Skip to main content

अभिव्यक्ति - लघुकथा : बेरोजगारी का डर ✍️ नीरज त्यागी


          शर्मा जी ने लगभग अपनी 35 साल की नौकरी में अपने मालिकों की सारी बात सर झुका कर मानी।हमेशा वह जहाँ भी नौकरी करते थे।उन्हें अपनी नोकरी जाने का डर बना रहता था क्योंकि 12वीं कक्षा तक ही पढ़े लिखे होने के कारण उन्हें कभी भी अच्छी नौकरी नहीं मिली और वह हमेशा अपने मालिकों से बाते ही सुनते रहे।लेकिन अब 35 वर्षों के बाद उनका बेटा बड़ा हो गया था।


          उनका 25 वर्षीय बेटा राहुल एक साल से एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम कर रहा था।अब उसकी सैलरी भी अच्छी खासी थी।लगभग एक माह पहले शर्मा जी ने उसका विवाह भी करवा दिया था।शर्मा जी भी काफी समय से नोकरी में सुनते सुनते थक चुके थे।अपनी पिछली नौकरी में वह पिछले 10 साल से थे। यहां पर उन्होंने सबसे ज्यादा बातें सुनीं थी।


           कई बार तो उनके दिल में आया कि वह मालिकों को मुंह पर ही सुना दे।लेकिन कभी कुछ भी ना कह पाए।आज कुछ परिस्थितियां ऐसी बनी कि मालिकों ने शर्मा जी को किसी बात पर फिर खरी खोटी सुनाना शुरू कर दिया। शर्मा जी के सब्र का घड़ा भर चुका था।उन्होंने अपने मालिकों से उल्टा सुना कर नौकरी को छोड़कर अपने घर वापस आ गए।


          घर पर आकर उन्होंने अपने बेटे से बोला।बेटा अब मैं थक गया हूं अब मुझसे जॉब नहीं होती लगभग एक माह बाद नई बहू और बेटे ने उन्हें छोड़कर वहां से जाने का फैसला किया।क्योंकि वह लोग चाहते थे कि अपना जीवन आजादी से जी सकें।


          राहुल ने अपने पिता से कहाँ कि पापा मैं खर्चे के लिए पैसे भेजता रहूंगा।लेकिन मुझे अब अपनी जॉब के लिए बेंगलुरु जाना होगा।पिता को भी कोई आपत्ति नहीं हुई।क्योंकि बेटे ने कहा था कि सब कुछ सेट होने के बाद वह पिता को भी अपने साथ ही बुला लेंगे।एक दो माह तक उनके पास कुछ खर्चा आता रहा।लेकिन उसके बाद वह आना बंद हो गया।


           बेटे ने फोन पर आखिर मना कर दिया।पापा मैं अपना ही खर्चा नहीं चला पाता तो आपको कहां से दूं। परिस्थिति कुछ ऐसी बनी कि शर्मा जी एक बार फिर से अपने पुराने वाले मालिको के पास ही नौकरी करनी पड़ी। उनका 35 साल पुराना डर बेरोजगार होने का,लगता है कभी खत्म ही नहीं होगा । 



नीरज त्यागी
ग़ाज़ियाबाद ( उत्तर प्रदेश ).
मोबाइल 09582488698
65/5 लाल क्वार्टर राणा प्रताप स्कूल के सामने ग़ाज़ियाबाद उत्तर प्रदेश 201001


Comments

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साह

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य