Skip to main content

मध्यप्रदेश राज्य शासन द्वारा मंत्री परिषद के सदस्यों को मंत्रालय वल्लभ-भवन में विभागों के अनुसार कक्ष आवंटित किए गए ।

 राज्य शासन द्वारा मंत्रि-परिषद के सदस्यों को मंत्रालय, वल्लभ भवन में विभागों के अनुसार कक्ष आवंटित कर दिये गये हैं।



   श्री गोपाल भार्गव, मंत्री लोक निर्माण, कुटीर एवं ग्रामोद्योग को E-116 VB-III, श्री विजय शाह, मंत्री वन विभाग को B-115 VB-II, श्री जगदीश देवड़ा, मंत्री वाणिज्यिक कर, वित्त, योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग को B-206 VB-II, श्री बिसाहूलाल सिंह, मंत्री खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण को B-116 VB-II, श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया, मंत्री खेल एवं युवक कल्याण, तकनीकी शिक्षा, कौशल विकास एवं रोजगार को E-205 VB-III, श्री भूपेन्द्र सिंह, मंत्री नगरीय विकास एवं आवास को B-419 VB-II, श्री एदल सिंह कंषाना, मंत्री लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी को E-115 VB-III, श्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह, मंत्री खनिज साधन, श्रम को B-105 VB-II, श्री विश्वास सारंग, मंत्री चिकित्सा शिक्षा, भोपाल गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास को E-310 VB-III, श्रीमती इमरती देवी, मंत्री महिला एवं बाल विकास को D-504 VB-III, डॉ. प्रभुराम चौधरी, मंत्री लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण को E-311 VB-III, डॉ. महेन्द्र सिंह सिसौदिया, मंत्री पंचायत एवं ग्रामीण विकास को D-507 VB-III, श्री प्रद्युम्न सिंह तोमर, मंत्री ऊर्जा को B-217 VB-II, श्री प्रेम सिंह पटेल, मंत्री पशुपालन, सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण को E-106 VB-III, श्री ओमप्रकाश सकलेचा, मंत्री सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम, विज्ञान और प्रौद्योगिकी को E-217 VB-III, सुश्री उषा ठाकुर, मंत्री पर्यटन, संस्कृति, अध्यात्म को E-318 VB-III, श्री अरविंद भदौरिया, मंत्री सहकारिता, लोक सेवा प्रबंधन को B-106 VB-II, डॉ. मोहन यादव, मंत्री उच्च शिक्षा को E-216 VB-III, श्री हरदीप सिंह डंग, मंत्री नवीन एवं नवकरणीय ऊर्जा, पर्यावरण को B-216 VB-II और श्री राजवर्धन सिंह प्रेम सिंह दत्तीगाँव, मंत्री औद्योगिक नीति एवं निवेश प्रोत्साहन को E-319 VB-III कक्ष आवंटित किया गया है।


   इसी तरह श्री भारत सिंह कुशवाह, राज्य मंत्री उद्यानिकी एवं खाद्य प्र-संस्करण (स्वतंत्र प्रभार) नर्मदा घाटी विकास को 517 VB-I, श्री इंदर सिंह परमार, राज्य मंत्री स्कूल शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार), सामान्य प्रशासन को B-427 VB-II, श्री रामखेलावन पटेल, राज्य मंत्री पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण (स्वतंत्र प्रभार), विमुक्त, घुमक्कड़ एवं अर्द्धघुमक्कड़ जनजाति कल्याण (स्वतंत्र प्रभार), पंचायत एवं ग्रामीण विकास को 546 VB-I, श्री रामकिशोर (नानो) कांवरे, राज्य मंत्री आयुष (स्वतंत्र प्रभार), जल संसाधन को 545 VB-I, श्री बृजेन्द्र सिंह यादव, राज्य मंत्री लोक स्वास्थ्य एवं यांत्रिकी को 544 VB-I, श्री गिर्राज दण्डोतिया, राज्य मंत्री किसान कल्याण तथा कृषि विकास को 540 VB-I, श्री सुरेश धाकड़, राज्य मंत्री लोक निर्माण विभाग को 542 VB-I और श्री ओ.पी.एस. भदौरिया, राज्य मंत्री नगरीय विकास एवं आवास को 541 VB-I कक्ष आवंटित किया गया है।




Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर हुआ है। राकेश मुख्यतः आधुन

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग