Skip to main content

सुखी जीवन की कुंजी है, वात्सल्यमयी जीवन


सुखी जीवन की कुंजी है : वात्सल्यमयी जीवन


🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏


#प्रवचन #श्रृंखला


#श्री #दिगंबर #जैन #सिद्धक्षेत्र , #बावनगजा ( #चूलगिरी)


जिला - #बड़वानी (#मध्यप्रदेश - #भारत)


#रविवार_09_08_2020


बावनगजाजी प्रवचन


सिद्धक्षेत्र बावनगजाजी मे परम पूज्य मुनिश्री 108 अध्ययन सागरजी महाराज व परम पूज्य 105 आर्यिका विदक्षाश्री माताजी का चातुर्मास हो रहा है। श्रावकाचार ग्रंथ का स्वाध्याय कराते हुये मुनिश्री अध्ययन सागरजी महाराज ने अपने उदबोधन में कहा कि -


पुज्य मुनिश्री ने सम्यग्दृष्टि जीव के वात्सल्य अंग पर व्याख्यान करते हुये कहा की जिस प्रकार गाय अपने बछडे से कोई अपेक्षा नही रखती, और निश्छल प्यार अपने बछडे से करती है, उस पर ममता उडेलती है। उसके हृदय में कोई छल कपट नहीं रह जाता,उसी प्रकार जो जीव साम्यदृष्टि रखने वाला होता है, जो निश्चल व करूणामयी होता है, सब के भले की बात सोचता है वही जीव वात्सल्य अंग का धारी होता है। ऐसे व्यक्ति का निष्ठुरता, कठोरता, से नाता टूट जाता है। जो एक दूसरे के प्रति प्रेम स्नेह के भाव रखता है। वही पर कर्कशता व कडवाहट अपना स्थान छोड देती है। साथ मे रहने वालो के साथ साथ प्राणी मात्र के प्रति सुंदर भावना, रखना उनको आगे बढ़ाने की भावना होना इसी का नाम वात्सल्य है।


जहाँ दिल मे कोई उलझी हुई सोच न हो सभी के प्रति सामंजस्य आदर के भाव ही हमे उन्नत व उँचा उठाते है, समाज मे महत्वपूर्ण स्थान दिलाते है, सर्वत्र प्रशंसा होती हैं, सभी लोग उसको पसंद करते है, उसे अपने पास बैठाते है, यह है हमारे वात्सल्य का प्रभाव। यदि हम जगत मे सभी के चहेते व लाडले बनना चाहते है तो दूसरो की प्रशंसा व उनके गुणो की चर्चा अनुमोदना सभी से करे, मैत्री भाव स्थापित करे, सुख बाटे - सुख देना सीखे, अच्छी सीख को लेना सीखे, वसुधैव कुटुम्कम की भावना को समाहित करे। यदि हम सुई बनकर सभी को जोड़ने का कार्य करेगे, तब तो हमारा सामाजिक स्तर पर हॅसना, मुस्कुराना, गले लगाना, सार्थक होगा। नहीं तो यह छलकपट माना जायेगा।


हमे तलवार बनकर लोगो को तोडने का कार्य नही करना है, अपितु दिलो को जोडने का कार्य करना है, सभी जीवो के प्रति दया, करूणा, अहिंसा, सुख, शांति, मित्रता के भाव रखना है। हमारे द्वारा किसी भी जीव का दिल न दुःखे, हमारे द्वारा कोई जीव सताया न जाये, किसी भी जीव के सम्मान को ठोस न पहुँचे। अपने द्वारा अशांति, युद्ध. कोलाहल, वैमनस्याता, शत्रुता आदि स्थापित न हो, जितना भी बन सके, हम दूसरो के काम आये सभी के दुःखो को दूर करने में सहयोगी बने । ऐसी पवित्र भावना सभी जीवो की होना चाहिये।


प्रबंधक
प्रबंधक श्री दिगम्बर जैन सिद्धक्षेत्र
बावनगजा (घूलगिरी)


https://www.facebook.com/395226780886414/posts/1104509573291461/



Bkk News


Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar







 





Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह