Skip to main content

भारतीय भक्ति आंदोलन : दक्षिण और उत्तर भारत की संत परंपरा - प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा


आळ्वार सन्तों की भक्ति समूची विश्व मानवता के लिए है
– प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा Shailendrakumar Sharma


भारतीय भक्ति आंदोलन : दक्षिण और उत्तर भारत की संत परम्परा :


चेन्नई के श्री शंकरलाल सुंदरबाई शासुन जैन महिला महाविद्यालय द्वारा आयोजित राष्ट्रीय वेव संगोष्ठी देश – देशांतर तक प्रसारित भक्ति धारा के बहुविध अवदान पर पुनर्विचार का अवसर दे गई। इस अवसर की छबियाँ और व्याख्यान सार प्रस्तुत है।



प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा के व्याख्यान के अंश :
देशव्यापी भक्ति आंदोलन और भक्ति – दर्शन को दक्षिण भारत के आळ्वार सन्तों का अविस्मरणीय योगदान है। उन्होंने सुदूर अतीत से चली आ रही भक्ति की भावधारा को लोकजनीन बनाया। उन्होंने ‘सर्वे प्रपत्ति अधिकारिणः’ के सूत्र को मैदानी तौर पर साकार किया, जिसके प्रभावस्वरूप परवर्ती वैष्णव मत के आचार्यों और मनीषियों ने इसे शास्त्र का ढाँचा दिया। आळ्वारों के आंदोलन ने सदियों से चली आ रही सामाजिक जकड़न, असमानता, भावविहीन कर्मकांड और पुरोहितवाद से मुक्ति की राह खोली। आळ्वार भक्तगण विविध वर्ग, पृष्ठभूमियों, समुदाय और जातियों से आए थे, किन्तु वे सभी एक सूत्र में बंधे थे और समूचे समाज को इसी का सन्देश देते रहे। उन्होंने विष्णु के वैदिक, औपनिषदिक, पांचरात्र संहिताओं और भागवत महापुराण द्वारा प्रतिपादित रूप की सरस अभिव्यक्ति अपने काव्य में की है।



विष्णु या नारायण की उपासना में लीन प्रमुख आळ्वारों का नाम निर्देश पराशर भट्ट कुछ इस तरह करते हैं :


भूतं सरश्च महदाह्वयभट्टनाथ श्रीभक्तिसार कुलशेखर योगिवाहान्।
भक्तांघ्रिरेणु परकाल यतीन्द्रमिश्रान् श्रीमत्परांकुशमुनिं प्रणतोsस्मि नित्यम्।।


वैष्णव परंपरा इन बारह आळ्वारों को महिमान्वित करती है : पोय्गै आळ्वार (सरोयोगिन्), भूतत्तु आळ्वार (भूतयोगिन्), पेयाळवार (महायोगिन्), तिरुमळिशै आळ्वार (भक्तिसार), नम्माळवार (शठकोप, परांकुश, मारन), मधुर कवि आळ्वार, कुलशेखर आळ्वार, पेरियाळवार (विष्णु चित्त), आंडाल (गोदा), तोण्डरअडिपोडि आळवार (भक्तांघ्रिरेणु), तिरुप्पाणालळवार (योगिवाह) और तिरुमंगैयाळवार (परकाल)।


भक्ति के संप्रसार और नवाविष्कार में आळ्वार सन्तों का अविस्मरणीय योगदान है। आळ्वार का अर्थ है, भगवत्भक्ति रस में लीन व्यक्ति या जिसने अध्यात्मज्ञान रूपी समुद्र में गहरा गोता लगाया हो। आळ्वार संत भारतीय भक्ति आन्दोलन के पुरोधा हैं। वे गीता और उपनिषदों के जीवन्त रूप थे। तमिल आळ्वार कवि एवं सन्तों का समय छठी से नवीं शताब्दी के बीच रहा। इन बारह आळ्वार के कार्य और संकलन (4000 छंद ईश्वरत्व) के रूप में नालायिर दिव्य प्रबन्धम् कहलाये। तमिल वेद के रूप में प्रतिष्ठित दिव्य प्रबन्ध भक्ति और ज्ञान का विलक्षण भण्डार है। इसका संकलन वैष्णव आचार्य नाथमुनि ने किया, जिनका समय 9 वीं – 10 वीं शताब्दी है। इनकी महिमा वैदिक वाङ्गमय के समान है।



आळ्वार सन्तों की भक्ति समूची विश्व मानवता के लिए है। वह सबको परस्पर प्रेम और सद्भाव के सूत्रों में बांधती है। तमिलनाडु के आलवार संतों ने जिस भक्ति आंदोलन का प्रवर्तन किया था, उसके स्वर से स्वर मिलते हुए भक्तों और संतों ने उत्तर, पूर्व और पश्चिमी भारत के सुदूर अंचलों तक भक्ति तत्त्व को विस्तार देने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई। दक्षिण से उत्तर भारत की ओर प्रवाहित भक्ति आंदोलन ने शेष भारत के विविध अंचलों की संस्कृति और समाज पर गहरा प्रभाव डाला। यह प्रभाव भक्ति की लोक-व्याप्ति, सहज जीवन-दर्शन, शाश्वत मूल्य बोध, सामाजिक समरसता के प्रसार, जनभाषाओं के विस्तार जैसे कई स्तरों पर दिखाई देता है। देश के विभिन्न अंचलों में जन्मे भक्तों की महिमा की अनुगूँज उत्तर से दक्षिण, पूर्व से पश्चिम तक सुनाई देती है। यहाँ तक कि उनके अनेक समकालीन और परवर्ती भक्तों ने ऐसे भक्तों को भक्ति के प्रादर्श के रूप में महिमान्वित किया।



देश के विभिन्न राज्यों के प्राध्यापकों, अध्येताओं और संस्कृतिप्रेमियों से आळ्वार सन्तों के प्रभाव और उत्तर भारत की संत परम्परा के साथ उनके सम्बन्धों पर संवाद का यह स्मरणीय अवसर चेन्नई के श्री शंकरलाल सुंदरबाई शासुन जैन महिला महाविद्यालय के ट्रस्टियों, सुधी विभागाध्यक्ष डॉ सरोज सिंह एवं प्राध्यापकों ने जुटाया था। उन्हें साधुवाद और स्वस्तिकामनाएँ।




  • प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा


Bkk News


Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar


Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर हुआ है। राकेश मुख्यतः आधुन

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग