Skip to main content

निगम अध्यक्ष श्री सोनू गेहलोत की अध्यक्षता में  निगम परिषद ने पारित किया नगर निगम का बजट


उज्जैन: निगम अध्यक्ष श्री सोनू गेहलोत की अध्यक्षता में निगम सम्मिलन आयोजित हुआ जिसमें नगर निगम के वित्तीय वर्ष 2020-21 के बजट के साथ ही अन्य प्रस्तावों पर विचार विमर्श किया गया।


सम्मिलन में महापौर श्रीमती मीना विजय जोनवाल द्वारा वर्ष 2020-21 की कुल आय (नगर निगम एवं पीएचई सहित) 112641.18 लाख रूपये एवं कुल व्यय 112602.42 लाख रूपये सहित 38.76 लाख रूपये की बचत का प्रस्ताव प्रस्तुत किया गया। जिसमें नगर निगम में कुल आय 108075.28 लाख रूपये एवं कुल व्यय 108049.17 लाख रूपये सहित रूपये 26.11 लाख रूपये की बचत तथा पीएचई हेतु प्रस्तावित कुल आय राशि 4565.90 लाख रूपये एवं कुल व्यय 4553.25 लाख रूपये सहित 12.65 लाख रूपये की बचत का प्रस्ताव रखा गया।  जिसे सदन में विचार विमर्श उपरांत पुरक प्रस्तावों को सम्मिलित करते हुए स्वीकृति प्रदान की गई।



अपने बजट भाषण में महापौर श्रीमती मीना विजय जोनवाल ने कहा कि मैं अपने कार्यकाल का पांचवा बजट प्रस्तुत कर रही हूं। पांच वर्ष के कार्यकाल में इस बोर्ड ने अनेक उपलब्धियाॅ अर्जित करने का गौरव प्राप्त किया है। मुझे विश्वास है कि यह बजट नगर विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। आपने कहा कि मुझे बताते हुये अत्यंत ही गर्व और गौरव का अनुभव हो रहा है कि इस बोर्ड से अपने पांच वर्ष के कार्यकाल में सभी के सहयोग से न केवल अनेक स्वर्णिम उपलब्धियाॅं अर्जित की है बल्कि अनेक एतिहासिक कीर्तिमान स्थापित करने का गौरव प्राप्त किया है। इस बोर्ड के प्रारंभ में ही हमें विश्व के सबसे बडे धार्मिक समागम ‘‘सिंहस्थ महापर्व - 2016‘‘ की मेजबानी करने का सौभाग्य मिला था जिसमें पांच करोड़ से भी अधिक संत-महात्माओं एवं श्रृद्धालुओं के लिये सड़क-सफाई, पेयजल और प्रकाश आदि मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाने की जिम्मेदारी मिली थी, जिसका हम सभी ने मिलकर पूरी श्रद्धा और सेवा भावना से निवृहन किया जिसकी पूरे विश्व में प्रशंसा हुई थी इतने बडे़ समागम के बावजूद हमारी बेहतर व्यवस्थाओं के कारण किसी भी प्रकार की जन-धन की हानि नहीं  होना मैं इस बोर्ड को सबसे बड़ी उपलब्धि मानते हुए इसका पूरा श्रेय नगर निगम परिवार को देती हूॅ।


आपने कहा कि कार्यकाल के समापन वर्ष में हमें ‘‘कोविड-19‘‘ में विश्वव्यापी कोरोना महामारी की चुनौति भी मिली। इस संकटकाल में शासन और प्रशासन द्वारा हमें जो भी जिम्मेदारी दी गई उसका हमारी टीम ने पूरी ईमानदारी और लगन के साथ निर्वहन किया है और कर रही है। कोरोना महामारी के शुरुआती दौर में तेजी से बढ़ती हुई मृत्यु दर पर ब्रेक लगाने में हमारे प्रयास काफी सहायक सिद्ध हुए है इसके लिए में नगर निगम की पूरी टीम को धन्यवाद् देती हूंॅ। परंतु मैं अत्यंत दुखः के साथ व्यक्त कर रही हूॅ कि इस महामारी में हमारे बोर्ड के वार्ड क्रमांक 32 के पार्षद श्री मुजफर हुसैनजीके असमय इंतकाल होने से वे आज हमारे बीच मौजूद नही है जिसकी कमी आज सदन में भी मेहसूस हो रही है। मैं उन्हें श्रृद्वासुमन अर्पित करती हूँ।



नेता प्रतिपक्ष श्री राजेन्द्र वशिष्ठ, नेतापक्ष श्रीमती राजश्री जोशी सहित विभिन्न पार्षदों ने बजट पर अपने विचार रखे।
निगम अध्यक्ष श्री सोनू गेहलोत ने पक्ष प्रतिपक्ष के विचार सूनने के पश्चात बजट को पारित किया।


अध्यक्ष श्री सोनू गेहलोत द्वारा सम्मेलन के दौरान नगर निगम सीमा क्षैत्र के अविकसित वार्डो में विकास हेतु 50 लाख रूपये प्रतिवार्ड की स्वीकृति प्रदान की गई। निगम अध्यक्ष श्री गेहलोत द्वारा निर्देशित किया कि जिन अधिकारियों के पास जो दायित्व है, उनसे सम्बंधित कार्यो के लिये पार्षदगण द्वारा उनसे सम्पर्क किये जाने पर अधिकारियों को पूर्णतः सकारात्मकता के साथ कार्यवाही की जाना चाहिए। निगम के बजट में जो प्रावधान किये गए हैं अनुसार क्रियान्वयन सुनिश्चित किये जाने के लिये अधिकारियों को त्वरित कार्यवाही आरंभ की जाना चाहिए।

सदन में विचार विमर्श उपरांत निम्नानुसार प्रस्तावों पर भी स्वीकृति प्रदान की गई -



  • कोरोना महामारी से बचाव हेतु किये जा रहे उपायों कार्यो में होने वाले व्यय को नवीन बजट मद वर्ष 2020-21 प्रस्ताव में सम्मिलित किये जाने की स्वीकृति।

  • जलकर राजस्व में माह मार्च, अप्रैल, मई 2020 में अधिभार की राशि न लिये जाने के संबंध में पुष्ठि की गई।

  • भवन भाड़ा वसूली अंतर्गत वसूल किये जाने वाले ब्याज में छूट दिये जाने के संबंध में स्वीकृति।

  • वाहन पार्किंग ठेके हेतु प्राप्त प्रस्थापनाओं की सक्षम स्वीकृति।

  • संजीवनी क्लिनिक के क्रियान्वयन हेतु भवन उपलब्ध कराने के संबंध में स्वीकृति।

  • छत्रीचैक सिंधी क्लाथ मार्केट की भूमि/दुकान क्रमांक 6, 29, 41, 49, 16, 34, 35, 37, 46, 60, 65, 29, 30, 43, 45, 39, ओपन सिंधी क्लाथ मार्केट की भूमि/दुकान क्रमांक 1, 2, 3, 4, 6, 7, 8, 12, 14, 16, 18, 19, 22, 23, 24, 26, 35, 40, 41, 44, 45, 46, 47, 49, 50, 51, 52, 53, 54, 55, 56, लीज अवधि वृद्धि की स्वीकृति।

  • चकोर पार्क में प्रवेश शुल्क 12 रूपये के स्थान पर मय जीएसटी 15 रूपये दर संशोधित किये जाने के संबंध में स्वीकृति।

  • नागझिरी एवं नीमनवासा देवासरोड़ उज्जैन पर स्थित पाश्र्वनाथ सिटी काॅलोनी में विद्युत सब स्टेशन स्थापित करने संबंधि प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान करते हुए निर्देशित किया गया कि नागरिको की सुविधाओं को दृष्टिगत रखते हुए विधिक राय ली जाकर काॅलोनी में कार्य कराए।

  • अशोक नगर शाॅपिंग काम्पलेक्स की दुकान क्रमांक 02, को लीज आवंटित की स्वीकृति।

  • दीपावली पर्व वर्ष 2020 में धानी, पताशे विक्रय, पशु श्रृगार विक्रय, लक्ष्मी प्रतिमा विक्रय एवं गरम वस्त्र विक्रेता को अस्थाई दुकानों हेतु भूमि आवंटित करने की स्वीकृति।

  • दीपावली पर्व वर्ष 2020 में आतिशाबाजी विक्रेताओं को अस्थाई दुकानोें हेतु भुमि आवंटित करने की स्वीकृति।

  • वार्ड क्रमांक 10 उर्दूपुरा खिडक के स्थान पर स्कूल निर्माण करने सम्बंधी प्रस्ताव को पुरक प्रस्ताव सहित स्वीकृति।

  • वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिये कोरोना आपदा के समय शासकीय/अर्द्धशासकीय/निजी कार्यालय/आवासीय परिसर/भवन/धार्मिक स्थलों/धर्मशालाओं/मैरीज गार्डन इत्यादि स्थलों में सशुल्क सेनेटाइजेशन की स्वीकृति।

  • कार्तिक मेला वाहन पार्किंग शुल्क वसूली को ठेका 2020 से आगामी वर्ष 2022 (3 वर्ष) तक दिये जोने के संबंध मे कार्तिक मेला अवधि की स्वीकृति।

  • झोन क्रमांक 05 कालिदास मार्ग मक्सीरोड पुराने वर्कशाॅप की जमीन पर कमर्शियल शाॅपिंग काम्पलेक्स निर्माण की स्वीकृति।

  • मा. मुख्यमंत्री शहरी अधोसंरचना विकास योजना (तृतीय चरण) अंतर्गत कार्य की योजना तैयार करने की स्वीकृति।

  • उपकेश्वर चैराह (लोहे का पुल) पर पुराने शाॅपिंग काम्पलेक्स को तोडकर नये शाॅपिंग काम्पलेक्स के निर्माण की स्वीकृति।

  • बड़ा गणेश मंदिर के पास रिक्त कराई गई भूमि सर्वे क्रमांक 2104 पर जी 2 भवन में होटल एवं लाॅजिंग का निर्माण की स्वीकृति।

  • दौलतगंज सब्जी मण्डी पर ग्राउंड फ्लोर सब्जी मंडी तलघर मे दो पहिया वाहनों के लिये पार्किंग, प्रथम तल एवं द्वितीय तल पर कमर्शियल काम्पलेक्स का निर्माण कार्य की स्वीकृति।

  • झोन क्रमांक 01 अंतर्गत सोमकुंड के सामने व कालिदास उद्यान के पीछे निगम स्वामित्व की खुली भूमि पर ब्रीक मेसनरी से बाउण्ड्रीवाल व अन्य निर्माण कार्य को पुरक प्रस्ताव सहित स्वीकृति।

  • फ्रीगंज क्षेत्र में गुरूनानक शाॅपिंग के पास निगम स्वामित्व की भूमि पर शाॅपिंग काम्पलेक्स निर्माण की स्वीकृति।

  • शहर में स्थापित विभिन्न उद्यानों का रख रखाव एव ंउनमें स्थापित पेड पौधे, खेल उपकरण, पानी की मोटर इत्यादि की सुरक्षा करने हेतु इच्छुक विभिन्न स्थानिय समिति को अधिकृत किये जाने की स्वीकृति।

  • वाहन पार्किंग शुल्क वसूली का ठेका 2020 से आगामी वर्ष 2022 (03 वर्ष) तक के लिये दिये जाने की सम्बंधी प्रस्ताव को पुरक प्रस्ताव सहित स्वीकृति।

  • निगम स्वामित्व का शहीद राजाभाउ महाकाल बस स्टेण्ड देवासगेट एवं पं. दीनदयाल उपाध्याय बस स्टेण्ड नानाखेड़ा पर आने/जाने वाली बसों से वाहन पार्किंग शुल्क वसूली का ठेका 5 वर्ष हेतु दिये जाने के संबंध में स्वीकृत।

  • निगम स्वामित्व के विभिन्न पार्किंग स्थलों के ठेकेदारों द्वारा प्रसतुत आवेदन पत्रों के क्रम मं वाहन पार्किंग ठेके की अवधि वृद्धि किये जाने के संबंध में स्वीकृति।

  • झोन क्रमांक 05 स्थित पुराने वर्कशाॅप के टीनशेड व कमरे तोडने की स्वीकृति।

  • झोन क्रमांक 02 अंतर्गत छत्रीचैक स्थित सिविल डिस्पेंसरी को एवं आवासीय क्वार्टर को तोडने की स्वीकृति।

  • दूध तलाई/इंदौरगेट स्थित पटवारी प्रशिक्षण शाला एवं रेनबसेरा के स्थान पर कमर्शियल काम्पलेक्स निर्माण की स्वीकृति।

  • हरिफाटक ब्रिज के नीचे की खुली भूमि (डाॅ. हरिराम चैबे मार्ग की तरफ) खडे होने वाले वाहनो से वाहन पार्किंग शुल्क वसूली की स्वीकृति।

  • शहर में विभिन्न स्थानों पर बीओटी आधार पर स्मार्ट यूरिनल स्थापित करने की स्वीकृति।

  • दौलतगंज सब्जी मण्डी में वर्तमान मे पूर्व से निर्मित ओटले तोडने एवं गुमटियां हटाने के संबंध में स्वीकृति।

  • नगर निगम स्वामित्व के चकोर पार्क को प्रतिष्ठित व्यक्ति/कंपनी/फर्म/संस्था के माध्यम से 3 वर्ष अवधि के लिये प्रबंधन एवं संचालन किये जाने हेतु निविदा प्रपत्र एवं शर्तों को स्वीकृत किये जाने सम्बंधित प्रस्ताव को पुरक प्रस्ताव सहित स्वीकृति।

  • छत्रीचैक उच्च स्तरीय टंकियों व अन्य को डिस्मेंटल करने के संबंध में पूर्व में निर्मित एमएस एवं आरसीसी उच्च स्तरीय टंकियों को डिस्मेंटल करने की स्वीकृति।

  • नगर निगम में प्रचलित परियोजनाओं को पूर्ण किये जाने हेतु ऋण लिये जाने की स्वीकृति।

  • तरणताल (स्वीमिंग पुल) का पुर्ननिर्माण कार्य करवाने की स्वीकृति।

  • वार्ड क्रमांक 16 में नवनिर्मित मत्स्य बाजार भवन में निर्मित दुकान/गोदाम को 30 वर्ष के लिये लीज पर आवंटित करने या पूर्व के व्यवसायियों को विस्थापित किये जाने की स्वीकृति।

  • सदावल सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट अंतर्गत मछली पालन हेतु तालाब आवंटन करने की स्वीकृति।

  • मक्सी रोड़ जीरो पाइंट के पास निर्मित निगम स्वामित्व की न्यू सब्जी मार्केट के निर्मित ओटलों जिनको वर्ष 1998 में पुरानी सब्जी मार्केट फ्रीगंज में व्यवसायरत व्यवसायियों को हटाकर विस्थपित किया गया था उन्हें किरायेदार घोषित किया जाकर मासिक/वार्षिक किराया निर्धारित अनुबंध पत्र संपादित करने की स्वीकृति।

  • मंगलनाथ मंदिर रोड स्थित आयुर्वेदिक काॅलेज में संचालित निर्माल्य प्रोसेसिंग यूनिट/प्लांट संचालन की स्वीकृति।

  • बहादुरगंज खाद ठिया स्थित दौलतगंज मण्डी हेतु निर्मित दुकानों/गोडाउन को तोडने की अनुमति को स्वीकृति।




कचरा सेग्रिगेशन कर नही देने पर निगम ने किया जुर्माना


उज्जैन: गुरूवार को नगर निगम द्वारा कचरा सेग्रिगेशन कर ना देने वालों पर कार्रवाई की गई जिसमें वार्ड क्रमांक 37 माधव क्लब रोड पर गीला सूखा कचरा पृथक ना देने पर 250 रुपए, वार्ड क्रमांक 48 विद्यापति नगर में 1400 रुपए इस प्रकार कुल राशि रूपये 1650/- की चालानी कार्य की गई। चालानी कार्यवाही के साथ ही नागरिको को गीला सुखा करचरा अलग-अलग कर कचरा वाहन में डालने की समझाईश भी दी गई।


Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह