Skip to main content

कलेक्टर ने जनरल प्रेक्टिशनर, फेमिली फिजिशियंस के क्लिनिक्स को निर्धारित शर्तों के अधीन खोलने के निर्देश दिये

उज्जैन 26 मई। कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी श्री आशीष सिंह ने द एपिडेमिक डिजिज एक्ट-1897 की धारा 2.3 एवं 4 के तहत प्रदत्त अधिकारों के तहत उज्जैन शहर में कोरोना संक्रमण से निजात पाने के लिये एवं उज्जैन शहर के निवासियों के समुचित इलाज के लिये उज्जैन जिले में नागरिकों की सुविधा व सामान्य बीमारियों से पीड़ित जनता के समुचित इलाज के लिये जनरल प्रेक्टिशनर, फेमिली फिजिशियंस (एलोपैथिक एवं आयुष) के क्लिनिक को निर्धारित शर्तों का पालन करते हुए खोलने के आदेश जारी किये हैं। कलेक्टर ने कहा है कि आपदा प्रबंधन अधिनियम-2005 की धारा-2, म.प्र.डिजिज कोविड-19 रेगुलेशन-2020 के प्रावधानों के बिन्दु क्रमांक-3 एवं 4 तथा आपदा प्रबंधन अधिनियम-2005 की धारा 33 एवं 34 के तहत जारी किये गये निर्देशों का पालन किया जाना अनिवार्य होगा। आदेश का उल्लंघन द एपिडेमिक डिजिज एक्ट-1897 के सुसंगत प्रावधान एवं अन्य प्रावधानों के तहत अपराध की श्रेणी में माना जायेगा।


कलेक्टर द्वारा जारी किये गये आदेश अनुसार जनरल प्रेक्टिशनर्स, फेमिली फिजिशियंस के क्लिनिक को निर्धारित शर्तों का पालन करते हुए खोला जायेगा। निर्धारित शर्तें इस प्रकार हैं- कंटेनमेंट एरिया में कोई भी क्लिनिक नहीं खोलेगा, न ही कंटेनमेंट एरिया में रहने वाला व्यक्ति क्लिनिक में चिकित्सक या कर्मचारी हो सकेगा। यदि कोई पेशेंट कोविड पॉजीटिव निकलता है तो तुरन्त ही स्वास्थ्य विभाग को इसकी सूचना देना अनिवार्य होगा। पूर्व में अपाइंटमेंट फोन के माध्यम से देने का प्रयास किया जाये, ताकि भीड़ एकत्रित न हो।


सभी जनरल प्रेक्टिशनर्स एवं फेमिली फिजिशियंस प्रतिदिन कोविड-19 से सम्बन्धित लक्षण सहित पेशेंट के नाम, मोबाइल नम्बर, ईमेल, मरीज के लक्षण एवं पते की सूची बनायेंगे और स्वास्थ्य विभाग को भेजेंगे। साथ ही सम्बन्धित एप पर भी जानकारी दर्ज करेंगे। सभी एन-95 ट्रिपल सर्जिकल मास्क, फेसशिल्ड, हैंड ग्लब्ज का नियमित उपयोग करेंगे। प्रत्येक पेशेंट को प्रवेश पर सेनीटाइज करें, थर्मल गन से बुखार देखें, यह सुनिश्चित किया जाये कि पेशेंट के साथ केवल एक ही साथी रहे। वेटिंग रूम में एक समय में अधिकतम चार पेशेंट्स मास्क लगाकर बैठे हों, जिनमें दो मीटर से अधिक की दूरी बनाई रखी जाये। एसी को अत्यावश्यक होने पर ही चलाया जाये, वह भी 25 से 27 डिग्री और 40 से 70 प्रतिशत हुमिडिटी पर। पल्स ऑक्सीमीटर का उपयोग अनिवार्य रूप से किया जाये एवं हर उपयोग के पश्चात उसको सेनीटाइज किया जाये। एरोसोल बनाने वाली नेबुलाइजर जैसी क्रियाओं का उपयोग न किया जाये। वेटिंग रूम में किताब, अखबार, खिलौने जैसी सामग्री न रखी जाये।


क्लिनिक्स में सफाई एवं संक्रमण दूर करने के लिये एक प्रतिशत सोडियम हाइपोक्लोराइड या 70 प्रतिशत एल्कोहल का उपयोग किया जाये। संक्रमित अपशिष्ट निपटान के लिये प्रोटाकाल अनुसार थैली का उपयोग किया जाये एवं यह अपशिष्ट पूर्व में तयशुदा एजेन्सी को ही सौंपा जाये। सभी क्लिनिक्स में जमीन, टायलेट को दो बार साफ किया जाये। पेशेंट के बेड, टेबल, बीपी इंस्ट्रूमेंट, स्टेथो, पेन, कॉलबेल, बिजली के स्वीच, रेलिंग व अन्य सामग्री साफ की जाये। वेटिंग रूम में हाथों की सफाई, मुंह पर कपड़ा लगाना, खांसने थूकने पर सावधानी के पोस्टर लगाये जायें। ओपीडी के समय को कम करने के लिये प्रत्येक पेशेंट को 15 मिनिट से अधिक समय न दिया जाये। डॉक्टर्स से कहा गया है कि हर बार अलग प्रीस्क्रप्शन बनाया जाये। पेशेंट की कागज रिपोर्ट को कम से कम हाथ लगायें। यथासंभव डिजिटल पेमेंट का उपयोग किया जाये। ऐसे चिकित्सक को 60 वर्ष से अधिक आयु के हों व जिन्हें डायबिटिज, हृदय रोग, किडनी, कैंसर, स्टेरॉइड लगने वाली अन्य बीमारी हो वे अपने सुविधा, सुरक्षा और क्षमता अनुरूप पेशेंट को देखें। क्लिनिक के कर्मचारी के बीमार होने की स्थिति में उन्हें काम पर न आने दें। क्लिनिक पर देखा गया पेशेंट यदि कोविड पॉजीटिव मिलता है तो क्लिनिक छह घंटे बन्द रखकर सेनीटाइज किया जाये।



फ्लू पेशेंट के लिये प्रोटोकाल निर्धारित


दोपहर 12 से 1 के बीच का समय निर्धारित


कलेक्टर द्वारा जारी किये गये आदेश के अनुसार फ्लू पेशेंट्स के लिये पृथक से प्रोटोकाल जारी किया गया है। फ्लू पेशेंट को देखने के लिये दोपहर 12 से एक बजे का समय निर्धारित किया गया है। जारी किये गये आदेश के अनुसार 10 दिन से कम अवधि के खांसी, बुखार और श्वास में मामूली तकलीफ के पेशेंट को जिनका एसपीओ2 94 प्रतिशत से अधिक है और जिनमें कोविड की शंका नहीं है, उनको आवश्यक होने पर सामान्य जांचें कराकर कुछ एंटिबायोटिक्स दिये जा सकते हैं। तकलीफ होने पर चिन्हित फीवर क्लिनिक में भेजा जाये। साथ ही कहा गया है कि कंटेनमेंट क्षेत्र के आईएलआई (इंफ्लुएंजा लाईक इलनेस) पेशेंट्स को सेम्पलिंग हेतु माधव नगर अस्पताल जिला चिकित्सालय में भेजा जाये। नॉन कंटेनमेंट क्षेत्र के आईएलआई पेशेंट्स को क्लिनिक पर आवश्यक दवाईयां उपलब्ध कराई जायें। इसी तरह सारी (SARI - सीवियर एक्यूट रेस्परेटरी इलनेस) पेशेंट को अनिवार्यत: अस्पताल में हॉस्पिटलाईजेशन करने के निर्देश दिये गये हैं। पॉजीटिव पेशेंट को तुरन्त कोविड हेतु चिन्हांकित अस्पताल में भेजा जाना होगा। कलेक्टर ने सभी चिकित्सकों से दिये गये निर्देशों का पालन सुनिश्चित करने के लिये कहा है। सम्बन्धित एसडीएम द्वारा समय-समय पर इस सम्बन्ध में निरीक्षण किया जायेगा एवं निर्देशों का उल्लंघन पाये जाने पर वैधानिक कार्यवाही की जायेगी।


Bkk News


Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar


Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

हिंदी कथा साहित्य / संपादक प्रो. शैलेंद्र कुमार शर्मा

हिंदी कथा साहित्य की भूमिका और संपादकीय के अंश : किस्से - कहानियों, कथा - गाथाओं के प्रति मनुष्य की रुचि सहस्राब्दियों पूर्व से रही है, लेकिन उपन्यास या नॉवेल और कहानी या शार्ट स्टोरी के रूप में इनका विकास पिछली दो सदियों की महत्त्वपूर्ण उपलब्धि है। हिंदी में नए रूप में कहानी एवं उपन्यास  विधा का आविर्भाव बीसवीं शताब्दी में हुआ है। वैसे संस्कृत का कथा - साहित्य अखिल विश्व के कथा - साहित्य का जन्मदाता माना जाता है। लोक एवं जनजातीय साहित्य में कथा – वार्ता की सुदीर्घ परम्परा रही है। इधर आधुनिक हिन्दी कथा साहित्य का विकास संस्कृत - कथा - साहित्य अथवा लोक एवं जनजातीय कथाओं की समृद्ध परम्परा से न होकर, पाश्चात्य कथा साहित्य, विशेषतया अंग्रेजी साहित्य के प्रभाव रूप में हुआ है।  कहानी कथा - साहित्य का एक अन्यतम भेद और उपन्यास से अधिक लोकप्रिय साहित्य रूप है। मनुष्य के जन्म के साथ ही साथ कहानी का भी जन्म हुआ और कहानी कहना - सुनना मानव का स्वभाव बन गया। सभी प्रकार के समुदायों में कहानियाँ पाई जाती हैं। हमारे देश में तो कहानियों की सुदीर्घ और समृद्ध परंपरा रही है। वेद - उपनिषदों में वर्णित यम-य

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक