Skip to main content

सुखी जीवन की कुंजी है, वात्सल्यमयी जीवन


सुखी जीवन की कुंजी है : वात्सल्यमयी जीवन


🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏


#प्रवचन #श्रृंखला


#श्री #दिगंबर #जैन #सिद्धक्षेत्र , #बावनगजा ( #चूलगिरी)


जिला - #बड़वानी (#मध्यप्रदेश - #भारत)


#रविवार_09_08_2020


बावनगजाजी प्रवचन


सिद्धक्षेत्र बावनगजाजी मे परम पूज्य मुनिश्री 108 अध्ययन सागरजी महाराज व परम पूज्य 105 आर्यिका विदक्षाश्री माताजी का चातुर्मास हो रहा है। श्रावकाचार ग्रंथ का स्वाध्याय कराते हुये मुनिश्री अध्ययन सागरजी महाराज ने अपने उदबोधन में कहा कि -


पुज्य मुनिश्री ने सम्यग्दृष्टि जीव के वात्सल्य अंग पर व्याख्यान करते हुये कहा की जिस प्रकार गाय अपने बछडे से कोई अपेक्षा नही रखती, और निश्छल प्यार अपने बछडे से करती है, उस पर ममता उडेलती है। उसके हृदय में कोई छल कपट नहीं रह जाता,उसी प्रकार जो जीव साम्यदृष्टि रखने वाला होता है, जो निश्चल व करूणामयी होता है, सब के भले की बात सोचता है वही जीव वात्सल्य अंग का धारी होता है। ऐसे व्यक्ति का निष्ठुरता, कठोरता, से नाता टूट जाता है। जो एक दूसरे के प्रति प्रेम स्नेह के भाव रखता है। वही पर कर्कशता व कडवाहट अपना स्थान छोड देती है। साथ मे रहने वालो के साथ साथ प्राणी मात्र के प्रति सुंदर भावना, रखना उनको आगे बढ़ाने की भावना होना इसी का नाम वात्सल्य है।


जहाँ दिल मे कोई उलझी हुई सोच न हो सभी के प्रति सामंजस्य आदर के भाव ही हमे उन्नत व उँचा उठाते है, समाज मे महत्वपूर्ण स्थान दिलाते है, सर्वत्र प्रशंसा होती हैं, सभी लोग उसको पसंद करते है, उसे अपने पास बैठाते है, यह है हमारे वात्सल्य का प्रभाव। यदि हम जगत मे सभी के चहेते व लाडले बनना चाहते है तो दूसरो की प्रशंसा व उनके गुणो की चर्चा अनुमोदना सभी से करे, मैत्री भाव स्थापित करे, सुख बाटे - सुख देना सीखे, अच्छी सीख को लेना सीखे, वसुधैव कुटुम्कम की भावना को समाहित करे। यदि हम सुई बनकर सभी को जोड़ने का कार्य करेगे, तब तो हमारा सामाजिक स्तर पर हॅसना, मुस्कुराना, गले लगाना, सार्थक होगा। नहीं तो यह छलकपट माना जायेगा।


हमे तलवार बनकर लोगो को तोडने का कार्य नही करना है, अपितु दिलो को जोडने का कार्य करना है, सभी जीवो के प्रति दया, करूणा, अहिंसा, सुख, शांति, मित्रता के भाव रखना है। हमारे द्वारा किसी भी जीव का दिल न दुःखे, हमारे द्वारा कोई जीव सताया न जाये, किसी भी जीव के सम्मान को ठोस न पहुँचे। अपने द्वारा अशांति, युद्ध. कोलाहल, वैमनस्याता, शत्रुता आदि स्थापित न हो, जितना भी बन सके, हम दूसरो के काम आये सभी के दुःखो को दूर करने में सहयोगी बने । ऐसी पवित्र भावना सभी जीवो की होना चाहिये।


प्रबंधक
प्रबंधक श्री दिगम्बर जैन सिद्धक्षेत्र
बावनगजा (घूलगिरी)


https://www.facebook.com/395226780886414/posts/1104509573291461/



Bkk News


Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar







 





Comments

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा सितंबर में आयोजित परीक्षाओं के लिए उत्तर पुस्तिका संग्रहण केंद्रों की सूची जारी

उज्जैन। स्नातक एवं स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष या अंतिम सेमेस्टर की ओपन बुक पद्धति से होने वाली परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं के संग्रहण केंद्रों की सूची विक्रम विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर अपलोड कर दी गई है। संपूर्ण परिक्षेत्र के 7 जिलों में कुल 395 संग्रहण केंद्र बनाए गए हैं। कुलानुशासक, डॉ. शैलेंद्र कुमार शर्मा जी ने जानकारी देते हुए बताया कि, विद्यार्थीगण विश्वविद्यालय की वेबसाइट से संग्रहण केंद्रों की सूची देख सकते हैं। http://vikramuniv.ac.in/examination-notification/ सूची संलग्न दी जा रही है।