Skip to main content

"वर्तमान परिप्रेक्ष्य में संत साहित्य की प्रासंगिकता" पर तीन दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार आयोजित


भारतीय विचार मंच, नागपुर एवं अक्षरवार्ता अंतरराष्ट्रीय शोध पत्रिका, उज्जैन (मध्यप्रदेश) के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित तीन दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार में सभी प्राध्यापक, शोधार्थी, विद्यार्थी तथा साहित्य प्रेमी सादर आमंत्रित  हैं।  


विषय:- "वर्तमान परिप्रेक्ष्य में संत साहित्य की प्रासंगिकता"
 
तिथी:-  २७, २८ एवं २९ मई २०२० 
समय :- प्रात: ११:०० से १२:३० 


पंजीकरण लिंक (Registration Link) :-
 https://docs.google.com/forms/d/e/1FAIpQLSefZgUh7FBP3G0Zxr1SP9zkxMA928omEpXDZWJSlSwMlxwtYg/viewform


पंजीकरण होने के पश्चात निम्न किसी भी 1 वाट्सअप अथवा टेलीग्राम ग्रुप से जुड़े, वेबिनार में जुड़ने की लिंक व अन्य सूचनाएँ आपको वहीं प्रदान की जाएगी:


WhatsApp Group
Group 1 Link: https://chat.whatsapp.com/JeaTgEaAX3dGpOgjHZa2yS


Group 2 Link: https://chat.whatsapp.com/HOAc3pbdrzYIS5qCj96HYz


Group 3 Link: https://chat.whatsapp.com/COg08FauEjQIE97T2s3FL2


Group 4 Link: https://chat.whatsapp.com/G4dvE7YNmxuCmtWPtkvw7F


Group 5 Link: https://chat.whatsapp.com/Kr5K1IhDt1rJ4NR5KMx6JZ


Telegram Group Link
https://t.me/joinchat/Q5HwJhvJxR_Qo7plUl_Icg


Facebook Live : https://m.facebook.com/videos/live/m/redirect/3791505157587067/?_rdr


पंजीकरण करने के पश्चात वेबिनार के अंत में फीडबैक फॉर्म भरनेवाले सभी प्रतिभागियों को ई - सर्टिफिकेट दिया जाएगा। 


कार्यक्रम संरक्षक 
श्री सुनील किटकरू
(मो. 9890489978)


अक्षरवार्ता संपादक
डॉ. मोहन बैरागी
(मो. 9424014366)
 
कार्यक्रम संयोजक 
डॉ. कमलकिशोर गुप्ता 
(मो. 9881597382)


कार्यक्रम सहसंयोजक 
श्री नवीन महेशकुमार अग्रवाल 
(मो. 9273301557)








Bkk News


Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar


Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर हुआ है। राकेश मुख्यतः आधुन

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग