर को बनाया गया है। नाम निर्देशन के कार्य के लिये नोडल अधिकारी डिप्टी कलेक्टर श्री जगदीश मेहरा एवं सहायक नोडल अधिकारी उपायुक्त श्री मनोज पाठक, श्री सुमित शर्मा, निर्वाचन व्यय लेखा प्रबंधन कार्य के लिये नोडल अधिकारी कोष एवं लेखा के संयुक्त संचालक सुश्री सुषमा ठाकुर एवं सहायक नोडल अधिकारी श्री विश्वमोहन खरे, श्री लुकमान अली, श्री रविन्द्र शिंदेकर, श्री प्रमोद राठौर, श्री धारासिंह मीणा, श्री अनिल कुमार सक्सेना और निर्वाचन कर्त्तव्य मतपत्र प्रबंधन एवं फेसेलिटेशन सेन्टर की स्थापना के कार्य के लिये नोडल अधिकारी श्रीमती मेघना भट्ट एवं सहायक नोडल अधिकारी श्री सुमित शर्मा, श्री पीएस सोलंकी को बनाया गया है।


समस्त अधिकारियों को निर्देश दिये हैं कि वे निर्वाचन कार्य समयावधि में पूर्ण करें। जिला निर्वाचन अधिकारी को प्रस्तुत होने वाली प्रत्येक नस्ती उप जिला निर्वाचन अधिकारी के माध्यम से प्रस्तुत की जाये। उक्त आदेश तुरन्त प्रभावशील होकर नगरीय निकाय निर्वाचन 2020-21 की समाप्ति तक प्रभावशील रहेगा।


Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य