Skip to main content

शासकीय माधव नगर चिकित्सालय से 7 लोग ठीक होकर घर गये, पीटीएस से एक युवती कोरोना से पूर्णत: स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुई

#प्रेरक #कहानी :


जब कोरोना हुआ था, तो लगा था अब नहीं जी सकूंगी लेकिन चिकित्सालय में मिले उपचार से आज ठीक होकर जा रही हूं


शासकीय माधव नगर चिकित्सालय से 7 लोग ठीक होकर घर गये


💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐



उज्जैन, मंगलवार, 23 जून 2020 । मंगलवार को डेडिकेटेड कोविड-19 केयर सेन्टर शासकीय माधव नगर चिकित्सालय, फ्रीगंज, उज्जैन से सात लोग कोरोना संक्रमण से पूर्णत: स्वस्थ होकर अपने-अपने घर को गये। अपने घर जा रही एक महिला ने कहा कि जब उन्हें पता चला था कि वे कोरोना से संक्रमित हो गई हैं तो वे अत्यन्त घबरा गई थी। इसके बाद उन्हें उपचार के लिये शासकीय माधव नगर चिकित्सालय में भर्ती किया गया। उन्होंने बताया कि यहां मिले बेहतरीन उपचार और डॉक्टरों तथा चिकित्सा स्टाफ के सहयोग और प्रेरणा से वे आज पूर्ण रूप से स्वस्थ होकर घर जा रही हैं। इसके लिये महिला ने समस्त चिकित्सकों और स्टाफ नर्स का हृदय से आभार व्यक्त किया। अस्पताल से डिस्चार्ज होते समय सभी लोगों की आंखों में खुशी के आंसू थे।



चिकित्सकों और मेडिकल स्टाफ द्वारा अपने घर जा रहे लोगों के ऊपर फूलों की वर्षा कर उन्हें अच्छे स्वास्थ्य की शुभकामनाएं दी। सीएमएचओ डॉ.महावीर खंडेलवाल ने लोगों को हिदायत दी कि वे 14 दिनों के लिये होम क्वारेंटाईन में रहें। साथ ही जब भी बाहर निकलें तब अनिवार्यत: मास्क पहनें, बार-बार हाथ धोयें, नियमित योगा और व्यायाम करें, पौष्टिक भोजन का सेवन करें तथा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और कोरोना के लक्षण दोबारा होने पर स्वयं चिकित्सालय पहुंचकर जांच करायें तथा अपने आसपास के लोगों एवं रिश्तेदारों के माध्यम से कोरोना महामारी से बचाव हेतु बरती जाने वाले सावधानियों का अधिक से अधिक प्रचार करें। लोगों को यह समझायें कि यदि कोरोना हो भी जाये तो घबराने की आवश्यकता नहीं है, उचित उपचार एवं सावधानियों का ध्यान रखकर इस बीमारी से विजय प्राप्त की जा सकती है।



आखिर में सभी डॉक्टर्स ने तालियां बजाकर लोगों की हौसला अफज़ाई की और उन्हें आने वाले दिनों में कुछ सावधानियां बरतने के लिये कहा। सभी लोगों ने जिला चिकित्सालय के डॉक्टर्स, नर्सेस और सफाई कर्मचारियों का धन्यवाद दिया। इस दौरान डॉ.एचपी सोनानिया, डॉ.भोजराज शर्मा, आरएमओ डॉ.मनोज शाक्य, डॉ.अखंड, डॉ.कुमरावत, आईटी के नोडल डॉ.रौनक एवं मीडिया प्रभारी श्री दिलीपसिंह सिरोहिया मौजूद थे।


 


🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️


■ पीटीएस से एक युवती कोरोना से पूर्णत: स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुई


■ अपर कलेक्टर श्री अवि प्रसाद और नोडल डॉ.तोमर ने दी शुभकामनाएं


💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐



उज्जैन, मंगलवार, 23 जून 2020 । मक्सी रोड स्थित पीटीएस से मंगलवार को एक युवती कोरोना से जंग जीतकर अपने घर जाने के लिये डिस्चार्ज की गई। इस दौरान अपर कलेक्टर श्री अवि प्रसाद और पीटीएस कोविड केयर सेन्टर के नोडल डॉ.एएस तोमर ने युवती को शुभकामनाएं दी तथा प्रमाण-पत्र देकर अपने घर के लिये विदा किया। 


डॉ.तोमर ने ठीक होकर घर जा रही युवती से कहा कि वह अगले सात दिनों तक आइसोलेशन में रहे। आज घर पहुंचकर अपने कपड़े गर्म पानी में अच्छे से धोये अथवा उन्हें नष्ट कर दे। वह अन्य परिचितों अथवा सगे-सम्बन्धियों से जब भी फोन पर चर्चा करे तो यही कहे कि सही समय पर इलाज मिलने से ही वायरस संक्रमण से पूर्णत: स्वस्थ हुआ जा सकता है। डॉ.तोमर ने कहा कि वह कुछ दिनों के लिये केवल हल्का और सुपाच्य भोजन करे। ताजे फल और सब्जियों का सेवन करें। अनिवार्य रूप से मास्क पहनें तथा सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन करे।


इस दौरान पीटीएस में डॉ.महेन्द्रसिंह यादव, डॉ.कपिल मालवीय, डॉ.रोहन कांठेड़, डॉ.ईशानसिंह राठौर, डॉ.वसीम खान, डॉ.अनमोल जैन, डॉ.रोहित पराते, डॉ.अरविंद भटनागर, डॉ.विपट, डॉ.कपिल चौहान, डॉ.सुखदेव, डॉ.दीपक विश्वकर्मा, डॉ.विजय कुमार पांचाल, डॉ.शिखा झिंझोरिया, डॉ.रिया गमने, स्टाफ नर्स सुमन डांगी, पूजा सोलंकी, अनीता टांक, प्रियंका परमार, हीना अहिरवार, प्रांजल गुप्ता, कविता पाटीदार, एएनएम गायत्री वाडिया, प्रेमवती रायकवार, पुष्पा अग्रवाल, महिला एवं बाल विकास विभाग के श्री मनोज त्रिवेदी, श्री खेमराज चौहान, श्री हेमेंद्रसिंह राठौर, स्वास्थ्यकर्मी सर्वश्री सुनील सूर्यवंशी, एम्बरोज जॉर्ज, अमित यादव, सावन कंडारे, अरविंद सेठिया, ब्रजमोहन, सुमेर चौहान व सुश्री चन्दा गरूडा, वाहन चालक महेश पांचाल और सफाईकर्मी सर्वश्री वचन, सौरभ, मुस्तफा, योगेश गोस्वामी, हीरालाल, विनोद, लोकेश तंबोली, दीपक, राहुल, लखन, आकाश, भूरा, अभय व सुश्री फातिमा मौजूद थे।


 


✍ शुभम चौऋषिया


Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


https://bkknews.page/


Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

चौऋषिया दिवस (नागपंचमी) पर चौऋषिया समाज विशेष, नाग पंचमी और चौऋषिया दिवस की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं

चौऋषिया शब्द की उत्पत्ति और अर्थ: श्रावण मास में आने वा ली नागपंचमी को चौऋषिया दिवस के रूप में पुरे भारतवर्ष में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता हैं। चौऋषिया शब्द की उत्पत्ति संस्कृत शब्द "चतुरशीतिः" से हुई हैं जिसका शाब्दिक अर्थ "चौरासी" होता हैं अर्थात चौऋषिया समाज चौरासी गोत्र से मिलकर बना एक जातीय समूह है। वास्तविकता में चौऋषिया, तम्बोली समाज की एक उपजाति हैं। तम्बोली शब्द की उत्पति संस्कृत शब्द "ताम्बुल" से हुई हैं जिसका अर्थ "पान" होता हैं। चौऋषिया समाज के लोगो द्वारा नागदेव को अपना कुलदेव माना जाता हैं तथा चौऋषिया समाज के लोगो को नागवंशी भी कहा जाता हैं। नागपंचमी के दिन चौऋषिया समाज द्वारा ही नागदेव की पूजा करना प्रारम्भ किया गया था तत्पश्चात सम्पूर्ण भारत में नागपंचमी पर नागदेव की पूजा की जाने लगी। नागदेव द्वारा चूहों से नागबेल (जिस पर पान उगता हैं) कि रक्षा की जाती हैं।चूहे नागबेल को खाकर नष्ट करते हैं। इस नागबेल (पान)से ही समाज के लोगो का रोजगार मिलता हैं।पान का व्यवसाय चौरसिया समाज के लोगो का मुख्य व्यवसाय हैं।इस हेतू समाज के लोगो ने अपन