Skip to main content

कोरोना से उपजे आर्थिक संकट से उबरने बदले श्रम कानून

मध्यप्रदेश ने प्रस्तुत किया उदाहरण


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने की औद्योगिक संगठनों से बातचीत 


भोपाल : मंगलवार, मई 5, 2020, 21:00 IST


मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि कोरोना संकट के संदर्भ में औद्योगिक गतिविधियों को बल देने के लिए राज्य सरकार प्रत्‍येक आवश्यक कदम उठाएगी। मध्यप्रदेश में नए निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए सभी श्रेणियों के उद्योगों को आवश्यक रियायतें दी जाएंगी। राज्य सरकार ने श्रम कानूनों में संशोधन की पहल भी इसी उद्देश्य से की है। मुख्यमंत्री श्री चौहान आज मंत्रालय में वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से औद्योगिक संगठनों के प्रतिनिधियों के साथ चर्चा कर रहे थे। इस चर्चा में अनेक औद्योगिक संगठनों ने मध्यप्रदेश सरकार की श्रम कानून बदलने की पहल को क्रांतिकारी बताते हुए इसे अन्य राज्यों के लिए उदाहरण बताया। 


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि विश्वव्यापी कोरोना के संकट के कारण सिर्फ शरीर को कष्ट नहीं हुआ है, बल्कि कोरोना ने अर्थव्यवस्था को भी बहुत प्रभावित किया है। इस संकट को अवसर में बदलने के लिए इस सप्ताह निरंतर की गई एक्सरसाइज के फलस्वरूप कुछ श्रम कानून बदले गए हैं। जिनकी स्वीकृति भारत सरकार से प्राप्त करना है, वे प्रक्रिया में हैं। इन सभी प्रयासों से कारखानों के प्रबंधन जो सुविधाएं प्राप्त करेंगे उनसे अर्थव्यवस्था में सुधार का कार्य संभव होगा। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि औद्योगिक संगठन के पदाधिकारियों के सुझावों पर राज्य सरकार आवश्यक कदम उठाएगी।


मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी का कहना है कि जान भी है और जहान भी है। मध्यप्रदेश में अगले एक हजार दिन तक बहुत से श्रम कानून शिथिल किए जाएंगे। प्रमुख रूप से कारखाना अधिनियम 1948 के प्रावधानों को शिथिल किया जाएगा। कारखानों में थर्ड पार्टी इंस्पेक्शन का प्रावधान रहेगा। रजिस्टर से मुक्ति और कारखानों में शिफ्ट में संशोधन का अधिकार कारखानों को होगा। 


श्री चौहान ने उद्योगपतियों से कहा कि अर्थव्यवस्था कैसे पटरी पर आए, इसके प्रयास सभी को मिलजुलकर करने हैं। हम पार्टनर हैं, साथी हैं, इस नाते निर्माण क्षेत्र, रियल स्टेट, व्यापार, वाणिज्य सभी का विकास हो, यह व्यवस्था करनी है।


किसने क्या कहा


श्री दिनेश पाटीदार (फिक्की) : आप निवेश के लिए लेबर लॉ में जो बदलाव कर रहे हैं, वह सराहनीय हैं। हम सहयोग करेंगे। निश्चित ही राज्य में नया निवेश आएगा। प्रदेश में बिना भीड़ के गेहूं खरीदने का कार्य अच्छा हो रहा है। 


श्री अनुराग श्रीवास्तव (सीआईआई) : आप अच्छा कार्य कर रहे हैं। सिचुएशन तो टफ है। नए उद्योगों के लिए रियायत देने की आपकी कोशिश स्वागत योग्य है। कॉनफेडेरेशन आफ इंडियन इण्डस्ट्री द्वारा कुछ सुझाव आपको पत्र द्वारा अवश्य देंगे। 


श्री महेश गुप्ता और श्री अरुण सोनी (लघु उद्योग भारती) : ऐसे उद्योग जो निरंतर चलते हैं, उनकी अलग समस्या हैं। कुछ शुल्क घटाए जाएं जिससे राहत मिलेगी। 


श्री वासिक हुसैन (CREDAI) : वैसे भी रियल स्टेट बुरे दौर से गुजर रहा था। मांग काफी कमजोर है। यदि तीन-चार माह स्टाम्प ड्यूटी में छूट मिल जाएं तो लोगों को आकर्षित किया जा सकेगा। डायवर्शन और भूभाटक शुल्क में भी सहायता की जरूरत है।


श्री कुणाल ज्ञानी (पीएचडी चेम्बर आफ कॉमर्स एंड इण्डस्ट्री) : लीज रेंट, मेंटेनेंस, डेफर कर दें इस साल। भारत सरकार के श्रम मंत्रालय से ईएसआई (कर्मचारी राज्य बीमा योजना) से जुड़े वेजेस के भुगतान मिल जाए तो राहत हो जाएगी। 


श्री अखिलेश राठी और श्री श्रेयस्कर चौधरी (मध्यप्रदेश टेक्सटाइल्स मिल्स एसोसिएशन) : कृषि के बाद टेक्सटाइल्स एक बड़ा उद्योग है। हम 12 घण्टे की शिफ्ट लागू कर रहे हैं। हम श्रमिकों का पूरा ख्याल रख रहे हैं। एक अनुरोध यह है कि इस वर्ष महंगाई भत्ता आदि न बढ़ाया जाए। 


श्री परेश चावला (इंडियन ड्रग मेन्यूफेक्चरर्स) : करीब 25 प्रतिशत कम प्रोडक्शन हुआ है। समस्याएं तो हैं। एक नीति तय हो कि फैक्ट्री में यदि कोरोना प्रभावित वर्कर है तो उसके विरूद्ध कार्रवाई न की जाए। 


श्री हृदेश किरार (दलित इंडियन चेम्बर्स ऑफ कॉमर्स) : एक स्पेशल पैकेज दिया जाए, मेन्यूफेक्चरिंग सेक्टर में सभी जिलों में लाभ दिया जाए। 


श्री अविनाश सेठी और श्री गौरव हाजरा (नेसकॉम)  : आय.टी. कंपनियाँ अच्छा रोजगार देती हैं। आज भी ये बढ़ती हुई इण्डस्ट्री है। रिकवर होने में समय तो लगेगा। पूरे प्रदेश में आय.टी. पार्क हैं। फिक्स चार्जेस नहीं लगेंगे। यह अच्छा निर्णय है। रेंटल सब्सिडी एक वर्ष बढ़ाई जाना चाहिए। रात्रि शिफ्ट की अनुमति प्रदान की जाए।


श्री गौरव तनेजा (प्रमुख उद्योगपति) : वैश्विक परिदृश्य की बात करे तो आज जापान, कोरिया और अमेरिका, चाइना को पीछे छोड़ना चाहते हैं। भारत को भी इस अवसर का लाभ लेना चाहिए। अधोसंरचना क्षेत्र को मजबूत बनाने की आवश्यकता है। इलेक्ट्रानिक मेन्यूफेक्चरिंग और नेनो टेक्नोलॉजी पूरे संसार में प्रभावित हुई है। अब ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के तहत कुछ प्रक्रियाएं सरल बनें। मध्यप्रदेश सरकार कुछ उद्योगों को एक -डेढ़ साल रियायतें प्रदान कर अन्य राज्यों को दिशा दे सकती है। 


Bkk News


Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar


Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

केबिनेट मंत्री का मिला दर्जा निगम, मंडल, बोर्ड तथा प्राधिकरण के अध्यक्षों को, उपाध्यक्षों को मिला राज्य मंत्री का दर्जा

भोपाल : बुधवार, दिसम्बर 29, 2021 - मध्यप्रदेश शासन ने निगम, मण्डल, बोर्ड और प्राधिकरण के नव-नियुक्त अध्यक्षों को केबिनेट मंत्री का दर्जा प्रदान करने के आदेश जारी कर दिये हैं। केबिनेट मंत्री का दर्जा उनके कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से प्राप्त होगा। इसी प्रकार निगम, मण्डल, बोर्ड और प्राधिकरण के नव-नियुक्त उपाध्यक्षों को राज्य मंत्री का दर्जा प्रदान करने के आदेश भी जारी हो गये हैं। यह भी संबंधित नव-नियुक्त उपाध्यक्षों को उनके कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से प्राप्त होगा। मध्यप्रदेश राज्य शासन ने बुधवार, 29 दिसम्बर 2021 को श्री शैलेन्द्र बरूआ मध्यप्रदेश पाठ्य-पुस्तक निगम, श्री शैलेन्द्र शर्मा मध्यप्रदेश राज्य कौशल विकास एवं रोजगार निर्माण बोर्ड, श्री जितेन्द्र लिटौरिया मध्यप्रदेश खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड, श्रीमती इमरती देवी मध्यप्रदेश लघु उद्योग निगम लिमिटेड, श्री एंदल सिंह कंषाना मध्यप्रदेश स्टेट एग्रो इंडस्ट्रीज डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड, श्री गिर्राज दण्डोतिया मध्यप्रदेश ऊर्जा विकास निगम, श्री रणवीर जाटव संत रविदास मध्यप्रदेश हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम लिमिटेड, श्री जसवंत