Skip to main content

कोरोना महामारी में अनावश्यक रूप से बाहर न जायें, सजगता रखना जरूरी, मुख्यमंत्री श्री चौहान ने आज पीएम स्ट्रीट वेण्डर आत्मनिर्भर स्वनिधि योजना के तहत हितग्राहियों को प्रमाण-पत्र एवं बैंक स्टेटमेंट वितरित किये


उज्जैन 17 जुलाई। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज उज्जैन प्रवास के दौरान श्री महाकालेश्वर भगवान के दर्शन करने के बाद बृहस्पति भवन में पीएम स्ट्रीट वेण्डर आत्मनिर्भर स्वनिधि योजना के अन्तर्गत सांकेतिक रूप से चार हितग्राहियों को प्रमाण-पत्र, आईडी एवं बैंक स्टेटमेंट वितरित किये। मुख्यमंत्री ने राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अन्तर्गत वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ने में गरीब परिवारों की स्वयं सहायता समूहों की महिलाओं द्वारा मास्क एवं पीपीई किट निर्माण करने पर प्रतीकस्वरूप स्वीकृत राशि के चेक वितरण भी किया।


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने इस अवसर पर कहा कि कोरोना के संकट से पूरी दुनिया जूझ रही है। उन्होंने कहा कि इस दौरान अनावश्यक रूप से कोई भी व्यक्ति बाहर न जाये। सजगता रखना जरूरी है। अनावश्यक भीड़ न हो। इस अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.मोहन यादव, सांसद श्री अनिल फिरोजिया, पूर्व मंत्री एवं वर्तमान विधायक श्री पारस जैन, महापौर श्रीमती मीना जोनवाल, विधायक श्री बहादुरसिंह चौहान, जिला ग्रामीण भाजपा अध्यक्ष श्री बहादुरसिंह बोरमुंडला, भाजपा नगर अध्यक्ष श्री विवेक जोशी, संभागायुक्त श्री आनन्द कुमार शर्मा, आईजी श्री राकेश गुप्ता, डीआईजी श्री मनीष कपूरिया, कलेक्टर श्री आशीष सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री मनोज कुमार सिंह मौजूद थे। कार्यक्रम का संचालन उपायुक्त श्री भविष्य खोबरागड़े ने किया।



मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना योद्धाओं के समर्पण भाव से काम करने के कारण उज्जैन में बहुत हद तक स्थिति ठीक है। उन्होंने कोरोना संकट रोकने के लिये उज्जैनवासियों को धन्यवाद दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्य प्रदेश में कोरोना महामारी की स्थिति कंट्रोल की है। अन्य राज्यों से तुलनात्मक दृष्टि में मध्य प्रदेश की स्थिति भगवान महाकाल की कृपा से बेहतर है, परन्तु हमें फिर भी सजग रहना बहुत जरूरी है। कोरोना महामारी अभी समाप्त नहीं हुई है। प्रदेश में अभियान चलाकर घर-घर जाकर सर्वे का कार्य टीमों के द्वारा किया जा रहा है। अनलॉक के दौरान हमसे थोड़ी-बहुत लापरवाही जरूर हुई है, परन्तु समय पर स्थिति पर काबू पाया गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति मास्क लगायें। कोरोना महामारी में प्रदेश में कहीं-कहीं केस बढ़ रहे हैं, इसलिये प्रत्येक जिले की स्थिति अनुसार नियम बना रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि आने वाले त्यौहारों के सीजन में सार्वजनिक त्यौहार न मनायें। गणपति की प्रतिमा बाहर न लगायें। उन्होंने कहा कि व्यक्ति गणपति की छोटी प्रतिमा अपने घर में बैठाकर पूजन-अर्चन कर सकते हैं। अनुशासन में रहकर कोरोना महामारी के नियमों का पालन अनिवार्य रूप से किया जाये। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने अपील की है कि अनावश्यक रूप से कोई व्यक्ति बाहर न निकले, दूरी बनाकर रखे, अनिवार्य रूप से मास्क पहनें और सावधानी अनिवार्य रूप से रखी जाये। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमण को काबू में रखने के लिये सरकार सभी आवश्यक व्यवस्थाएं करेगी, चाहे अस्पतालों में बिस्तरों में वृद्धि हो या और अन्य व्यवस्थाएं।



रोज कमाने वालों के लिये बनी है पीएम स्ट्रीट वेण्डर योजना


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि रोज कमाने वाले व्यक्तियों के लिये प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने पीएम स्ट्रीट वेण्डर आत्मनिर्भर स्वनिधि योजना बनाई है। इसमें रोज कमाने वाले व्यक्तियों को सरकार ग्यारंटी देकर बगैर ब्याज के बैंक से 10 हजार रुपये की राशि उपलब्ध कराई जायेगी, जिससे वे अपने छोटे-छोटे व्यवसाय को कर आत्मनिर्भर बनाया जायेगा। मुख्यमंत्री ने इस योजना के तहत सांकेतिक रूप से भैरवगढ़ उज्जैन निवासी सजनबाई, सुभाष-जयराम मालवीय एवं जयराम-गुलाब मालवीय को सब्जी विक्रय के लिये 10-10 हजार रुपये की बैंक ऋण राशि हितग्राहियों के खाते में जमा करवाकर उन्हें आज प्रमाण-पत्र, आईडी और बैंक का स्टेटमेंट वितरित किये। इसी तरह फ्रीगंज के शकील-वसीर खान को चाय का ठेला लगाने हेतु ऋण वितरण के प्रमाण-पत्र वितरित किया। उल्लेखनीय है कि पीएम स्ट्रीट वेण्डर योजना के तहत जिले में प्राप्त ऑनलाइन आवेदनों की संख्या 26540 है। अब तक सत्यापित हितग्राहियों की संख्या 18135 है, पात्र हितग्राही जिनके परिचय-पत्र व प्रमाण-पत्र भी जारी किये गये हैं ऐसे हितग्राहियों की संख्या 9189 है। पीएम स्वनिधि पोर्टल पर ऋण हेतु आवेदनों की संख्या 3300 है। पीएम स्वनिधि पोर्टल पर ऋण वितरण की संख्या 621 है। अब तक ऑफलाइन स्वीकृत प्रकरणों की संख्या 1200 है। आज दिनांक तक कुल 116 हितग्राहियों को ऋण वितरण किया जा रहा है। इसी प्रकार मप्र राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अन्तर्गत जिले में 48 समूहों के 256 सदस्यों द्वारा 174765 मास्क निर्माण किया गया, जिससे 9.85 लाख की राशि समूहों को प्राप्त हुई है। तीन समूहों के 24 सदस्यों के द्वारा 6334 पीपीई किट निर्माण जिसमें 2.50 लाख का लाभांश समूहों को प्राप्त हुआ है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज बृहस्पति भवन में चंदेसरी आजीविका ग्राम संगठन, सरस्वती आजीविका स्वसहायता समूह एवं सत्यनारायण आजीविका स्वसहायता समूह को प्रतीकस्वरूप 17.50 लाख रुपये के चेक वितरित किये।



Bkk News


Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar


Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर हुआ है। राकेश मुख्यतः आधुन

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग