Skip to main content

मध्यप्रदेश में गेहूँ का ऑल टाइम रिकार्ड उपार्जन

पूरे देश में मध्यप्रदेश दूसरे स्थान पर
एक माह में ही 87 लाख 43 हजार मीट्रिक टन गेहूँ उपार्जित
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने समीक्षा बैठक के दौरान की सराहना
 


भोपाल : शनिवार, मई 16, 2020, 21:10 IST


मध्यप्रदेश में इस बार गेहूँ का समर्थन मूल्य पर रिकार्ड उपार्जन किया गया है। कोरोना संकट के होते हुए भी मात्र एक माह की अवधि में 12 लाख 61 हजार 764 किसानों से 87 लाख 43 हजार 214 मीट्रिक टन गेहूँ समर्थन मूल्य पर उपार्जित कर लिया गया है, जो कि मध्यप्रदेश के लिये ऑल टाइम रिकार्ड है। साथ ही समर्थन मूल्य पर गेहूँ उपार्जन के क्षेत्र में मध्यप्रदेश देश में दूसरे स्थान पर आ गया है। पहले स्थान पर पंजाब में इस वर्ष एक करोड़ 21 लाख 64 हजार 157 मीट्रिक टन गेहूँ की समर्थन मूल्य पर खरीदी की गई है। वहीं उत्तर प्रदेश तीसरे स्थान पर है, जहाँ अभी तक इस वर्ष 14 लाख 79 हजार 51 मीट्रिक टन समर्थन मूल्य पर गेहूँ उपार्जित हुआ है। इसके पहले वर्ष 2012 में मध्यप्रदेश में 10 लाख 26 हजार 988 किसानों से सर्वाधिक 84 लाख 89 हजार 587 मीट्रिक टन गेहूँ उपार्जित किया गया था। उपार्जन के अंतर्गत एक दिवस में 64 हजार 244 किसानों से 4 लाख 98 हजार 578 मीट्रिक टन गेहूँ खरीदा गया, इतनी मात्रा में एक दिवस में गेहूँ कभी नहीं खरीदा गया।


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने आज मंत्रालय में प्रदेश में गेहूँ उपार्जन कार्य की समीक्षा के दौरान प्रदेश में हुए इस उत्कृष्ट कार्य के लिये खाद्य-नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता संरक्षण विभाग के प्रमुख सचिव श्री शिवशेखर शुक्ला सहित पूरी टीम की सराहना की। बैठक में मुख्य सचिव श्री इकबाल सिंह बैंस तथा अन्य संबंधित उपस्थित थे।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि कोरोना संकट के समय में किसानों के गेहूँ का तत्परता से उपार्जन किये जाने तथा किसानों के खातों में त्वरित गति से राशि आ जाना किसानों के लिये बड़ी राहत है। उन्होंने निर्देश दिये कि गेहूँ की बम्पर आवक को देखते हुए प्रदेश में गेहूँ उपार्जन के लिये निर्धारित लक्ष्य 100 लाख मीट्रिक टन से अधिक लगभग 100 लाख 10 हजार मीट्रिक टन के उपार्जन की व्यवस्था की जाये।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि गेहूँ उपार्जन के साथ ही उसका त्वरित गति से परिवहन एवं भण्डारण भी सराहनीय है। उपार्जित गेहूँ में से 72 लाख 80 हजार मीट्रिक टन की मात्रा का परिवहन एवं भण्डारण कराया जा चुका है। उपार्जन के अंतर्गत 10 लाख किसानों को लगभग 10 हजार करोड़ रुपये का भुगतान किया जा चुका है।


अन्य राज्यों की स्थिति


अन्य राज्यों में इस वर्ष गेहूँ उपार्जन के अंतर्गत अभी तक राजस्थान में 6 लाख 49 हजार 440 मी. टन, उत्तराखण्ड में 25 हजार 689 मी. टन, चंडीगढ़ में 10 हजार 953 मी. टन, दिल्ली में 18 मी. टन, गुजरात में 14 हजार 610 मी. टन, हिमाचल प्रदेश में 2457 मी. टन तथा जम्मू-कश्मीर में 11 हजार मी. टन गेहूँ का अभी तक उपार्जन किया गया है।


गत 9 वर्षों की स्थिति


प्रदेश में वर्ष 2013-14 में 63 लाख 53 हजार मी. टन, वर्ष 2014-15 में 72 लाख 1 हजार मी. टन, वर्ष 2015-16 में 73 लाख 10 हजार मी. टन, वर्ष 2016-17 में 39 लाख 91 हजार मी. टन, वर्ष 2017-18 में 67 लाख 25 हजार मी. टन, वर्ष 2018-19 में 73 लाख 16 हजार मी. टन तथा वर्ष 2019-20 में 73 लाख 69 हजार मी. टन गेहूँ का समर्थन मूल्य पर उपार्जन किया गया। यहाँ यह भी उल्लेखनीय है कि इन वर्षों में उक्त कार्य पूरी उपार्जन अवधि लगभग 50 दिन में किया गया था, जबकि इस वर्ष खरीदी प्रारंभ होने के एक महीने की अवधि में ही इससे अधिक गेहूँ का उपार्जन किया गया है।


Bkk News


Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar


Comments

Popular posts from this blog

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी. ए. एम. एस. प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी

आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर द्वारा आयोजित बी ए एम एस प्रथम वर्ष एवं तृतीय वर्ष में छात्राओं ने बाजी मारी शासकीय धन्वंतरी आयुर्वेद उज्जैन में महाविद्यालय बी ए एम एस प्रथम वर्ष नेहा गोयल प्रथम, प्रगति चौहान द्वितीय स्थान, दीपाली गुज़र तृतीय स्थान. इसी प्रकार बी ए एम एस तृतीय वर्ष गरिमा सिसोदिया प्रथम स्थान, द्वितीय स्थान पर आकांक्षा सूर्यवंशी एवं तृतीय स्थान पर स्नेहा अलवानी ने बाजी मारी. इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त अध्यापक एवं प्रधानाचार्य द्वारा छात्राओं को बधाई दी और महाविद्यालय में हर्ष व्याप्त है उक्त जानकारी महाविद्यालय के मीडिया प्रभारी डॉ प्रकाश जोशी, डा आशीष शर्मा छात्र कक्ष प्रभारी द्वारा दी गई. 

श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ, दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति

■ श्री खाटू श्याम जी के दर्शन 11 नवम्बर, 2020 से पुनः प्रारम्भ ■ दर्शन करने के लिए लेना होगी ऑनलाइन अनुमति श्री श्याम मन्दिर कमेटी (रजि.),  खाटू श्यामजी, जिला--सीकर (राजस्थान) 332602   फोन नम्बर : 01576-231182                    01576-231482 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 #जय_श्री_श्याम  #आम #सूचना   दर्शनार्थियों की भावना एवं कोविड-19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए सर्वेश्वर श्याम प्रभु के दर्शन बुधवार दिनांक 11-11-2020 से पुनः खोले जा रहे है । कोविड 19 के संक्रमण के प्रसार को दृष्टिगत रखते हुए गृहमंत्रालय द्वारा निर्धारित गाइड लाइन के अधीन मंदिर के पट खोले जाएंगे । ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया 11-11-2020 से चालू होंगी । दर्शनार्थी भीड़ एवं असुविधा से बचने के लिए   https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ पोर्टल पर अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते है ।  नियमानुसार सूचित हो और व्यवस्था बनाने में सहयोग करे। श्री खाटू श्याम जी के दर्शन करने के लिए, ऑनलाइन आवेदन करें.. 👇  https://shrishyamdarshan.in/darshan-booking/ 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 साद

विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा सितंबर में आयोजित परीक्षाओं के लिए उत्तर पुस्तिका संग्रहण केंद्रों की सूची जारी

उज्जैन। स्नातक एवं स्नातकोत्तर अंतिम वर्ष या अंतिम सेमेस्टर की ओपन बुक पद्धति से होने वाली परीक्षाओं की उत्तर पुस्तिकाओं के संग्रहण केंद्रों की सूची विक्रम विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर अपलोड कर दी गई है। संपूर्ण परिक्षेत्र के 7 जिलों में कुल 395 संग्रहण केंद्र बनाए गए हैं। कुलानुशासक, डॉ. शैलेंद्र कुमार शर्मा जी ने जानकारी देते हुए बताया कि, विद्यार्थीगण विश्वविद्यालय की वेबसाइट से संग्रहण केंद्रों की सूची देख सकते हैं। http://vikramuniv.ac.in/examination-notification/ सूची संलग्न दी जा रही है।