Skip to main content

राज्यपाल की पहल पर हो रहा है देशी गाय नस्ल सुधार

राजभवन की गौशाला में तैयार हुआ उन्नत नस्ल का भ्रूण 


भोपाल : बुधवार, मई 6, 2020, 14:31 IST


राज्यपाल श्री लाल जी टंडन ने गौवंश नस्ल सुधार कार्यक्रम के प्रभावी संचालन की जरूरत बताई है। उन्होंने देशी नस्लों को सुधार कर उनकी दुग्ध उत्पादन क्षमता को बढ़ाने के निर्देश दिए है। देशी नस्ल के गौवंश के पालन के लिए कृषकों, पशु पालकों को प्रेरित करने पशु पालन को लाभकारी बनाने के प्रयासों के लिए निर्देशित किया है। राजभवन की गौशाला को आदर्श गौशाला के रूप में विकसित कर आधुनिक विधि से गौपालन के साथ ही भ्रूण प्रत्यारोपण संबंधी विभिन्न कार्यों का संचालन किया जा रहा है। राजभवन गौशाला की उन्नत दुग्ध उत्पादक नस्ल राठी की गाय से 12 भ्रूणों का एकत्रण कर देशी नस्ल की गायों में प्रत्यारोपित किया गया है। प्रदेश की एकमात्र राठी नस्ल की गाय और थारपारकर नस्ल की गाय को डोनर के रूप तथा 6 अन्य गायों का पालन किया जा रहा हैं।


राज्यपाल के सचिव श्री मनोहर दुबे ने बताया कि राठी नस्ल से एकत्रित 12 भ्रूणों में से दो भ्रूण राजभवन स्थित गिर और साहीवाल नस्ल की गायों में प्रत्यारोपित किए गए है। शेष भ्रूण बुलमदर फार्म स्थित मालवी नस्ल की सात गायों में प्रत्यारोपित किए गए है। भविष्य में उपयोग के लिए तीन भ्रूण संरक्षित किये गये हैं। भ्रूण प्रत्‍यारोपण तकनीक का उपयोग कर देशी नस्‍लों की अनुवांशिकता में सुधार कर दुग्‍ध उत्‍पादन में वृद्धि का प्रयास है। इस तरह देशी गायों को पशुपालकों के लिए लाभकारी बना उनके पालन के लिए प्रेरित, प्रोत्साहित करने की कोशिश है। उन्होंने बताया कि भ्रूण प्रत्यारोपण कार्य म.प्र. राज्य पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम के तकनीकी दल द्वारा संपादित किया गया। उन्होंने बताया कि राजभवनकी गौशाला में मालवी, निमाड़ी, साहीवाल, कांकरेज, थारपारकर और राठी नस्ल की एक-एक गाय और गिर नस्ल की दो गायों का पालन हो रहा है। गौशाला की मालवी नस्ल की गाय में गिर नस्ल और गिर नस्ल की गाय में साहीवाल नस्ल के भ्रूण का भी प्रत्यारोपण किया गया है।


उन्होंने बताया कि राठी गौवंश की गायें राजस्थान राज्य के बीकानेर, गंगा नगर, हनुमानगढ़ जिलों में पाई जाती है। यह बहु उपयोगी नस्ल है। दूध उत्पादन और भारवाहन दोनो कार्यों में उपयुक्त है। यह नस्ल सफेद, भूरे तथा चित्तेदार रंग में पाई जाती है। इसका औसत दुग्ध उत्पादन 1500 से 1600 किलोग्राम प्रति लेकटेशन है। उन्नत नस्ल की गाय 2800 किलोग्राम प्रति लेकटेशन तक की होती है। इसी तरह साहीवाल नस्ल के पशु पंजाब, हरियाणा तथा राजस्थान के गंगा नगर जिले में पाए जाते हैं। इस नस्ल के पशु भारी शरीर, त्वचा ढीली, सींग छोटे होते है। इनका रंग लाल होता है। दुग्ध उत्पादन एक ब्यात औसतन 2200 से 2500 किलोग्राम तक होता है। गिर गौवंश भी भारतीय गौवंश की दुधारू नस्ल है। गिर नस्ल के पशु गुजरात के गिर फॉरेस्ट, सौराष्ट्र तथा दक्षिण कठियावाड़ में पाये जाते हैं। सींग मोटे, पीछे की ओर विशिष्ट आकार के (अर्थ चंद्राकार) मुड़े हुए तथा माथा चौड़ा और उभरा हुआ होता है। गहरे लाल या लाल रंग पर सफेद धब्बे या पूरी तरह लाल अथवा कुछ पशु सफेद या काले भी हो सकते हैं। इनका भी दुग्ध उत्पादन औसतन 2000 से 2500 किलोग्राम प्रति ब्यात है। भारतीय गौवंश की मालवी नस्ल भारवाहक नस्ल है। मालवी नस्ल के पशु मध्यप्रदेश के मालवा अंचल के मुख्यत: शाजापुर, आगर-मालवा, राजगढ़ तथा उज्जैन आदि जिलों में पाये जाते हैं। सुडौल शरीर, मध्यम कद, लम्बी पूछ, सींग ऊपर, बाहर एवं आगे की और झुके हुए। रंग-मुख्यत: सफेद तथा नर के गर्दन तथा कंधों पर काला रंग लिये हुए होता है।


उल्लेखनीय है कि देशी गाय के दूध में अनेक विशेषताएं होती है। इसकेसेवन से बच्चों के विकास के साथ ही उनकी कुशाग्रता में वृद्धि होती है। इसमें वसा की मात्रा काफी कम होती है। जिससेसुपाच्य होता है।इसमें प्रचुर मात्रा में कैल्शियम, फॉसफोरस और विटामिन 'ए' एवं अन्य पोषक तत्व होते हैं। चिकित्सकों ने बच्चों, बीमार एवं वृद्धजनों के लिए इसको उपयुक्त बताया है। देशी गाय के दूध से अच्छा कोलेस्ट्रोल एचडीएल बढ़ता है और खराब कोलेस्ट्रोल एलडीएल घटता है, जिससे ह्दय भी स्वस्थ रहता है।



Bkk News


Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar



Comments

मध्यप्रदेश खबर

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

 ■ नरेश जिनिंग की जमीन पर मेडिकल कॉलेज खोलने के लिए विधायक श्री पारस चन्द्र जैन ने मुख्यमंत्री को लिखा पत्र ● विधायक ने उज्जैन जिला कलेक्टर को आवश्यक कार्यवाही करने के लिए लिखा पत्र   उज्जैन । भारत स्काउट एवं गाइड मध्यप्रदेश के राज्य मीडिया प्रभारी राधेश्याम चौऋषिया ने जानकारी देते हुए बताया कि, आज विधायक श्री पारस चन्द्र जैन जी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री जी श्री शिवराज सिंह चौहान को एक पत्र लिखकर उनके द्वारा उज्जैन में मेडिकल कॉलेज खोलने की घोषणा किए जाने पर उज्जैन की जनता की ओर से बहुत बहुत धन्यवाद देकर आभार प्रकट किया गया । मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में विधायक श्री जैन ने लिखा कि, उज्जैन शहर के मध्य आगर रोड़ स्थित नरेश जिनिंग की जमीन को उज्जैन जिला प्रशासन द्वारा हाल ही में  अतिक्रमण से मुक्त करवाया गया है । इस जमीन का उपयोग मेडिकल कॉलेज हेतु किया जा सकता है क्योंकि यह शहर के मध्य स्थित है तथा इसी जमीन के पास अनेक छोटे-बड़े अस्पताल आते हैं । इसी प्रकार विनोद मिल की जमीन भी उक्त मेडिकल कॉलेज हेतु उपयोग की जा सकती हैं क्योंकि इसी जमीन के आसपास उज्जैन का शासकीय जिला चिकित्सालय, प्रसूतिग