Skip to main content

मध्यप्रदेश सहित छह राज्यों के लिए केन्द्र सरकार ने शुरु किया गरीब कल्याण रोजगार अभियान

प्रधानमंत्री श्री मोदी ने किया संबोधित



भोपाल : शनिवार, जून 20, 2020, 16:57 IST


प्रधानमंत्री श्री नरेद्र मोदी ने प्रवासी मजदूरों को अपने मूल निवास स्थान और गृह प्रदेश में रोजगार उपलब्ध करवाने के लिए गरीब कल्याण रोजगार अभियान का आज वीडियो कान्फ्रेंस कर ई-शुभारंभ किया। इस अभियान में मध्यप्रदेश सहित उत्तरप्रदेश, बिहार, राजस्थान, झारखंड और ओड़िसा राज्यों के 116 जिलों में वर्ष में 125 दिवस का रोजगार दिया जाएगा। अभियान के अंतर्गत उन जिलों का चयन किया गया है जहां से 25 हजार से अधिक श्रमिक रोजगार की तलाश में अन्य प्रदेशों में जाते हैं। अभियान के ई-शुभारंभ के अवसर पर मंत्रालय, भोपाल में मुख्यमंत्री से शिवराज सिंह चौहान, मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस, अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास श्री मनोज श्रीवास्तव, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव श्री मनीष रस्तोगी और अन्य अधिकारी उपस्थित थे। संबंधित छह राज्यों के मुख्यमंत्री और पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री भी उपस्थित थे।


 


अभियान में शामिल मध्यप्रदेश के 24 जिले


गरीब कल्याण रोजगार अभियान के अंतर्गत मध्यप्रदेश के चयनित 24 जिलों में बालाघाट, झाबुआ, टीकमगढ़, छतरपुर, रीवा, सतना, सागर, पन्ना, भिण्ड, अलिराजपुर, बैतूल, खण्डवा, शहडोल, धार, डिण्डोरी, कटनी, छिंदवाड़ा, सिवनी, मंडला, खरगोन, शिवपुरी, बड़वानी, सीधी और सिंगरौली शामिल हैं।


 


प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि प्रवासी श्रमिकों ने कोविड-19 के दौर में परेशानियों के बावजूद अपने गांव लौटकर आसपास के क्षेत्र के विकास के लिए काफी कुछ कार्य कर दिखाया है। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कुछ श्रमिकों से चर्चा करते हुए कहा कि आप इस सदी के महत्वपूर्ण कार्य कर रहे हैं। अभी तक आप शहरों को चमका रहे थे, अब अपने ग्राम को चमकाईये। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि यह अभियान शुरु करने की प्रेरणा उन्हें एक ऐसे श्रमिक से मिली जो उत्तरप्रदेश में अपने गांव लौटकर पीओपी और मकानों की भीतरी साज-सज्जा के कार्य में दक्ष है। इस श्रमिक ने लॉकडाउन की अवधि में अपने ग्राम में हुनर का परिचय देते हुए कायाकल्प कर डाला।


प्रधानमंत्री श्री मोदी ने कहा कि गरीब कल्याण रोजगार अभियान के अंतर्गत 25 कार्य क्षेत्र चुने गए हैं जो गांव के लोगों के जीवन के बेहतर बनाने का कार्य करेंगे। इन कार्यों में सामुदायिक शौचालय, आँगनबाड़ी केंद्र, कुँआ निर्माण, ग्रामीण मंडी की स्थापना, पशु शेड,पंचायत भवन, पेयजल प्रबंधन, वृक्षारोपण और सड़़क निर्माण जैसे कार्य शामिल रहेंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि एक देश एक राशन कार्ड, उज्जवला योजना में रसोई गैस सुविधा, करीब 80 करोड़ आबादी को अन्न प्रदाय और जनधन खातों को आधार से लिंक किए जाने के फलस्वरूप हितग्राहियों को आज कोविड-19 की परिस्थितियों में लाभान्वित करने में आसानी हुई है। आत्मनिर्भर भारत के लिए आत्मनिर्भर किसान आवश्यक है इसलिए किसानों को बाजार से जोड़कर ज्यादा दाम दिलवाने के प्रयास किए गए।


केन्द्रीय पंचायती राज, ग्रामीण विकास, कृषि और किसान कल्याण मंत्री श्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने स्वागत उद्बोधन में कहा कि देश के 116 जिलों के सार्वजनिक सेवा केन्द्रों और पंचायतों में श्रमिकों ग्रामवासियों को प्रधानमंत्री श्री मोदी का संबोधन प्रेरित करेगा। प्रधानमंत्री श्री मोदी ने लॉकडाउन घोषित होने के पश्चात पैकेज घोषित कर आर्थिक व्यवस्था को बल देने का कार्य किया। इसके अच्छे परिणाम आने वाले समय में देखने को मिलेंगे। प्रधानमंत्री श्री मोदी के सशक्त नेतृत्व में राज्यों से मिलकर रणनीति पर क्रियान्वयन किया जा रहा है। बाहर से लौटे श्रमिकों को रोजगार से जोड़ने का यह महत्वपूर्ण कदम है।


 


मध्यप्रदेश के प्रयासों से केन्द्र अवगत


आज गरीब कल्याण रोजगार अभियान के शुभारंभ अवसर पर मध्यप्रदेश में प्रवासी श्रमिकों के कल्याण के लिए किए गए कार्यों से केन्द्र सरकार को अवगत करवाया गया है। इसके अनुसार मुख्यमंत्री प्रवासी मजदूर सहायता योजना 2020 के अंतर्गत मध्यप्रदेश के मजदूरों को लॉकडाउन के दौरान जो अन्य राज्यों में फंसे हैं, उनकी तात्कालिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिये 1 हजार रूपये की राशि अंतरित की गई। प्रवासी मजदूरों के लिए शासकीय व्यय पर 150 स्पेशल ट्रेनों एवं बसों के माध्यम से प्रदेश के 6 लाख से भी अधिक श्रमिकों को वापिस लाया गया। दूसरे राज्यों के श्रमिक जो पैदल अथवा किसी अन्य साधन से मध्यप्रदेश की सीमा पर पहुंचे ऐसे लगभग 5 लाख 25 हजार मजदूरों को 20 हजार से अधिक बसें लगाकर सीमावर्ती राज्यों की सीमा तक छोड़ा गया। प्रवासी मजदूरों के गाँव आने पर हेल्थ चेक अप कराने के पश्चात क्वारेंटाइन केंद्र में आवास, भोजन, उपचार की उचित व्यवस्था की गई। प्रवासी मजदूरों एवं सभी ग्रामीण लोगों के रोजगार के लिए मनरेगा के अंतर्गत अब तक लगभग 22 हजार 537 ग्राम पंचायतों में 1.95 लाख से अधिक कार्य प्रारंभ हो चुके हैं और इनसे माह अप्रैल से अब तक प्रतिदिन औसतन 25.14 लाख मजदूरों को रोजगार प्राप्त हो रहा है। अभी तक कुल 1862 करोड़ राशि का भुगतान किया गया है जिसमें से 1256 करोड़ राशि का भुगतान मजदूरी के लिए किया गया। प्रवासी मजदूरों को अब तक 3.64 करोड़ से अधिक क्विंटल खाद्यान्न का वितरण किया जा चुका है। कुल 1.88 लाख लोगों को (83 लाख खाद्यान्न पैकेट) उपलब्ध भोजन पेकेट उपलब्ध करवाए गए । रोजगार सेतु योजना भी ऐसे प्रवासी मजदूरों की पहचान, पंजीयन, उनकी दक्षता और कौशल के अनुसार रोजगार दिलाने के लिए चल रही है। रोजगार सेतु पोर्टल के माध्यम से मजदूर एवं नियोक्ता कंपनी एक दूसरे से सीधे संपर्क कर रोजगार प्राप्त करने के संबंध में समन्वय स्थापित कर सकते हैं। अब तक 13.09 लाख मजदूर एवं 14,750 मजदूर रोजगार प्रदाय कर्ता पोर्टल में पंजीबद्ध हो चुके हैं। लगभग 3 हजार मजदूरों ने कौशल के आधार पर इस पोर्टल के जरिए रोजगार प्राप्त कर लिया है।


Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

चौऋषिया दिवस (नागपंचमी) पर चौऋषिया समाज विशेष, नाग पंचमी और चौऋषिया दिवस की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं

चौऋषिया शब्द की उत्पत्ति और अर्थ: श्रावण मास में आने वा ली नागपंचमी को चौऋषिया दिवस के रूप में पुरे भारतवर्ष में हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता हैं। चौऋषिया शब्द की उत्पत्ति संस्कृत शब्द "चतुरशीतिः" से हुई हैं जिसका शाब्दिक अर्थ "चौरासी" होता हैं अर्थात चौऋषिया समाज चौरासी गोत्र से मिलकर बना एक जातीय समूह है। वास्तविकता में चौऋषिया, तम्बोली समाज की एक उपजाति हैं। तम्बोली शब्द की उत्पति संस्कृत शब्द "ताम्बुल" से हुई हैं जिसका अर्थ "पान" होता हैं। चौऋषिया समाज के लोगो द्वारा नागदेव को अपना कुलदेव माना जाता हैं तथा चौऋषिया समाज के लोगो को नागवंशी भी कहा जाता हैं। नागपंचमी के दिन चौऋषिया समाज द्वारा ही नागदेव की पूजा करना प्रारम्भ किया गया था तत्पश्चात सम्पूर्ण भारत में नागपंचमी पर नागदेव की पूजा की जाने लगी। नागदेव द्वारा चूहों से नागबेल (जिस पर पान उगता हैं) कि रक्षा की जाती हैं।चूहे नागबेल को खाकर नष्ट करते हैं। इस नागबेल (पान)से ही समाज के लोगो का रोजगार मिलता हैं।पान का व्यवसाय चौरसिया समाज के लोगो का मुख्य व्यवसाय हैं।इस हेतू समाज के लोगो ने अपन