Skip to main content

मातृ तत्त्व की अपार महिमा का निरूपण हुआ है संस्कृति और साहित्य में – प्रो. शर्मा

मातृ तत्त्व की अपार महिमा का निरूपण हुआ है संस्कृति और साहित्य में – प्रो. शर्मा 



भारतीय संस्कृति और साहित्य में मातृ तत्त्व पर केंद्रित राष्ट्रीय वेब संगोष्ठी संपन्न


वन्दनीया गीता देवी चौधरी स्मृति सम्मान से सम्मानित किए गए पांच संस्कृतिकर्मी


प्रतिष्ठित संस्था राष्ट्रीय शिक्षक संचेतना द्वारा भारतीय संस्कृति और साहित्य में मातृ तत्त्व पर केंद्रित राष्ट्रीय वेब संगोष्ठी का आयोजन किया गया। संगोष्ठी की मुख्य अतिथि विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के हिंदी विभाग के अध्यक्ष एवं कुलानुशासक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा थे। प्रमुख वक्ता साहित्यकार श्री त्रिपुरारिलाल शर्मा थे। विशिष्ट अतिथि वरिष्ठ साहित्यकार श्री हरेराम वाजपेयी, इंदौर एवं संस्था के महासचिव डॉ प्रभु चौधरी ने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम की अध्यक्षता श्री ब्रजकिशोर शर्मा, उज्जैन ने की। 



कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार डॉ शंभू पंवार, झुंझुनू, डॉ भरत शेणकर, राजुर, महाराष्ट्र, डॉ रागिनी स्वर्णकार शर्मा, इंदौर, डॉ. संगीता पाल, कच्छ एवं श्रीमती रेणुका अरोरा, गाजियाबाद को वंदनीया मां गीता देवी चौधरी जयंती सम्मान 2020 से सम्मानित किया गया। उन्हें सम्मान के रूप में शॉल, श्रीफल, प्रशस्ति पत्र और सम्मान राशि अर्पित की गई। 


प्रमुख अतिथि लेखक एवं आलोचक प्रोफेसर शैलेंद्र कुमार शर्मा, उज्जैन ने कहा कि भारतीय संस्कृति, परम्परा और साहित्य में मातृ तत्त्व की अपार महिमा का निरूपण हुआ है। शास्त्र और लोक दोनों ने ही मातृ तत्व को अनेक रूपों में महत्त्व दिया है। माँ ही हमें सर्वप्रथम व्यावहारिक और आध्यात्मिक जीवन से जोड़ती है। मां मात्र देवधारी जीव नहीं है, वह आदिशक्ति और जगत जननी का साक्षात् प्रतिरूप है। माँ ही सृजन, उर्वरता, संवेदना और भावी संभावनाओं का मूल आधार है। विभिन्न दर्शनों और पंथों में परस्पर वैचारिक असमानता के बावजूद मातृ तत्त्व के महत्त्व को स्वीकार किया गया है। मातृ शक्ति के लौकिक और अलौकिक गुणों का गान करने में देव भी स्वयं को असमर्थ पाते हैं। आज स्त्री - पुरुष लैंगिक अनुपात बिगड़ रहा है, ऐसे में हमें स्त्रियों के सम्मान और बेटियों के बचाव के लिए व्यापक जागरूकता लानी होगी।


 


कार्यक्रम के अध्यक्ष श्री ब्रजकिशोर शर्मा ने कहा कि मां एक व्यक्ति नहीं है, सर्वव्यापी तत्व है। संपूर्ण जीव - जगत की सृष्टि बिना मां के संभव नहीं। पुराणों में संकेत मिलता है कि पुत्र कुपुत्र हो सकता है लेकिन माता कभी कुमाता नहीं होती। श्रीकृष्ण सरल ने मां को लेकर सुंदर काव्य पंक्तियां प्रस्तुत की हैं, मां वर्ण केवल एक, जिस पर वर्णमाला ही न्यौछावर। शब्द केवल एक, जिसमें अर्थ का सागर भरा है।


 


साहित्यकार श्री त्रिपुरारिलाल शर्मा, इंदौर ने कहा कि सभ्यता वास्तव में संस्कृति का अंग है। मन और आत्मा की संतुष्टि के लिए ज्ञान, संस्कार और अध्यात्म से रिश्ता आवश्यक है। भारत में मातृ तत्व को लेकर महत्वपूर्ण विचार हुआ है।



डॉ शहाबुद्दीन नियाज मोहम्मद शेख, पुणे ने अपने उद्गार व्यक्त करते हुए कहा कि इस्लाम में नारी को बहुत ऊंचा दर्जा मिला है। इस्लाम में माना गया है कि मां के पैरों के नीचे जन्नत है। पैगंबर हजरत मोहम्मद साहब ने बेटियों के संरक्षण के लिए उन्हें उच्च स्थान दिलाया। हमें अंतर्मन से सोचना होगा कि समाज में स्त्री को सम्मान दिया जाए।


 


संगोष्ठी की प्रस्तावना एवं संस्था की कार्ययोजना महासचिव डॉ प्रभु चौधरी ने प्रस्तुत की। उन्होंने कहा कि मातुश्री गीता देवी चौधरी की स्मृति में वर्ष 2018 से प्रतिवर्ष विभिन्न क्षेत्रों की प्रतिभाओं को सम्मानित किया जाता है। स्वागत भाषण डॉ सुवर्णा जाधव, मुंबई ने दिया। संस्था परिचय श्री राकेश छोकर ने दिया। कार्यक्रम में डॉ भरत शेणेकर, राजूर, महाराष्ट्र, डॉ शंभू पंवार, झुंझुनू, डॉ रागिनी स्वर्णकार शर्मा, इंदौर, डॉ. संगीता पाल, कच्छ ने भी विचार व्यक्त किए।  



संगोष्ठी में डॉ लता जोशी, मुंबई, मुक्ता कौशिक, रायपुर, डॉ रोहिणी डाबरे, अहमदनगर, डॉक्टर प्रवीण बाला, पटियाला, डॉ शिवा लोहारिया, जयपुर, डॉ वी के मिश्रा, रामेश्वर शर्मा, श्री अनिल ओझा, इंदौर, डॉ रश्मि चौबे, श्री राकेश छोकर, डॉ शैल चंद्रा, डॉ ममता झा, श्री सुंदर लाल जोशी, नागदा, राम शर्मा, मनावर, मनीषा सिंह, अनुराधा अच्छावन, समीर सैयद, डॉ श्वेता पंड्या, विजय शर्मा, पंढरीनाथ देवले, मीनाक्षी चौहान आदि सहित देश के विभिन्न भागों के शिक्षाविद्, संस्कृतिकर्मी एवं प्रतिभागी उपस्थित थे।


 


प्रारंभ में सरस्वती वंदना डॉ संगीता पाल ने की।


कार्यक्रम का संचालन रागिनी शर्मा, इंदौर ने किया। आभार प्रदर्शन श्री अनिल ओझा, इंदौर ने किया।


 


Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद