Skip to main content

कोरोना वैक्सीन वितरण के लिए राज्य योजना बनाएं - प्रधानमंत्री श्री मोदी

वीडियो कान्फ्रेंस द्वारा हुई राज्यों से चर्चा
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दी मध्यप्रदेश की तैयारियों की जानकारी

भोपाल : मंगलवार, नवम्बर 24, 2020

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि भारत के साथ ही अन्य देशों में भी कोरोना से बचाव के वैक्सीन के लिए पूरे प्रयास हो रहे हैं। यह कार्य आखिरी दौर में है। भारत जो भी वैक्सीन देगा वो वैज्ञानिक कसौटी पर खरी होगी और इसके उपयोग की देशव्यापी व्यवस्था होगी। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि देश में गत कुछ महीने से कोरोना की चुनौती से निपटने के लिए केन्द्र सरकार ने भरसक प्रयास किए हैं। राज्यों द्वारा भी सजग और सक्रिय रहकर कोरोना से बचाव, रोगियों के उपचार और भविष्य की स्थिति के संबंध में अच्छा कार्य किया गया। हम आपदा के गहरे समंदर से निकलकर किनारे की तरफ बढ़ रहे हैं। लेकिन सावधानी अभी भी आवश्यक है। कहीं किसी शायर की यह पंक्तियां चरितार्थ न हों, कि हमारी कश्ती भी वहीं डूबी, जहाँ पानी कम था। प्रधानमंत्री श्री मोदी आज कोविड-19 वैक्सीन वितरण और उसके प्रशासन के संबंध में राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कान्फ्रेंस द्वारा चर्चा कर रहे थे। मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री श्री मोदी को मध्यप्रदेश में की गई तैयारियों की जानकारी दी।


वैक्सीन आने तक न बरतें ढिलाई - प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि जब कोरोना शुरू हुआ कुछ देशों में समस्या बहुत गंभीर थी। विशाल जनसंख्या वाले भारत देश में हमारा प्रयास था कि कम से कम नुकसान हो। इसमें सफलता भी मिली है। सभी को जागरूक होना होगा, ढिलाई बिल्कुल न हो, वैक्सीन आने में देर नहीं है लेकिन तब तक सभी सावधानियों का पालन करना ही है। वैक्सीन निर्माण के संदर्भ में भारत सरकार निरंतर नजर रखे हुए है। वैक्सीन आने के पश्चात किसे कितना डोज़ देना होगा, यह तय नहीं है। हमें वैश्विक संदर्भ में आगे बढ़ना होगा। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि त्यौहारों के पहले भी मैंने अपने संदेश में कहा था कि कहीं ढिलाई खतरा न बने, सभी सजग रहें। भय समाप्त होने से लापरवाही बढ़ने की स्थिति बनती है। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि हमने चार चरण में कोरोना की स्थिति देखी है। प्रथम चरण में भय था। द्वितीय चरण में भय के साथ संदेह भी जुड़ गया। घर के सदस्यों से भी संक्रमण का भय होता था। इसके साथ ही लोग संक्रमण की बात छिपाने भी लगे थे। तृतीय चरण में समस्या को स्वीकार कर लोग संभलने लगे। अब चौथे चरण में काफी गंभीर और सजग हो गए हैं। रिकवरी रेट बढ़ने से लापरवाही नहीं बढ़ना चाहिए। टेस्टिंग की सुविधा का उपयोग करते हुए पॉजीटिविटी रेट को कम करना है। आइसोलेशन रोगियों की निरंतर मॉनीटरिंग, वैक्सीन के लिए सप्लाई व्यवस्था और जागरूकता अभियान में कोई कमी नहीं होना चाहिए। एक भी मृत्यु कहीं होती है तो उसके कारणों तक पहुंचना है। कोरोना से लड़ाई में प्रारंभ से एक-एक व्यक्ति को बचाने का प्रयास है। यह हमारा संकल्प भी है। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि टीकाकरण अभियान का कार्य काफी लंबा चलेगा। इसके लिए टीम भावना से कार्य करना होगा। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहाकि राज्यों से वैक्सीन की वितरण व्यवस्था पर आज सुझाव मांगे गए हैं। इन सुझावों के आधार पर अमल भी किया जाएगा। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने राज्यों से अपेक्षा की कि वैक्सीन के वितरण के कार्य को सुचारू रूप से सम्पन्न किया जाएगा। उन्होंने राज्यों से लिखित रूप में भी शीघ्र ही सुझाव भेजने का अनुरोध किया।


प्रधानमंत्री श्री मोदी उन 8 राज्यों की स्थिति भी जानी जहां अभी भी कोरोना की समस्या अधिक गंभीर है। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने उन राज्यों के मुख्यमंत्रियों की बात भी सुनी। इन राज्यों में दिल्ली, पश्चिम बंगाल, राजस्थान, केरल, गुजरात, हरियाणा, छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र शामिल है। इस अवसर पर केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने प्रजेंटेशन दिया।


अनलॉक में गतिविधियां हों लेकिन सावधानियों का पालन करें - श्री अमित शाह

प्रारंभ में केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने कहा कि अब तक यह लड़ाई सफलतापूर्वक लड़ी गई है। परिणाम भी अच्छे मिले हैं। जनता ने भी लड़ाई लड़ी है। सर्दी बढ़ने से और उत्तर भारत में प्रदूषण बढ़ने से जो समस्या आ रही है, वो चिंता का विषय बन सकती है। हम सभी सचेत हों, त्योहारों से भी कुछ संक्रमण बढ़ा है। बारीक एनालिसिस करें तो यह भी देखने को मिलता है कि जागरूकता में कमी आई है। इस मामले में ढिलाई दूर करनी होगी। घटती मृत्यु दर भी मनोवैज्ञानिक रूप से लोगों का भय दूर करती है, इससे जागरूकता में भी कमी आती है, अनलॉक में गतिविधियां हों पर हम सावधानियों का पालन करें तो समस्या नहीं बढ़ेगी। श्री अमित शाह ने कहा कि कंटेनमेंट जोन का पुनर्निर्धारण, फेस मास्क के उपयोग, हाथ स्वच्छ रखने बार-बार धोने, दो गज की दूरी और एप्स के उपयोग के प्रति जागरूकता आवश्यक है। उन्होंने राज्यों के मुख्यमंत्रियों से अनुरोध किया कि दिशा निर्देशों के पालन के प्रति प्रशासन को सक्रिय करें टेस्टिंग कम ना हो कठोरता से नियमों का पालन हो सावधानी का संस्कार बना रहे।


मध्यप्रदेश की तैयारियाँ पूरी, स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण भी सम्पन्न - मुख्यमंत्री श्री चौहान

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधामनंत्री श्री मोदी को जानकारी दी कि मध्यप्रदेश में कोरोना वैक्सीन आने के बाद वितरण व्यवस्था को सुचारू ढंग से लागू किया जाएगा। वैक्सीन आने पर परिवहन व्यवस्था ड्राई स्टॉक, कोल्ड चैन स्पेस, नवीन कोल्ड चैन फोकल प्वाइंट का विस्तार, मॉनिटरिंग, वैक्सीनेटर्स के प्रशिक्षण का कार्य व्यापक पैमाने पर किया जाएगा। वर्तमान में भी स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण दिया जा चुका है।


राज्य संचालन समिति गठित

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य में टीकाकरण कार्य सुचारू रूप से किया जाएगा। इसकी आवश्यक तैयारियां की जा रही हैं। राज्य संचालन समिति बनाई जा चुकी है। यह समिति मुख्य सचिव की अध्यक्षता में बनाई गई है। जिला टास्क फोर्स भी बना दिए गए हैं। ब्लॉक स्तर पर भी टास्कफोर्स गठित होंगे।


समाज की भागीदारी सुनिश्चित करेंगे

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि टीकाकरण कार्य में समाज को भी शामिल किया जाएगा। सामाजिक संगठन जैसे एनसीसी, एनएसएस और युवाओं का सहयोग लिया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना से बचाव की वैक्सीन प्राथमिकता से किन लोगों को लगाई जाए, यह भारत सरकार द्वारा प्राप्त दिशा निर्देशों के अनुरूप किया जाएगा।


इलेक्शन बूथ की तरह केन्द्र बनेंगे, दल गठित होंगे

प्रारंभ में नीति आयोग के डॉ. वी.के. पाल ने वैक्सीन की उपलब्धता के संबंध में विस्तारपूर्वक जानकारी दी। उन्होंने बताया कि वैक्सीन के लिए व्यवस्थाएं उम्मीद बांधने वाली है। भारत इस दिशा में सक्रिय है। वितरण की पारदर्शी व्यवस्था की जाएगी। विदेश स्तर पर और भारत के स्तर पर विभिन्न कंपनियां वैक्सीन विकसित करने के लिए प्रयासरत हैं। भारत सरकार द्वारा प्राथमिकतापूर्वक हाईरिस्क वालों को वैक्सीन देने का कार्य प्रस्तावित है। इसके संबंध में क्रियान्वयन के स्तर पर नेशनल एक्सपर्ट ग्रुप के परामर्श से कार्य होगा। मोटे तौर पर अभी प्राथमिकता क्रम में सर्वप्रथम फ्रंटलाइन वर्कर्स , 65 वर्ष सेअधिक आयु के व्यक्ति और इसके पश्चात 65 वर्ष से कम आयु के रोगियों को वैक्सीन देना प्रस्तावित है। प्रोविजनल प्रायोरिटी ग्रुप में करीब 30 करोड़ लोग शामिल हैं। जनभागीदारी और प्रशिक्षण की व्यवस्थाएं हो रही हैं। इलेक्शन बूथ की तरह दल गठित कर एकत्र होकर अधिकारी-कर्मचारी कार्य करेंगे। खण्ड स्तरीय योजना बनाई जाएगी। निजी और शासकीय डॉक्टर्स को विशेष जिम्मा रहेगा। भंडारण व्यवस्था, कम्युनिकेशन और समीक्षा एवं समन्वय के स्तर पर निरंतर कार्य हो रहा है।


वीडियो कान्फ्रेंस में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य श्री मोहम्मद सुलेमान उपस्थित थे।

Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

चौऋषिया दिवस (नागपंचमी) पर चौऋषिया समाज विशेष, नाग पंचमी और चौऋषिया दिवस की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं

चौऋषिया शब्द की उत्पत्ति और अर्थ: श्रावण मास में आने वा ली नागपंचमी को चौऋषिया दिवस के रूप में पुरे भारतवर्ष में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता हैं। चौऋषिया शब्द की उत्पत्ति संस्कृत शब्द "चतुरशीतिः" से हुई हैं जिसका शाब्दिक अर्थ "चौरासी" होता हैं अर्थात चौऋषिया समाज चौरासी गोत्र से मिलकर बना एक जातीय समूह है। वास्तविकता में चौऋषिया, तम्बोली समाज की एक उपजाति हैं। तम्बोली शब्द की उत्पति संस्कृत शब्द "ताम्बुल" से हुई हैं जिसका अर्थ "पान" होता हैं। चौऋषिया समाज के लोगो द्वारा नागदेव को अपना कुलदेव माना जाता हैं तथा चौऋषिया समाज के लोगो को नागवंशी भी कहा जाता हैं। नागपंचमी के दिन चौऋषिया समाज द्वारा ही नागदेव की पूजा करना प्रारम्भ किया गया था तत्पश्चात सम्पूर्ण भारत में नागपंचमी पर नागदेव की पूजा की जाने लगी। नागदेव द्वारा चूहों से नागबेल (जिस पर पान उगता हैं) कि रक्षा की जाती हैं।चूहे नागबेल को खाकर नष्ट करते हैं। इस नागबेल (पान)से ही समाज के लोगो का रोजगार मिलता हैं।पान का व्यवसाय चौरसिया समाज के लोगो का मुख्य व्यवसाय हैं।इस हेतू समाज के लोगो ने अपन