Skip to main content

राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय ने वर्चुअल टूर के माध्यम से पथप्रदर्शक कलाकार जामिनी राय को श्रद्धांजलि अर्पित की

संस्‍कृति मंत्रालय


वर्चुअल टूर ने एनजीएमए के स्थायी संग्रह से 215 में से 203 कलाकृतियों को प्रदर्शित किया



राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय ने वर्चुअल टूर के माध्यम से पथप्रदर्शक कलाकार जामिनी राय को उनकी 133वीं जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की। जामिनी राय के वर्चुअल टूर (http://www.ngmaindia.gov.in/virtual-tour-of-modern-art-1.asp) का नौ सेगमेंट (बर्ड एंड बीस्ट, कैलिग्राफी एंड स्केचेज, इपिक मिथ एंड फोक कल्ट्स, कृष्ण लीला, लाइफ आफ क्राइस्ट, मदर एंड चाइल्ड, पोर्टेट एंड लैंडस्केप्स, संथाल्स, विलेज लाइफ एंड वीमेन) में प्रतिनिधित्व किया गया है जो उनकी कृतियों में विभिन्न भाव भंगिमाओं को दर्शाते हैं और एनजीएमए के 215 स्थायी संग्रह में से 203 कलाकृतियों को प्रदर्शित किया गया है। पथप्रदर्शक कलाकार की समस्त कला कृतियों का यह वर्चुअल टूर निश्चित रूप से कला प्रेमियों को समृद्ध करेगा, जो भारत में पहली बार हो रहा है।



नोवेल कोरोना वायरस (कोविड-19), जिसे विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा महामारी घोषित किया गया है, द्वारा उत्पन्न खतरे के कारण और भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के सुझाव का अनुसरण करते हुए संग्रहालय और पुस्तकालय अगले आदेशों तक आम जनता के लिए बंद कर दिया गया है।



एनजीएमए के महानिदेशक श्री अद्वैत गदानायक ने कहा, ‘यह इस देश के पथप्रदर्शक कलाकार जामिनी राय को श्रद्धांजलि देने का हमारा प्रयत्न है। इसलिए उनकी 133वीं जयंती वर्ष (11.04.1887-24.04.1972) पर एनजीएमए आगंतुकों के लिए इन दिनों बिना शारीरिक रूप से इस स्थान पर आए इस वर्चुअल टूर के माध्यम से जामिनी राय के जीवन एवं कला कृतियों को प्रस्तुत करता है। मुझे उम्मीद है कि आगंतुक निश्चित रूप से इन कला कृतियों के माध्यम से रंगीन यात्रा का आनंद उठाएंगे। आने वाले दिनों में हमारी साइट पर और कई सारे वर्चुअल टूर आयोजित किए जाएंगे।’ऐसे वर्चुअल टूर का सृजित करने का यह दूसरा सबसे बड़ा प्रयास है जिसकी अवधारणा, रूपरेखा का निर्माण और विकास एनजीएमए के आईटी सेल द्वारा किया गया है।



जामिनी राय 20वीं सदी भारतीय कला के सबसे आरंभिक और सबसे उल्लेखनीय आधुनिकतावादी थे। 1920 के बाद से विधा के सार की उनकी खोज ने उन्हें नाटकीय रूप से अलग अलग विजुअल शैली के साथ प्रयोग करने का अवसर दिया। लगभग छह दशकों तक फैले उनके कैरियर में कई महत्वपूर्ण परिवर्तनशील पड़ाव आए और उनकी कलाकृतियां सामूहिक रूप से उनकी आधुनिकतावाद की प्रकृति और उनके समय के कला प्रचलनों से अलग हटने में उनकी प्रमुख भूमिका को दर्शांती हैं। 20वीं सदी के आरंभिक दशकों में पेंटिंग की ब्रितानी अकादमिक शैली में प्रशिक्षित, जामिनी राय एक कुशल चित्रकार के रूप में विख्यात हो गए। 1916 में अब कोलकाता के गवर्नमेंट आर्ट स्कूल से स्नातक करने के बाद उन्हें नियमित रूप से कमीशन मिलता रहा। 20वीं सदी के आरंभिक तीन दशकों में बंगाल में सांस्कृतिक अभिव्यक्तियों में बहुत बड़ा बदलाव देखा गया। राष्ट्रीय आंदोलन की बढ़ती भावना साहित्य और विजुअल कलाओं में सभी प्रकार के बदलावों को प्रेरित कर रही थी। अबनींद्रनाथ टैगोर द्वारा स्थापित द बंगाल स्कूल और नंदलाल बोस के तहत शांतिनिकेतन में कला भवन ने यूरोपीय नैचुरलिज्म और माध्यम के रूप में तेल के प्रयोग को खारिज कर दिया था और निरूपण के नए मार्गो की खोज कर रहे थे। जामिनी राय ने भी जानबूझ कर उस शैली को अस्वीकार कर दिया जिसमें उन्होंने अपने अकादमिक प्रशिक्षण के दौरान महारत हासिल की थी और 1920 के आरंभ से उन रूपों की खोज शुरू कर दी जिसने उनके अस्तित्व के भीतरी हिस्से को झकझोड़ दिया था। उन्होंने पूर्वी एशियाई हस्तलिपि, टेराकोटा मंदिर चित्रवल्लरियों, लोक कलाओं एवं पांरपरिक शिल्पों तथा इसी प्रकार के विभिन्न स्रोतों से प्रेरणा ली।


1920 के दशक के आखिर से जामिनी राय ने यूरोपीय तेल माध्यम अस्वीकार कर दिया और सब्जी तथा खनिज स्रोतों से पारंपरिक रंगद्रव्यों का उपयोग करना आरेभ कर दिया। बिम्बविधान अक्सर ग्रामीण जीवन से उकेरे गए। जामिनी राय ने किसानों, कलाकारों और बेहद मर्यादापूर्वक ग्रामीण महिलाओं एवं आदिवासियों का चित्रण किया। उन्होंने अपनी चित्रकारियों में उनका जिसे वे लोक कथाओं के उद्धरणों के साथ पवित्र समझते हैं और उन वर्णनों जो ग्रामीण चेतना में व्याप्त हैं, का प्रतिनिधित्व किया। ‘वूमन‘ शीर्षक की इस विशिष्ट चित्रकारी में कलाकार ने मोटे, काले रूपरेखा की लाइनों के साथ एक लाल पृष्ठभूमि में एक महिला की आकृति की चित्रकारी की है। विधा की सरलता विशेष रूप से एक अलंकृत किनारी के साथ एक संरचित वस्त्र विन्यास एक मूर्तिकला गुणवत्ता का आभास देती है।


1924 के बाद से, जामिनी राय ने एक नई शैली का प्रयोग किया क्योंकि वह विधा को सरल बनाने के तरीकों की तलाश कर रहे थे। इस अवधि के दौरान अधिकांश हिस्सों में उनकी छवियां या तो सफेद, नरम धूसर काली आडंबरहीन एकवर्णी बन गईं या रंग मिलाने की पटिया एक या दो रंगों के उपयोग की पटिया तक ही सीमित रह गई। कूची पर अद्वितीय नियंत्रण के साथ, उन्होंनें तरल, हस्तलिपिक लाइनों के साथ विधाओं की रूपरेखाओं का सृजन किया। इस चरण के दौरान राय ने बैठी हुई महिलाओं, माता एवं शिशु की आकृतियों, बाउल, छलांग लगाते हिरणों, रेंग कर चलने वाले नवजातों की चित्रकारी की।


Bkk News


Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar


Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

केबिनेट मंत्री का मिला दर्जा निगम, मंडल, बोर्ड तथा प्राधिकरण के अध्यक्षों को, उपाध्यक्षों को मिला राज्य मंत्री का दर्जा

भोपाल : बुधवार, दिसम्बर 29, 2021 - मध्यप्रदेश शासन ने निगम, मण्डल, बोर्ड और प्राधिकरण के नव-नियुक्त अध्यक्षों को केबिनेट मंत्री का दर्जा प्रदान करने के आदेश जारी कर दिये हैं। केबिनेट मंत्री का दर्जा उनके कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से प्राप्त होगा। इसी प्रकार निगम, मण्डल, बोर्ड और प्राधिकरण के नव-नियुक्त उपाध्यक्षों को राज्य मंत्री का दर्जा प्रदान करने के आदेश भी जारी हो गये हैं। यह भी संबंधित नव-नियुक्त उपाध्यक्षों को उनके कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से प्राप्त होगा। मध्यप्रदेश राज्य शासन ने बुधवार, 29 दिसम्बर 2021 को श्री शैलेन्द्र बरूआ मध्यप्रदेश पाठ्य-पुस्तक निगम, श्री शैलेन्द्र शर्मा मध्यप्रदेश राज्य कौशल विकास एवं रोजगार निर्माण बोर्ड, श्री जितेन्द्र लिटौरिया मध्यप्रदेश खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड, श्रीमती इमरती देवी मध्यप्रदेश लघु उद्योग निगम लिमिटेड, श्री एंदल सिंह कंषाना मध्यप्रदेश स्टेट एग्रो इंडस्ट्रीज डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड, श्री गिर्राज दण्डोतिया मध्यप्रदेश ऊर्जा विकास निगम, श्री रणवीर जाटव संत रविदास मध्यप्रदेश हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम लिमिटेड, श्री जसवंत