Skip to main content

मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ ने दी है भारतीय संस्कृति और परम्पराओं को विशेष पहचान – प्रो शर्मा ; अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी में हुआ छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश राज्यों की संस्कृति और साहित्य पर मंथन

मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ ने दी है भारतीय संस्कृति और परम्पराओं को विशेष पहचान – प्रो शर्मा 


अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी में हुआ छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश राज्यों की संस्कृति और साहित्य पर मंथन   



देश की प्रतिष्ठित संस्था राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना द्वारा अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी का आयोजन किया गया, जिसमें विशेषज्ञ वक्ताओं ने भाग लिया। यह संगोष्ठी मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ राज्यों की संस्कृति और साहित्य पर केंद्रित थी। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि संस्थाध्यक्ष श्री ब्रजकिशोर शर्मा थे। प्रमुख वक्ता विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के हिंदी विभागाध्यक्ष एवं कुलानुशासक प्रो शैलेंद्र कुमार शर्मा थे। विशिष्ट वक्ता डॉ शैल चंद्रा, सिहावा नगरी, छत्तीसगढ़ थीं। कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि शिक्षाविद् डॉ शहाबुद्दीन नियाज़ मोहम्मद शेख, पुणे, वरिष्ठ पत्रकार डॉ शंभू पवार,  राजस्थान,  डॉ आशीष नायक, रायपुर, वरिष्ठ प्रवासी साहित्यकार एवं अनुवादक श्री सुरेशचंद्र शुक्ल शरद आलोक, ओस्लो, नॉर्वे, महासचिव डॉ प्रभु चौधरी एवं उपस्थित वक्ताओं ने विचार व्यक्त किए। यह आयोजन दोनों राज्यों के स्थापना दिवस के अवसर पर संपन्न हुआ।



कार्यक्रम के मुख्य अतिथि संस्था के अध्यक्ष श्री ब्रजकिशोर शर्मा ने कहा कि छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश राज्य अपनी विशिष्ट संस्कृति और सभ्यता के लिए विदेशों तक जाने जाते हैं। उन्होंने अपनी कविता के माध्यम से इनकी विशेषताओं को प्रस्तुत किया।  



प्रमुख वक्ता लेखक एवं संस्कृतिविद प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा ने कहा कि छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश ने भारतीय संस्कृति और परम्पराओं को विशेष पहचान दी है। प्रागैतिहासिक काल से ये दोनों ही राज्य मानवीय सभ्यता की विलक्षण रंग स्थली रहे हैं। भीमबेटका जैसे धरोहर शैलाश्रय और अनेक पुरास्थलों से ये राज्य दुनिया भर के पर्यटकों का ध्यान आकर्षित करते हैं।  नर्मदा, महानदी और अन्य पुण्य सलिला नदियों के तट पर सुदूर अतीत से विविधवर्णी सभ्यताओं का जन्म और विकास होता आ रहा है। ग्राम, वन और पर्वतों पर बसे अनेक लोक और जनजातीय समुदायों की अपनी विशिष्ट बोली, बानी,  गीत, नृत्य, नाट्य, लोक विश्वास आदि के कारण ये राज्य दुनिया भर में अनुपम बन गए हैं। छत्तीसगढ़ मां का लोक में प्रचलित रूप इस क्षेत्र के लोगों की परिश्रमशीलता के साथ प्रकृति एवं संस्कृति की आपसदारी को जीवन्त करता है। छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश की पुरा सम्पदा के अन्वेषण और संरक्षण के लिए व्यापक प्रयासों की आवश्यकता है। उन्होंने अपने व्याख्यान में राजिम, सिरपुर, फिंगेश्वर, चंपारण आदि प्रमुख पर्यटन स्थलों की विशेषताओं को उद्घाटित किया। चंपारण महाप्रभु वल्लभाचार्य के प्राकट्य स्थल होने के कारण देश दुनिया में विख्यात है, जिन्होंने पुष्टिमार्ग का प्रवर्तन किया था।



डॉक्टर शैल चंद्रा, सिहावा नगरी, छत्तीसगढ़ ने कहा कि छत्तीसगढ़ अपनी सांस्कृतिक विरासत में समृद्व है। राज्य का सबसे  प्रसिद्ध नृत्य नाटक पंडवानी है, जो  महाकाव्य महाभारत का संगीतमय वर्णन है। छत्तीसगढ़ भगवान राम की कर्मभूमि है। इसे दक्षिण कोशल कहा जाता है। यहां ऐसे भी प्रमाण मिले हैं, जिनसे यह प्रतीत होता है कि श्री राम जी की माता छत्तीसगढ़ की थीं। बलौदाबाजार जिले में स्थित तुरतुरिया में  महर्षि वाल्मीकि का आश्रम है। ऐसा माना जाता है वह लव कुश की जन्म स्थली है प्राचीन कला, सभ्यता, संस्कृति, इतिहास और पुरातत्व की दृष्टि से छत्तीसगढ़ अत्यंत सम्पन्न है। यहां के जनमानस में अतिथि देवो भव की भावना रची बसी है। यहां के लोग शांत और भोले भाले हैं। तभी तो कहा जाता है, छतीसगढ़िया सबले बढ़िया। यहां के लोग छत्तीसगढ़ को महतारी का दर्जा देते हैं । 


डॉ शहाबुद्दीन नियाज मोहम्मद शेख, पुणे ने अपने व्याख्यान में कहा कि मध्य प्रदेश भारत का एक ऐसा राज्य है, जिसकी सीमाएं उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान इन पांच राज्यों से मिलती है। पर्यटन की दृष्टि से यह राज्य अपनी महत्ता रखता है। छत्तीसगढ़ भारत का ऐसा 26 वाँ राज्य है, जो पहले मध्यप्रदेश के अंतर्गत था। इस राज्य को  महतारी अर्थात मां का दर्जा दिया गया है। यह राज्य दक्षिण कोशल कहलाता था, जो छत्तीस गढ़ों अपने में समाहित रखने कारण छत्तीसगढ़ बन गया है। वैदिक और पौराणिक काल से विभिन्न संस्कृतियों का केंद्र छत्तीसगढ़ रहा है। इस राज्य ने शीघ्र गति से अपनी प्रगति साधी है।



वरिष्ठ पत्रकार डॉ शम्भू पंवार, पिड़ावा, राजस्थान ने कहा कि मध्य प्रदेश राज्य के हिस्से को अलग करके 1 नवंबर 2000 को छत्तीसगढ़ राज्य का गठन किया गया था। छत्तीसगढ़ राज्य का इतिहास बहुत ही गौरवशाली है। छत्तीसगढ़ अपनी सांस्कृतिक विरासत में समृद्ध है। छत्तीसगढ़ की संस्कृति पूरे भारत में अपना विशेष महत्व रखती है। यहां के लोक गीत व नृत्य बेमिसाल हैं।  छत्तीसगढ़ के लोक गीतों में पंडवानी, जसगीत, भरथरी, लोकगाथा, बांस गीत, करमा, ददरिया, डंडा, फाग आदि बहुत ही लोकप्रिय है। लयबद्ध लोक संगीत,नृत्य, नाटक को देख कर आनंद की अनुभूति होती है। छत्तीसगढ़ धान की उपज की दृष्टि से दुनिया का दूसरा प्रमुख राज्य है। यहां धान की 23 हजार किस्में हैं।  इतनी देश में किसी भी राज्य में नहीं है। दुनिया भर में केवल फिलीपींस ऐसा देश है,  जिसमें धान की 26 हजार किस्में है। छत्तीसगढ़ की धान की किस्में औषधीय गुणों से भरपूर है। कुछ किस्में खुशबू के लिए जानी जाती है, तो कुछ मधुमेह रोगियों के लिए लाभप्रद है।


डॉ आशीष नायक रायपुर ने राष्ट्र के विकास में छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश की भूमिका पर प्रकाश डाला।                 


राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना की छत्तीसगढ़ प्रदेश सचिव श्रीमती पूर्णिमा कौशिक ने छत्तीसगढ़ का राज्य गीत प्रस्तुत किया। इस गीत की पंक्तियां थीं, अरपा पैरी के धार, अरपा पैरी के धार, महानदी हे अपार। इँदिरावती हा पखारय तोर पईयां, महूं पांवे परंव तोर भुँइया। जय हो जय हो छत्तीसगढ़ मईया।



संस्था एवं आयोजन की संकल्पना का परिचय संस्था के महासचिव डॉ प्रभु चौधरी ने देते हुए छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश के  विशेषताओं पर प्रकाश डाला। उन्होंने संस्था के उद्देश्य और भावी गतिविधियों पर भी प्रकाश डाला।


डॉ सीमा निगम, रायपुर ने अतिथि के प्रति स्वागत उद्गार व्यक्त करते हुए छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस की सभी को हार्दिक शुभकामनाएं अर्पित की। 


राष्ट्रीय संगोष्ठी में डॉ सुवर्णा जाधव, मुंबई, डॉ भरत शेणकर,  अहमदनगर, डॉ लता  जोशी, मुंबई, डॉ आशीष नायक, रायपुर, डॉ प्रवीण बाला, पटियाला, डॉ मुक्ता कौशिक, डॉ रिया तिवारी, डॉ सीमा निगम, श्री जितेंद्र रत्नाकर, रायपुर, डॉक्टर समीर सैयद, अहमदनगर, पूर्णिमा कौशिक, रायपुर, डॉ रोहिणी डाबरे, अहमदनगर, डॉ हंसमुख, रायपुर, डॉ अमित शर्मा, ग्वालियर आदि सहित अनेक प्रबुद्धजन उपस्थित थे। 



संगोष्ठी के प्रारंभ में सरस्वती वंदना श्रीमती पूर्णिमा कौशिक, रायपुर ने की। संस्था का प्रतिवेदन डॉ रिया तिवारी, रायपुर ने प्रस्तुत किया।


अंतरराष्ट्रीय वेब संगोष्ठी का संचालन संस्था की महासचिव डॉ मुक्ता कौशिक, रायपुर ने किया। आभार प्रदर्शन संस्था कि डॉक्टर स्वाति श्रीवास्तव ने किया।


Bkk News


Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar


Comments

मध्यप्रदेश खबर

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग