Skip to main content

‘लाइफलाइन उड़ानों’ ने जोरहाट, लेंगपुई, दीमापुर, इम्फाल और अन्य पूर्वोत्तर क्षेत्रों में चिकित्सीय सामग्री की व्‍यापक आपूर्ति की

नागरिक उड्डयन मंत्रालय


अग्रिम तौर पर योजना बनाने के साथ-साथ परिचालनों की समीक्षा के लिए हर दिन हो रही हैं नागरिक उड्डयन मंत्रालय की चिंतन और मंथन बैठकें

152 ‘लाइफलाइन उड़ानों’ ने पूरे भारत में 200 टन से भी अधिक चिकित्सीय सामग्री पहुंचाई



नागरिक उड्डयन मंत्रालय ऑनलाइन बैठकों और वर्चुअल वॉर रूम के माध्यम से अग्रिम तौर पर योजनाएं बना रहा है, ताकि आवश्‍यक वस्‍तुओं के आपूर्ति पक्ष को उनके मांग पक्ष से जोड़ने में कोई भी कसर न रह जाए और इसके साथ ही कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में विमानन क्षेत्र के विभिन्न संसाधनों का इष्‍टतम उपयोग किया जा सके।


नागरिक उड्डयन मंत्रालय पूरे दिन की योजना बनाने और पिछले दिन किए गए कार्य की प्रगति की समीक्षा करने के लिए हर दिन प्रात: 8 बजे चिंतन बैठक आयोजित करता है। इसके अलावा, हर दिन अपराह्न 3 बजे मंथन बैठक आयोजित की जाती है, ताकि पूरे दिन के लिए बनाई गई योजना के कार्यान्‍वयन की समीक्षा करने के साथ-साथ यह भी पता लगाया जा सके कि क्या किसी भी स्तर पर कोई संशोधन करने की आवश्यकता है। इस बैठक में संसाधनों की आवश्यकता के आकलन और वितरण के लिए आगे की योजना भी बनाई जाती है।


नागरिक उड्डयन मंत्रालय की ‘लाइफलाइन उड़ान’ पहल के तहत दूरदराज और पहाड़ी क्षेत्रों सहित भारत के विभिन्न हिस्सों में चिकित्सीय सामग्री (मेडिकल कार्गो) को ले जाने के लिए देश भर में अब तक 152 कार्गो या मालवाहक उड़ानों का संचालन किया गया है। एयर इंडिया, एलायंस एयर, आईएएफ और निजी एयरलाइंस के सहयोग से लॉकडाउन अवधि के दौरान अब तक 200 टन से भी अधिक चिकित्सीय सामग्री की आपूर्ति की गई है।


6 अप्रैल 2020 को लाइफलाइन उड़ानों ने कई पूर्वोत्तर क्षेत्रों के साथ-साथ मध्य और पूर्वी राज्यों में भी आईसीएमआर की किटों, एचएलएल की विभिन्‍न खेपों और अन्य आवश्यक माल या कार्गो की ढुलाई की है। इसका विवरण नीचे दिया गया है:


लाइफलाइन 1 (आईएएफ): दिल्ली- रांची- पटना - जोरहाट- लेंगपुई - इम्फाल - दीमापुर-गुवाहाटी ने गुवाहाटी के लिए आईसीएमआर की किटों की खेप (50 किलोग्राम), रेड क्रॉस सहित असम की खेप (800 किलो), मेघालय की खेप (672 किग्रा), मणिपुर की बची हुई खेप, नगालैंड की बची हुई खेप, डिब्रूगढ़ के लिए आईसीएमआर की किटों की खेप, मिजोरम की खेप (300 किलोग्राम), रांची की खेप (500 किलोग्राम) और पटना के लिए आईसीएमआर की किटों की खेप (50 किलोग्राम) पहुंचाई। 


लाइफलाइन 2 एलायंस एयर (एटीआर): दिल्ली-वाराणसी-रायपुर-हैदराबाद-दिल्ली ने वाराणसी के लिए आईसीएमआर की किटों की खेप (50 किलोग्राम), रायपुर के लिए आईसीएमआर किट (50 किलोग्राम), हैदराबाद के लिए आईसीएमआर किट (50 किलोग्राम), विजयवाड़ा के लिए आईसीएमआर किट (50 किलोग्राम) और हैदराबाद की खेप (1600 किलोग्राम) पहुंचाई।


लाइफलाइन 3 एयर इंडिया (ए 320): मुंबई-बेंगलुरू-चेन्नई-मुम्बई ने कपड़ा मंत्रालय की खेप, बेंगलुरू के लिए एचएलएल की खेप और चेन्नई के लिए एचएलएल की खेप पहुंचाई।


लाइफलाइन 4 स्पाइसजेट एसजी (7061): दिल्ली-चेन्नई ने चेन्नई के लिए आईसीएमआर की खेप पहुंचाई।


लाइफ लाइन 5 एआई चार्टर (ए 320): दिल्ली -देहरादून ने देहरादून के लिए आईसीएमआर की खेप पहुंचाई।


तिथि वार विवरण निम्नानुसार है:


 


















































































































































क्र.सं.



तिथि



एयर इंडिया



एलायंस



आईएएफ



इंडिगो



स्‍पाइसजेट



कुल उड़ानें संचालित



1



26.3.2020



02



--



-



-



02



04



2



27.3.2020



04



09



01



-



--



14



3



28.3.2020



04



08



-



06



--



18



4



29.3.2020



04



10



06



--



--



20



5



30.3.2020



04



-



03



--



--



07



6



31.3.2020



09



02



01



 



--



12



7



01.4.2020



03



03



04



--



-



10



8



02.4.2020



04



05



03



--



--



12



9



03.4.2020



08



--



02



--



--



10



10



04.4.2020



04



03



02



--



--



09



11



05.4.2020



--



--



16



--



--



16



12



06.4.2020



03



04



13



 



 



20



 



कुल उड़ानें



49



44



51



06



02



152



 


* एयर इंडिया और आईएएफ ने लद्दाख, कारगिल, दीमापुर, इम्फाल, गुवाहाटी, चेन्नई, अहमदाबाद, पटना, जोरहाट, लेंगपुई, मैसूरु, हैदराबाद, रांची, जम्मू, श्रीनगर, चंडीगढ़ और पोर्ट ब्लेयर के लिए आपस में सहयोग किया।



  • गुवाहाटीडिब्रूगढ़अगरतलाआइजोलदीमापुरइम्फालजोरहाटलेंगपुईमैसूरुकोयम्बटूरत्रिवेंद्रमभुवनेश्वररायपुररांचीश्रीनगरपोर्ट ब्लेयरपटनाकोचीनविजयवाड़ाअहमदाबादजम्मूकारगिललद्दाखचंडीगढ़ और गोवा में हवाई मार्गों से माल ढुलाई हुई।


 


















कुल किलोमीटर की दूरी तय की गई



1,32,029 किलोमीटर



06.04.2020 को कुल कार्गो माल की ढुलाई हुई


 



15.54 टन



 06.04.2020 तक कुल कार्गो माल की ढुलाई हुई


 




184.66 + 15.54 = 200.20 टन



 


अंतरराष्ट्रीय


 



  • शंघाई और दिल्ली के बीच एक हवाई पुल या संपर्क की स्थापना की गई। एयर इंडिया की पहली कार्गो उड़ान 4 अप्रैल 2020 को संचालित हुई और इसने 21 टन चिकित्सा उपकरणों की ढुलाई की है। एक और छोटी उड़ान हांगकांग के लिए संचालित की जा रही है। एयर इंडिया आवश्यकता के अनुसार आवश्‍यक चिकित्सा उपकरणों को हवाई मार्ग से ले जाने हेतु चीन के लिए विशेष निर्धारित कार्गो उड़ानों का संचालन करेगी।


 


निजी ऑपरेटर



  • घरेलू कार्गो ऑपरेटर; ब्लू डार्ट, स्पाइसजेट और इंडिगो वाणिज्यिक दृष्टि से कार्गो या मालवाहक उड़ानें संचालित कर रही हैं। स्पाइसजेट ने 24 मार्च से लेकर 6 अप्रैल 2020 तक 189 कार्गो उड़ानों का संचालन किया एवं 2,58,210 किलोमीटर की दूरी तय की और 1530.13 टन माल ढोया। इनमें से 53 उड़ानें दरअसल अंतरराष्ट्रीय कार्गो उड़ानें थीं। ब्लू डार्ट ने 25 मार्च से लेकर 6 अप्रैल 2020 तक 55114 किलोमीटर की दूरी तय करते हुए 58 घरेलू मालवाहक उड़ानें संचालित कीं और 862.2 टन माल ढोया। इसी तरह इंडिगो ने 3 - 4 अप्रैल, 2020 को 8 कार्गो उड़ानों का संचालन किया,  जिस दौरान 6103 किलोमीटर की दूरी तय की गई और 3.14 टन कार्गो ढोया गया।


 


Bkk News


Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर


Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets - http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar


Comments

मध्यप्रदेश समाचार

देश समाचार

Popular posts from this blog

आधे अधूरे - मोहन राकेश : पाठ और समीक्षाएँ | मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे : मध्यवर्गीय जीवन के बीच स्त्री पुरुष सम्बन्धों का रूपायन

  आधे अधूरे - मोहन राकेश : पीडीएफ और समीक्षाएँ |  Adhe Adhure - Mohan Rakesh : pdf & Reviews मोहन राकेश और उनका आधे अधूरे - प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा हिन्दी के बहुमुखी प्रतिभा संपन्न नाट्य लेखक और कथाकार मोहन राकेश का जन्म  8 जनवरी 1925 को अमृतसर, पंजाब में  हुआ। उन्होंने  पंजाब विश्वविद्यालय से हिन्दी और अंग्रेज़ी में एम ए उपाधि अर्जित की थी। उनकी नाट्य त्रयी -  आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस और आधे-अधूरे भारतीय नाट्य साहित्य की उपलब्धि के रूप में मान्य हैं।   उनके उपन्यास और  कहानियों में एक निरंतर विकास मिलता है, जिससे वे आधुनिक मनुष्य की नियति के निकट से निकटतर आते गए हैं।  उनकी खूबी यह थी कि वे कथा-शिल्प के महारथी थे और उनकी भाषा में गज़ब का सधाव ही नहीं, एक शास्त्रीय अनुशासन भी है। कहानी से लेकर उपन्यास तक उनकी कथा-भूमि शहरी मध्य वर्ग है। कुछ कहानियों में भारत-विभाजन की पीड़ा बहुत सशक्त रूप में अभिव्यक्त हुई है।  मोहन राकेश की कहानियां नई कहानी को एक अपूर्व देन के रूप में स्वीकार की जाती हैं। उनकी कहानियों में आधुनिक जीवन का कोई-न-कोई विशिष्

तृतीय पुण्य स्मरण... सादर प्रणाम ।

https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=1003309866744766&id=395226780886414 Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर Bekhabaron Ki Khabar - बेख़बरों की खबर Bkk News Bekhabaron Ki Khabar, magazine in Hindi by Radheshyam Chourasiya / Bekhabaron Ki Khabar: Read on mobile & tablets -  http://www.readwhere.com/publication/6480/Bekhabaron-ki-khabar

मालवी भाषा और साहित्य : प्रो शैलेंद्रकुमार शर्मा

MALVI BHASHA AUR SAHITYA: PROF. SHAILENDRAKUMAR SHARMA पुस्तक समीक्षा: डॉ श्वेता पंड्या Book Review : Dr. Shweta Pandya  मालवी भाषा एवं साहित्य के इतिहास की नई दिशा  लोक भाषा, लोक साहित्य और संस्कृति का मानव सभ्यता के विकास में अप्रतिम योगदान रहा है। भाषा मानव समुदाय में परस्पर सम्पर्क और अभिव्यक्ति का सशक्त माध्यम है। इसी प्रकार क्षेत्र-विशेष की भाषा एवं बोलियों का अपना महत्त्व होता है। भारतीय सभ्यता और संस्कृति से जुड़े विशाल वाङ्मय में मालवा प्रदेश, अपनी मालवी भाषा, साहित्य और संस्कृति के कारण महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यहाँ की भाषा एवं लोक-संस्कृति ने  अन्य क्षेत्रों पर प्रभाव डालते हुए अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है। मालवी भाषा और साहित्य के विशिष्ट विद्वानों में डॉ. शैलेन्द्रकुमार शर्मा का नाम बड़े आदर से लिया जाता है। प्रो. शर्मा हिन्दी आलोचना के आधुनिक परिदृश्य के विशिष्ट समीक्षकों में से एक हैं, जिन्होंने हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं के साथ-साथ मालवी भाषा, लोक एवं शिष्ट साहित्य और संस्कृति की परम्परा को आलोचित - विवेचित करने का महत्त्वपूर्ण एवं सार्थक प्रयास किया है। उनकी साहित्य