Skip to main content

डॉ. अम्बेडकर आधुनिक युग के सामाजिक शिल्पकार हैं : प्रो. आशा शुक्ला


उज्जैन। डॉ. अम्बेडकर आधुनिक युग के सामाजिक शिल्पकार के रूप में प्रतिष्ठित हैं। डॉ. अम्बेडकर एक समाज वैज्ञानिक थे। उन्होंने आर्थिक, राजनैतिक, विधिक एवं सामाजिक तथ्यों का विवेचन प्रत्यक्ष अनुभव एवं तटस्थ विश्लेषण के आधार पर किया। डॉ. अम्बेडकर ने परम्परागत सामाजिक ढांचे को संशोधित करने वाली वैचारिकी को मानवीय आधार पर तर्कसंगत समीक्षा की है। जिसमें लोकतांत्रिक समाजवाद की अवधारणा भेदभाव रहित समाज की स्थापना है। जिसमें मानव मानद का सम्मान हो। उनकी समाजवादी अवधारणा मानवता से संचालित होती है। आज समुदायवादी मानसिकता से ऊपर उठकर मानवतावादी मानसिकता की आवश्यकता है। आधुनिक लोकतांत्रिक सामाजिक ढांचे को पारिवारिक व सामाजिक समानता से स्थापित किया है।

 

उक्त विचार डॉ. बाबा साहेब अम्बेडकर सामाजिक विज्ञान विश्वविद्यालय की कुलपति प्रो. आशा शुक्ला ने डॉ. अम्बेडकर पीठ द्वारा आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय वेबिनार के समापन सत्र की अध्यक्षता करते हुए व्यक्त किए।

 

प्रमुख आतिथ्य विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलानुशासक प्रो. शैलेन्द्र शर्मा ने अपने उद्बोधन में कहा कि लोकतांत्रिक समाजवाद गहरे सामाजिक सांस्कृतिक भावना के बिना संभव नहीं है। गणराज्य की पुरातन अवधारणा अब नए परिवेश में परिभाषित हो रही है, जिसमें अखंड राष्ट्रीयता का भाव है। इसमें सबकी समानता पर केन्द्रित व्यवस्था हो। डॉ. अम्बेडकर का समानता, स्वतंत्रता और बंधुत्व का विचार ही लोकतांत्रिक समाजवाद का मूल है। सामाजिक स्वतंत्रता तभी संभव हो सकेगी, जब जाति दंश की समाप्ति होगी। डॉ. अम्बेडकर के प्रजातंत्र जीवन पद्धति है। उनके अनुसार राष्ट्र समाज सेवा का साधन है, जिसमें मिलजुल कर, सुख-दुख बांटकर रहना होगा। आर्थिक विषमता को समाप्त कर ही डॉ. अम्बेडकर के लोकतांत्रिक समाजवाद की स्थापना करना होगा।

 

आज के तकनीकी सत्रों में जिन विषय विशेषज्ञों व विचारकों ने अपने विचारों से वेबिनार सफल बनाया, उनमें प्रमुख रूप से अहमदाबाद गुजरात के प्रो. प्रदीप प्रजापत, डॉ. संभाजी काले कोल्हापुर महाराष्ट्र, डॉ. हुलेश मांझी पटना बिहार, डॉ. वी. शीरिषा सामाजिक अपवर्जन व समावेशी विभाग जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, नई दिल्ली, डॉ. जितेन्द्र तिवारी वाराणसी, प्रो. जी.सी. खेमसरा मंदसौर, डॉ. मनु गौराहा उज्जैन, डॉ. गोरखनाथ पांडुरंग राव फालसे बीड, डॉ. डी.डी. शेखर मेदमवार उज्जैन, डॉ. मनोज कुमार गुप्ता बानीज महू, प्रो. सुनील गोयल अजंड (म.प्र.)। शोधार्थियों ने भी अपने विचार रखें। इनमें उड़ीसा की सुश्री मंजूषा मिश्रा, नार्थ ईस्टर्न विश्वविद्यालय, बारीपारा के साबूदेनु सेखर मिश्रा, जालौन (उ.प्र.) के प्रदीप कुमार, उज्जैन के धीरेन्द्र करवाल, कोल्हापुर के दयानंद राजा चिगलगांवकर, शिलांग से डॉ. संजीव कमार बरगेटा, डॉ. महेन्द्र यादव, जयपुर से डॉ. सुनीता सैनी। डॉ. अम्बेडकर पीठ द्वारा आयोजित राष्ट्रीय वेबिनार में नई दिल्ली, उत्तरप्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटका, तमिलनाडु, बिहार, गुजरात, झारखंड, राजस्थान, उड़ीसा, पश्चिम बंगाल, शिलांग, छत्तीसगढ़, केरल और म.प्र. के १२५ प्रतिभागियों ने सहभागिता की। ३२ विषय विशेषज्ञों, विचारकों ने अपने विचारों से वेबिनार को सफल बनाया। कुल ई-पंजीयन १७२ का हुआ था। इसमें स्क्रीनिंग के बाद १२५ प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। उद्घाटन व समापन के साथ चार तकनीकी सत्र सम्पन्न हुए।

 

राष्ट्रीय वेबिनार का सम्पूर्ण संयोजन, संचालन शब्दाभिनंदन डॉ. अम्बेडकर पीठ के प्रभारी आचार्य डॉ. एस.के. मिश्रा ने किया। राष्ट्रीय वेबिनार का विशेष तकनीकी सहयोग व संचालन जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के रशियन स्टडीज के सहायक प्राध्यापक डॉ. संदीप पाण्डेय ने किया। तकनीकी सत्रों का संचालन व आभार शोध अधिकारी डॉ. निवेदिता वर्मा ने किया।

Bkk News


Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar


Comments

मध्यप्रदेश खबर

नेशनल न्यूज़

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्ट पहलू उजागर

कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति का उत्कृष्ट पुरस्कार

  उज्जैन : मध्यप्रदेश में नई शिक्षा नीति का सर्वप्रथम क्रियान्वयन करने पर जबलपुर में आयोजित राष्ट्रीय सेमिनार में विक्रम विश्वविद्यालय, उज्जैन के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षा नीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। एनवायरनमेंट एवं सोशल वेलफेयर सोसाइटी, खजुराहो एवं प्राणीशास्त्र एवं जैवप्रौद्योगिकी विभाग, शासकीय विज्ञान स्नातकोत्तर महाविद्यालय, जबलपुर के संयुक्त तत्वाधान में आयोजन दो दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का आयोजन जबलपुर में किया गया। इस अवसर पर मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति के सर्वप्रथम क्रियान्वयन के लिए विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय को नई शिक्षानीति में उत्कृष्ट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो अखिलेश कुमार पांडेय की प्रशासनिक कार्यकुशलता से आज विश्वविद्यालय नई शिक्षा का क्रियान्वयन करने वाला प्रदेश का पहला विश्वविद्यालय है। इस उपलब्धि के लिए विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ प्रशांत पुराणिक एवं कुलानुशासक प्रो शैलेन्द्र कुमार शर्मा ने कुलपति प्रो पांडेय के प्रति आभार व्यक्त करते हुए उन्हें हार्दिक

केबिनेट मंत्री का मिला दर्जा निगम, मंडल, बोर्ड तथा प्राधिकरण के अध्यक्षों को, उपाध्यक्षों को मिला राज्य मंत्री का दर्जा

भोपाल : बुधवार, दिसम्बर 29, 2021 - मध्यप्रदेश शासन ने निगम, मण्डल, बोर्ड और प्राधिकरण के नव-नियुक्त अध्यक्षों को केबिनेट मंत्री का दर्जा प्रदान करने के आदेश जारी कर दिये हैं। केबिनेट मंत्री का दर्जा उनके कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से प्राप्त होगा। इसी प्रकार निगम, मण्डल, बोर्ड और प्राधिकरण के नव-नियुक्त उपाध्यक्षों को राज्य मंत्री का दर्जा प्रदान करने के आदेश भी जारी हो गये हैं। यह भी संबंधित नव-नियुक्त उपाध्यक्षों को उनके कार्यभार ग्रहण करने की तिथि से प्राप्त होगा। मध्यप्रदेश राज्य शासन ने बुधवार, 29 दिसम्बर 2021 को श्री शैलेन्द्र बरूआ मध्यप्रदेश पाठ्य-पुस्तक निगम, श्री शैलेन्द्र शर्मा मध्यप्रदेश राज्य कौशल विकास एवं रोजगार निर्माण बोर्ड, श्री जितेन्द्र लिटौरिया मध्यप्रदेश खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड, श्रीमती इमरती देवी मध्यप्रदेश लघु उद्योग निगम लिमिटेड, श्री एंदल सिंह कंषाना मध्यप्रदेश स्टेट एग्रो इंडस्ट्रीज डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड, श्री गिर्राज दण्डोतिया मध्यप्रदेश ऊर्जा विकास निगम, श्री रणवीर जाटव संत रविदास मध्यप्रदेश हस्तशिल्प एवं हथकरघा विकास निगम लिमिटेड, श्री जसवंत