Featured Post

देश-दुनिया में शायरी के क्षेत्र में इंदौर-मध्यप्रदेश का परचम लहराने वाले, ज़िंदादिल शख्सियत राहत इंदौरी आज हमें छोड़ कर चले गए ।


"मैं जब मर जाऊं तो मेरी अलग पहचान लिख देना, 


लहू से मेरी पैशानी पे हिन्दुस्तान लिख देना"


 - राहत इंदौरी 


❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️


देश-दुनिया में शायरी के क्षेत्र में इंदौर-मध्यप्रदेश का परचम लहराने वाले, ज़िंदादिल शख्सियत "राहत इंदौरी" आज हमें छोड़ कर चले गए । "राहत इंदौरी" एक ऐसा व्यक्ति, जिसने जीवन भर कलंदर जैसा जीवन जिया... आज हम सबको अलविदा कर के चला गया! आप हमेशा हमारे बीच रहेंगे #राहत_साहब।


 भावपूर्ण श्रद्धांजलि!


❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️


सितारें नोच कर ले जाऊँगा,


मैं खाली हाथ घर जाने का नइ,


वबा फैली हुई है हर तरफ,


अभी माहौल मर जाने का नइ,


वो गर्दन नापता है नाप ले,


मगर जालिम से डर जाने का नइ ।


– राहत इन्दौरी


#RahatIndori


Comments