Skip to main content

सीएम हेल्पलाइन प्रकरणों के निराकरण में उज्जैन में अच्छा कार्य हुआ–कलेक्टर श्री सिंह, कलेक्टर की अध्यक्षता में राजस्व अधिकारियों की बैठक संपन्न


उज्जैन 24 जुलाई। कलेक्टर श्री आशीष सिंह की अध्यक्षता में शुक्रवार को सिंहस्थ मेला कार्यालय के सभाकक्ष में राजस्व अधिकारियों की बैठक आयोजित की गई । बैठक में कलेक्टर ने कहा कि सीएम हेल्पलाइन प्रकरणों के निराकरण में उज्जैन में अच्छा काम हुआ है । वर्तमान में प्रदेश के बड़े जिलों में उज्जैन सीएम हेल्पलाइन प्रकरणों के निराकरण में तीसरे नंबर पर है । कलेक्टर ने कहा कि हम सभी को प्रयास करना है कि अगली बार उज्जैन पहले स्थान पर आए । कलेक्टर ने कहा कि सीएम हेल्पलाइन प्रकरणों के जितने निराकरण संतुष्टि के साथ होंगे उतने ही जिले की रैंक में सुधार आएगा ।


कलेक्टर ने निर्देश दिए कि सीएम हेल्पलाइन में जिस दिन शिकायत दर्ज की जाए उसी दिन राजस्व अधिकारी शिकायतकर्ता से बातचीत करें । शिकायतकर्ता की संतुष्टि हम सबके लिए सबसे ज्यादा जरूरी होना चाहिए । शिकायतकर्ता से L1 स्तर के अधिकारी अनिवार्य रूप से बात करें । प्रकरणों के निराकरण सकारात्मक होने चाहिए । कलेक्टर ने कहा कि हम सभी यहां लोगों की शिकायतों के निराकरण के लिए ही काम कर रहे हैं । प्रकरणों का निराकरण यदि तत्काल हो सकता है तो तुरंत उन्हें निराकृत करें । शिकायतों का निराकरण राजस्व अधिकारी अपने स्तर पर ही अधिक से अधिक करें ।


कलेक्टर ने कहा कि उनके पास सीएम हेल्पलाइन प्रकरणों की शिकायतें कम से कम आनी चाहिए, यदि ज्यादा शिकायतें आई तो यह समझा जायेगा कि निचले स्तर पर कार्य सही ढंग से नहीं हुआ है । सीएम हेल्पलाइन में मुआवजा वितरण और अन्य राशि से संबंधित शिकायतें बिल्कुल नहीं आनी चाहिए । इस बात का विशेष ध्यान सभी अधिकारी रखें ।इसके अलावा 100 दिनों से अधिक लंबित शिकायतें शीघ्र अति शीघ्र निराकृत की जाएं ।


बैठक में जानकारी दी गई कि उज्जैन जिले में राजस्व से संबंधित 408 शिकायतें वर्तमान में 100 दिनों से अधिक लंबित हैं । कलेक्टर ने तत्काल इनका निराकरण करने के निर्देश दिए । कलेक्टर ने कहा कि निराकरण की निम्न गुणवत्ता से बंद शिकायतों की संख्या में कमी आना बहुत जरूरी है । नॉन अटेंडेड शिकायतें जो समय पर दर्ज नहीं हुई तथा अगले स्तर पर चली गई उनका निराकरण शीघ्र अति शीघ्र किया जाए । ऐसी एक भी शिकायत लंबित नहीं होनी चाहिए ।


उज्जैन ग्रामीण क्षेत्र में 100 दिनों से अधिक लंबित शिकायतों में अतिक्रमण और पट्टे संबंधित शिकायतें पाए जाने पर कलेक्टर ने इनका तत्काल निराकरण करने के निर्देश दिए । कलेक्टर ने बैठक में अधिकारियों से कहा कि सीएम हेल्पलाइन की ऐसी शिकायतें जिन्हें फोर्स क्लोस किया जाना है, ऐसी हर एक शिकायत की अलग नोटशीट बनेगी जो अधिकारियों को कलेक्टर के समक्ष प्रस्तुत करना होगी। कलेक्टर की बिना अनुमति के कोई भी शिकायत फोर्स क्लोज नहीं होगी।



कलेक्टर ने कहा कि किसी भी प्रकरण में यदि निराकरण की कोई भी गुंजाइश ना हो तो ही उसे फोर्स क्लोज किया जाए । उज्जैन की घटिया तहसील में 38, झारडा में 21, तराना में 48 , नागदा में 37 व माकड़ोन में 44 शिकायतें 100 दिनों से अधिक लंबित थीं । कलेक्टर ने इनका तत्काल निराकरण करने के निर्देश दिए । आरसीएमएस प्रकरणों की समीक्षा के दौरान कलेक्टर ने कहा कि 1 साल से अधिक लंबित प्रकरण बिल्कुल बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे । इनका तत्काल निराकरण किया जाए । समयावधि प्रकरणों की समीक्षा के दौरान कलेक्टर ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों के एसडीएम की बैठक इस संबंध में महीने में दो बार आयोजित की जाएगी।


कलेक्टर ने कहा कि उनके कार्यकाल से पहले के प्रकरण यदि टीएल में लंबित हैं तो उनका शीघ्र अति शीघ्र निराकरण किया जाए । व्यवहार न्यायालय के प्रकरणों में अधिकारियों द्वारा तुरंत जवाब प्रेषित किए जाएं । कोर्ट संबंधित मामलों में यदि कोई समस्या आती है तो तत्काल उन्हें अवगत कराया जाए ।


बैठक में अपर कलेक्टर न्यायालय में भूमि आवंटन के बहुत सारे प्रकरण लंबित होने पर कलेक्टर ने नाराजगी व्यक्त की और इनका निराकरण शीघ्र अति शीघ्र करने के लिए कहा। जिला भू -अर्जन शाखा के प्रकरणों की समीक्षा के दौरान कलेक्टर ने कहा कि जिले में जहां कहीं भी एन.एच. वाले प्रकरण हों उनका जल्द निराकरण किया जाए । किसानों की राहत राशि वितरण में किसी भी प्रकार की लापरवाही ना बरतें । कलेक्टर ने बैठक में अधिकारियों से कहा कि भू माफिया, मिलावट खोरी, सूदखोरी, चिटफंड और अवैध कॉलोनी काटने वाले लोगों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए । ऐसे लोगों को चिन्हांकित कर शीघ्र अति शीघ्र कड़ी कार्रवाई की जाए । प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के अंतर्गत पात्र हितग्राहियों का शत-प्रतिशत सत्यापन पटवारी द्वारा कराए जाने के निर्देश बैठक में दिए गए। साथ ही पात्र परिवारों के एक्सएमएल जनरेट किए जाने के लिए भी कहा गया।


तहसीलवार कोटवारों के रिक्त पदों की पूर्ति शीघ्रता से करने के लिए कहा गया । बैठक में कलेक्टर ने बीपीएल राशन कार्ड धारियों की अद्यतन स्थिति की समीक्षा करते हुए कहा कि पात्र हितग्राहियों की आधार सीडिंग का कार्य उचित तरीके से किया जाए। इस कार्य को प्राथमिकता से करते हुए आगामी 15 अगस्त तक पूर्ण किया जाए।


जिले में कोविड-19 से बचाव की समीक्षा के दौरान कलेक्टर ने सभी राजस्व अधिकारियों को निर्देश दिए कि ग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना वायरस से बचाव हेतु विशेष सावधानी बरती जाए। गांव में सर्दी-खाँसी के प्रकरण पाए जाने पर तुरंत संबंधित के सैंपल लिए जाएं। कलेक्टर ने कहा कि कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए अर्ली आईडेंटिफिकेशन बहुत जरूरी है, इसके अलावा जिन लोगों के भी सैंपल लिए जा रहे हैं यदि उनमें कोरोना से संबंधित लक्षण हों तो जब तक उनकी रिपोर्ट नहीं आ जाती तब तक उन्हें घर ना भेजा जाए । उन्हें आइसोलेशन वार्ड में ठहराने का इंतजाम किया जाए । कलेक्टर ने कहा कि व्यक्ति को आइसोलेशन में रखने से ही कोरोना संक्रमण को नियंत्रण में रखा जा सकता है।


इसके अलावा कलेक्टर ने बैठक में सिटी मजिस्ट्रेट शाखा, विभागीय जांच प्रकरण, स्थापना शाखा , अनुकंपा नियुक्ति , नकल वितरण , खसरा, फसल गिरदावरी, प्रधानमंत्री फसल बीमा आदि की समीक्षा की। बैठक में एडीएम श्रीमती विदिशा मुखर्जी, अपर कलेक्टर श्री अवि प्रसाद, समस्त एसडीएम, तहसीलदार, नायब तहसीलदार, एसएलआर तथा अन्य राजस्व अधिकारी और कर्मचारी उपस्थित थे।


Bkk News


Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar


Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर हुआ है। राकेश मुख्यतः आधुन

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग